1. हिन्दी समाचार
  2. पीसा की मीनार से भी ज्यादा झुका है ये काशी का अद्भुत मंदिर, हर किसी के लिए बना है राज

पीसा की मीनार से भी ज्यादा झुका है ये काशी का अद्भुत मंदिर, हर किसी के लिए बना है राज

This Amazing Temple Of Kashi Is More Tilted Than The Tower Of Pisa The Secret Is Made For Everyone

By आराधना शर्मा 
Updated Date

इटली में अवस्थित लीनिंग टावर ऑफ पीसा वास्तुशिल्प का एक अद्भुत नमूना देखने को मिलता है। यह इमारत अपने नींव से चार डिग्री झुकी हुई है। लगभग 54 मीटर ऊंची पीसा की मीनार झुकने के कारण दुनिया भर में फेमस है।

पढ़ें :- 1 अक्टूबर का राशिफल: इस राशि के शत्रुओं की हर चाल होगी नाकाम, और इस राशि वालों के खुलेंगे भाग्य

हालांकि आज हम आपको पीसा की मीनार से भी शानदार मंदिर के बारे में बताने जा रह है, जो की उत्तर प्रदेश के वाराणसी में स्थित है। वाराणसी का ये मंदिर मणिकर्णिका घाट के ठीक सामने है, जिसे रत्नेश्वर मंदिर के नाम से जाना जाता है।

रत्नेश्वर मंदिर की नीव नौ डिग्री झुकी 

रत्नेश्वर मंदिर अपने नींव से नौ डिग्री झुका हुआ है और इस मदिर की ऊंचाई 13.14 मीटर है। इस अद्भुत मंदिर की वास्तुकला बहुत अलौकिक है। सैकड़ों वर्षों से यह मंदिर एक तरफ झुका है। इस मंदिर को लेकर कई प्रकार कि दंत कथाएं पॉपुलर हैं।

लेकिन आज भी यह राज का विषय बना हुआ है कि पत्थरों से बना यह वजनदार मंदिर टेढ़ा होकर भी सैकड़ों वर्षों से कैसे खड़ा हुआ है, वाराणसी में गंगा घाट पर जहां सारे मंदिर ऊपर की तरफ बने हुए हैं, तो वहीं रत्नेश्वर मंदिर मणिकर्णिका घाट के नीचे की और बना हुआ है।

पढ़ें :- यूपी विधान परिषद् में हर स्तर पर निकलीं नौकरियां, 5वीं पास को भी 57 हजार तक सैलरी

घाट के नीचे होने के वजह से यह मंदिर वर्ष के 6 माह से भी ज्यादा वक्त तक गंगा नदीं के पानी में डूबा रहता है। बाढ़ के वक्त में नदी का पानी इस मंदिर के शिखर तक पहुंच जाता है। यहां के पुजारियों के अनुसार, इस मंदिर में सिर्फ 2-3 माह ही पूजा-पाठ होती है.

बता दें की स्थानीय लोगों के अनुसार वाराणसी में कई मंदिरों और कुंडों का निर्माण महारानी अहिल्याबाई होलकर ने करवाया हुआ है। महारानी के शासन काल में उनकी दासी रत्ना बाई ने मणिकर्णिका घाट के सामने शिव मंदिर बनवाने की इच्छा जाहिर की और इस मंदिर का निर्माण करवाया गया। वहीं उस दासी के नाम पर ही इस अद्भुत मंदिर का नाम रत्नेश्वर पड़ा।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...