इस मंदिर के फर्श पर सोने मात्र से महिलाओं को हो जाती है संतान प्राप्ति

भारतीय संस्कृति में मान्यता रही है कि नि:संतान दंपति अगर मन्दिरों में मन्नत मांगे तो उन्हें संतान प्राप्ति हो जाती है। ऐसी ही मान्यता हिमांचल के मंडी जिले के सिमसा माता मंदिर के फर्श पर सोने से नि:संतान महिलाओं को आर्शीवाद स्वरूप संतान प्राप्ति हो जाती है। अपनी मान्यताओं के कारण यह मन्दिर संतान की चाहत रखने वाले उन तमाम दंपति के लिए आस्था का केन्द्र बना हुआ है जो किन्ही कारणवश मातृत्व सुख प्राप्त नहीं कर पाते।

जानिए कहां है सिमसा माता मंदिर-
हिमाचल प्रदेश के मंडी जिला की लड़भडोल तहसील के सिमस गांव में सिमसा माता का मंदिर स्थित है। अपनी मान्यताओं के चलते इस मंदिर के फर्श पर नि:संतान महिलाएं अपने डेरे जमाए रहतीं हैं। ऐसी महिलाएं मंदिर में रहकर कुछ दिन गुजारतीं हैं और सिमसा माता के स्वप्न में आने का इंतजार करतीं हैं। मान्यता है कि माता स्वप्न में आकर संतान प्राप्ती की ईच्छा रखने वाली महिलाओं को आशीर्वाद देतीं हैं। नवरात्रों के दिनों में यहां ऐसे श्रद्धालुओं की भीड़ बढ़ जाती है। मंदिर के पुजारियों के मुताबिक हिमाचल के अलावा पंजाब, हरियाणा और चंडीगढ़ से सैकड़ों महिलाओं अपनी मनोकामना के साथ माता के दरबार में आतीं हैं।

स्थानीय लोगों का भी माना है कि जो भी महिला पूरे विश्वास और श्रद्धा के साथ माता के मंदिर आकर फर्श पर डेरा जमाती है, उसे सिमसा माता स्वप्न में किसी न किसी स्वरूप में मां बनने का संकेत देती हैं। इतना ही नहीं महिला को इस बात का भी संकेत मिलता है कि उसकी होने वाली संतान बेटा होगी या बेटी। कई बार ऐसा भी होता है कि माता लोगों की ईच्छा को पूरा न करें लेकिन इसके संकेत भी वह स्वयं भी देतीं हैं।