मोदी मंत्रिमंडल से 11 मंत्रियों की होगी छुट्टी, 12 नए होंगे शामिल

 मोदी मंत्रिमंडल से 11 मंत्रियों की होगी छुट्टी, 12 नए होंगे शामिल

नई दिल्ली। गुरुवार की शाम राजीव प्रताप रूड़ी के इस्तीफे के साथ पुख्ता हुई प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कैबिनेट में फेरबदल की खबर ने सियासी गलियारे में नई गर्मी लाने का काम किया है। बताया जा रहा है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अपने मंत्रिमंडल के 11 मंत्रियों की छुट्टी करेंगे तो 12 नए चेहरों को मंत्रिमंडल में स्थान दिया जाएगा। नए चेहरों में 2 एनडीए में वापसी करने वाली जदयू के सांसद होंगे।

मिल रही जानकारी के मुताबिक जिन मंत्रियों की छुट्टी हुई है उनमें राजीव प्रताप रूडी, संजीव बालयान, रविशंकर प्रसाद, डॉ0 महेश शर्मा, कलराज मिश्रा, उमा भारती, निहालचंद, विजय गोयल, उपेन्द्र कुशवाहा, गिरिराज सिंह और निर्मला सीतारमण का नाम शामिल है।

{ यह भी पढ़ें:- कमेंटेटर ने कहा कि इस आॅस्ट्रेलियाई क्रिकेटर का बनाओ आधार कार्ड }

केन्द्रीय मंत्रिमंडल में शामिल किए जाने वाले नए चेहरों के रूप में भूपेन्द्र यादव, प्रेमकुमार धूमल, प्रहलाद जोशी, विनय सहस्त्रबुद्धे, सुरेश आंगड़ी, सतपाल सिंह, हेमंत विश्व शर्मा, हरीश द्विवेदी, अश्वनी चौबे और राम माधव का नाम आगे चल रहा है। जदयू की ओर से आरसीपी सिंह और अनिल साहनी के नाम पक्के माने जा रहे हैं।

इन मंत्रियों के विभागों में होगा फेरबदल —

{ यह भी पढ़ें:- पूर्व केन्द्रीय मंत्री ने मोदी समर्थकों को दी गाली, पीएम थे निशाना }

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अपनी कैबिनेट के मंत्रियों में भी फेरबदल कर सकते हैं। जिसमें पहला नाम सुरेश प्रभू का है। इसके अलावा अरुण जेटली की जिम्मे​दारियां कुछ कम की जा सकती हैं। पियूष गोयल को अतिरिक्त जिम्मेदारी सौंपी जा सकती है। रेल मंत्रालय आरसीपी सिंह को दिया जाएगा। नितिन गड़करी की जिम्मेदारियां बढ़ाई जा सकतीं हैं। जबकि सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय की कार्यवाहक मंत्री स्मृति ईरानी को इस विभाग की पूरी जिम्मेदारी सौंपी जा सकती है। राज्यमंत्री मनोज सिन्हा को प्रमोशन मिल सकता है।

कई दिग्गज बनेगे राज्यपाल —

लंबे समय से चर्चा रही है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी कुछ सीनियर पार्टी नेताओं को राज्यपाल बनाकर सम्मानित तरीके से रिटायरमेंट देने की तैयारी में हैं। जिनमें पहला नाम कलराज मिश्रा का है जिनकी मोदी कैबिनेट से छुट्टी लंबे समय से तय मानी जा रही है। दूसरा नाम यूपी बीजेपी के कद्दावर नेता लाल जी टंडन का है, जो लंबे समय से राज्यपाल बनाए जाने का इंतजार भी कर रहे हैं। इन दो दिग्गजों के अलावा आनंदी बेन पटेल, सीपी ठाकुर, कैलाश जोशी, जीतन राम मांझी और विजय कुमार मल्होत्रा का नाम आगे चल रहा है।

{ यह भी पढ़ें:- मोबाइल नंबर-पैन कार्ड के बाद अब डीएल को आधार से लिंक करना हुआ अनिवार्य }