अनियमित मासिक धर्म से बचने के ये हैं कारगर घरेलु उपाय

माहवारी महिलाओं के जीवन की एक प्राकृतिक प्रक्रिया है। इसका एक चक्र लगभग 28 दिनों का होता है। महिलाओं में कभी-कभार इसकी अनियमितता की शिकायत देखी जाती है जिसकी कई वजहें हो सकती हैं। ऐसे में मासिक धर्म समय पर नहीं होता। इसकी अनियमितता के कई कारण हो सकते हैं। महिला को यदि थायराइड की समस्या है या फिर उसे अन्य किसी तरह की बीमारी है तो मासिक धर्म में अनियमितता हो सकती है। अत्यधिक तनाव में रहने वाली महिला में मासिक धर्म के अनियमितता की समस्या पाई जाती है। महिलाओं के खान-पान में असंतुलन या फिर वजन घटने-बढ़ने के कारण भी इस तरह की समस्या होने की संभावना होती है।

महिलाओं में मासिक धर्म की अनियमितता होने पर कुछ लक्षण दिखाई देते हैं जिससे उनमें इस तरह की समस्या का पता लगाया जा सकता है। इस तरह की समस्या होने पर महिला के गर्भाशय में दर्द होना शुरु हो जाता है। मासिक धर्म के अनियमित होने पर महिलाओं को भूख कम लगती है, उनके शरीर में दर्द होता है तथा उसे अत्यधिक थकान भी महसूस होने लगती है। मासिक धर्म अगर ठीक समय पर न हो तो महिला के पेट में कब्ज तथा दस्त की भी समस्या उत्पन्न हो जाती है। इसके अलावा गर्भ में रक्त का थक्का बन जाना भी मासिक धर्म के अनियमित होने के लक्षण हैं।

अनियमित माहवारी में महिलाओं को कुछ घरेलू उपाय जरूर आजमाने चाहिए। आज हम आपको ऐसे ही कुछ उपाय बताने जा रहे हैं। माहवारी की अनियमितता से निपटने के लिए आपको एक गिलास गरम दूध के साथ 8-10 ग्राम अजवाइन का सेवन करना चाहिए। इससे काफी लाभ होगा। इसके अलावा 4-5 ग्राम दालचीनी का चूर्ण पानी के साथ रोजाना सेवन करने से भी माहवारी की समस्या से निजात मिलता है।इसके सेवन से इस दौरान शरीर में उठने वाला दर्द भी ठीक हो जाता है। राई के दानों का चूर्ण खाने के साथ नियमित रूप से लेने पर भी इस समस्या से निपटा जा सकता है। गाजर के रस का पानी के साथ सेवन करना भी ऐसी स्थिति में लाभदायक है।