इन टीमों ने धोती कुर्ता पहन लगाया चौका छक्का

cricket in dhoti kurta
इन टीमों ने धोती कुर्ता पहन लगाया चौका छक्का

लखनऊ। पूरी दुनिया में भारतीय संस्कृति को जाना जाता है। क्रिकेट एक ऐसा खेल है जो भारत में सबसे ज्यादा प्रसिद्ध हैं। वर्ल्ड कप आने में कुछ ही समय बचा है और क्रिकेट का सुरूर हर तरफ छाया है। इस दौरान काशी नगरी के युवा भारतीय संस्कृति से परिपूर्ण नज़र आए।पारंपरिक परिधान में क्रिकेट मैच खेलकर उन्होंने रोचक उदाहरण प्रस्तुत किया है। दरअसल, वाराणसी के सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय में मंगलवार को अनोखा क्रिकेट मैच खेला गया। इस मैच ने दर्शकों को लगान फिल्म कि याद दिला दी क्योंकि मैच में सभी खिलाड़ियों ने धोती-कुर्ता पहनकर बैटिंग-बॉलिंग-फील्डिंग की।

These Teams Played Cricket In Dhoti Kurta :

इस खेल के दौरान संस्कृत में कमेंट्री ने लोगों को मंत्रमुग्ध कर दिया। सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय के शास्त्रार्थ महाविद्यालय के डायमंड जुबिली वर्ष में प्रवेश करने के मौके पर संस्कृत क्रिकेट प्रतियोगिता का आयोजन किया गया।

इस प्रतियोगिता के दौरान अंपायरों को भी सांस्कृतिक वेशभूषा में रुद्राक्ष की माला पहने फैसले देते देखा गया। आयोजकों के मुताबिक संस्कृत क्रिकेट का उद्देश्य वेद पढ़ने वाले बच्चे किसी से कम नहीं हैं। वो केवल कर्मकांड, पूजा कराने तक सीमित नहीं हैं, बल्कि टीका चंदन लगाकर ग्राउंड में चौके-छक्के भी जड़ सकते हैं।

बताते चले कि प्रतियोगिता में पांच टीमों ने बड़चड़ कर हिस्सा लिया। इस खेल में आठ-आठ ओवरों का मैच खेला गया। जिसके सारे नियम-कायदे किसी अंतरराष्ट्रीय मैच से कम नहीं थे। टूर्नामेंट में शास्त्रार्थ-अ, शास्त्रार्थ-ब, इंटरनेशनल चंद्रमौलि संस्थान, चल्ला शास्त्री वेद विद्यालय और ब्रह्मा वेद विद्यालय की टीमों ने भाग लिया।

यही नहीं संस्कृत विश्वविद्यालय के मैदान में टीका-त्रिपुंड लगाए, धोती-कुर्ता पहने बटुक जब हाथ में बल्ला लेकर पिच पर खड़े हुए, तो लोग देखते रह गए। मैच तब रोमांचक हुआ जब दर्शकों ने संस्कृत में कमेंट्री सुनी और मैच का आनंद लिया।

लखनऊ। पूरी दुनिया में भारतीय संस्कृति को जाना जाता है। क्रिकेट एक ऐसा खेल है जो भारत में सबसे ज्यादा प्रसिद्ध हैं। वर्ल्ड कप आने में कुछ ही समय बचा है और क्रिकेट का सुरूर हर तरफ छाया है। इस दौरान काशी नगरी के युवा भारतीय संस्कृति से परिपूर्ण नज़र आए।पारंपरिक परिधान में क्रिकेट मैच खेलकर उन्होंने रोचक उदाहरण प्रस्तुत किया है। दरअसल, वाराणसी के सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय में मंगलवार को अनोखा क्रिकेट मैच खेला गया। इस मैच ने दर्शकों को लगान फिल्म कि याद दिला दी क्योंकि मैच में सभी खिलाड़ियों ने धोती-कुर्ता पहनकर बैटिंग-बॉलिंग-फील्डिंग की।इस खेल के दौरान संस्कृत में कमेंट्री ने लोगों को मंत्रमुग्ध कर दिया। सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय के शास्त्रार्थ महाविद्यालय के डायमंड जुबिली वर्ष में प्रवेश करने के मौके पर संस्कृत क्रिकेट प्रतियोगिता का आयोजन किया गया।इस प्रतियोगिता के दौरान अंपायरों को भी सांस्कृतिक वेशभूषा में रुद्राक्ष की माला पहने फैसले देते देखा गया। आयोजकों के मुताबिक संस्कृत क्रिकेट का उद्देश्य वेद पढ़ने वाले बच्चे किसी से कम नहीं हैं। वो केवल कर्मकांड, पूजा कराने तक सीमित नहीं हैं, बल्कि टीका चंदन लगाकर ग्राउंड में चौके-छक्के भी जड़ सकते हैं।बताते चले कि प्रतियोगिता में पांच टीमों ने बड़चड़ कर हिस्सा लिया। इस खेल में आठ-आठ ओवरों का मैच खेला गया। जिसके सारे नियम-कायदे किसी अंतरराष्ट्रीय मैच से कम नहीं थे। टूर्नामेंट में शास्त्रार्थ-अ, शास्त्रार्थ-ब, इंटरनेशनल चंद्रमौलि संस्थान, चल्ला शास्त्री वेद विद्यालय और ब्रह्मा वेद विद्यालय की टीमों ने भाग लिया।यही नहीं संस्कृत विश्वविद्यालय के मैदान में टीका-त्रिपुंड लगाए, धोती-कुर्ता पहने बटुक जब हाथ में बल्ला लेकर पिच पर खड़े हुए, तो लोग देखते रह गए। मैच तब रोमांचक हुआ जब दर्शकों ने संस्कृत में कमेंट्री सुनी और मैच का आनंद लिया।