भारत के इस शहर को मिला विश्व धरोहर का दर्जा, UNESCO ने की घोषणा

pinkcity
भारत के इस शहर को मिला विश्व धरोहर का दर्जा, UNESCO ने की घोषणा

नई दिल्ली। भारत का बेहद खूबसूरत और पिंक सिटी के नाम से पहचान बनाने वाला शहर जयपुर, विश्व धरोहर कमेटी की 43वीं बैठक के दौरान आज UNESCO द्वारा विश्व धरोहर स्थल में शुमार हो गया। संस्कृति मंत्रालय के हवाले से इसकी सूचना दी गई है कि अजरबैजान के बाकू शहर में आयोजित हो रही विश्व धरोहर केंद्र की बैठक में यह फैसला लिया गया है।

This City Of India Got World Heritage Status Unesco Announced :

दरअसल, वास्तुकला की शानदार विरासत और जीवंत संस्कृति के लिए मशहूर प्राचीन शहर जयपुर ने शनिवार को यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल सूची में जगह बना ली। यूनेस्को ने शनिवार दोपहर ट्वीट किया, ‘भारत के राजस्थान में जयपुर शहर को यूनेस्को के विश्व धरोहर स्थल के तौर पर चिन्हित किया गया।’

अजरबैजान के बाकू में 30 जून से 10 जुलाई तक UNESCO की विश्व धरोहर कमेटी के 43वें सत्र के बाद इसकी घोषणा की गई। इस बैठक में विश्व विरासत सूची में जयपुर शहर का नाम शामिल करने पर विमर्श हुआ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जयपुर को यूनेस्को द्वारा विश्व धरोहर स्थल के तौर पर चिन्हित किए जाने पर खुशी जताई।

इतना ही नहीं पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा, ‘जयपुर संस्कृति और शौर्य के साथ जुड़ा शहर है। मनोहर और ऊर्जावान, जयपुर का आतिथ्य दुनिया भर के लोगों को आकर्षित करता है। खुशी है कि यूनेस्को ने इस शहर को विश्व धरोहर स्थल के तौर पर चिन्हित किया है।’

बता दें, एक वरिष्ठ अधिकारी ने बतााया कि आईसीओएमओएस (स्मारक और स्थल पर अंतरराष्ट्रीय परिषद) ने 2018 में शहर का निरीक्षण किया था। नामांकन के बाद बाकू में डब्ल्यूएचसी ने इस पर गौर किया और इसे यूनेस्को विश्व विरासत स्थल सूची में शामिल किया। राजस्थान में ऐतिहासिक शहर जयपुर की स्थापना सवाई जय सिंह द्वितीय के संरक्षण में हुई थी। सांस्कृतिक रूप से संपन्न राज्य राजस्थान की राजधानी है।

नई दिल्ली। भारत का बेहद खूबसूरत और पिंक सिटी के नाम से पहचान बनाने वाला शहर जयपुर, विश्व धरोहर कमेटी की 43वीं बैठक के दौरान आज UNESCO द्वारा विश्व धरोहर स्थल में शुमार हो गया। संस्कृति मंत्रालय के हवाले से इसकी सूचना दी गई है कि अजरबैजान के बाकू शहर में आयोजित हो रही विश्व धरोहर केंद्र की बैठक में यह फैसला लिया गया है। दरअसल, वास्तुकला की शानदार विरासत और जीवंत संस्कृति के लिए मशहूर प्राचीन शहर जयपुर ने शनिवार को यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल सूची में जगह बना ली। यूनेस्को ने शनिवार दोपहर ट्वीट किया, ‘भारत के राजस्थान में जयपुर शहर को यूनेस्को के विश्व धरोहर स्थल के तौर पर चिन्हित किया गया।’ अजरबैजान के बाकू में 30 जून से 10 जुलाई तक UNESCO की विश्व धरोहर कमेटी के 43वें सत्र के बाद इसकी घोषणा की गई। इस बैठक में विश्व विरासत सूची में जयपुर शहर का नाम शामिल करने पर विमर्श हुआ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जयपुर को यूनेस्को द्वारा विश्व धरोहर स्थल के तौर पर चिन्हित किए जाने पर खुशी जताई। इतना ही नहीं पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा, ‘जयपुर संस्कृति और शौर्य के साथ जुड़ा शहर है। मनोहर और ऊर्जावान, जयपुर का आतिथ्य दुनिया भर के लोगों को आकर्षित करता है। खुशी है कि यूनेस्को ने इस शहर को विश्व धरोहर स्थल के तौर पर चिन्हित किया है।’ बता दें, एक वरिष्ठ अधिकारी ने बतााया कि आईसीओएमओएस (स्मारक और स्थल पर अंतरराष्ट्रीय परिषद) ने 2018 में शहर का निरीक्षण किया था। नामांकन के बाद बाकू में डब्ल्यूएचसी ने इस पर गौर किया और इसे यूनेस्को विश्व विरासत स्थल सूची में शामिल किया। राजस्थान में ऐतिहासिक शहर जयपुर की स्थापना सवाई जय सिंह द्वितीय के संरक्षण में हुई थी। सांस्कृतिक रूप से संपन्न राज्य राजस्थान की राजधानी है।