टूरिस्ट की पहली पसंद बनने वाला ये शहर आपके हर पल को बनाएगा यादगार

hinaoi city
टूरिस्ट की पहली पसंद बनने वाला ये शहर आपके हर पल को बनाएगा यादगार

लखनऊ। वियतनाम की राजधानी हनोई एक ऐसा शहर जिसे दुनिया में सबसे खूबसूरत जगहों में से एक माना जाता है। पांच हजार साल पुराना यह शहर लाल नदी के किनारे बसा हुआ है। जीवंत और फलफूल रही गतिविधियाँ से भरपूर ये शहर टूरिस्ट के लिए पहली पसंद बनता जा रहा है। इस शहर को दुपहिया वाहनों और झीलों का शहर भी कहा जाता है।

This City Will Be The First Choice For The Tourists Remember Your Every Moment Know What Is The Specialty Of This Place :

इस शहर में महिलाओं और पुरुषों की तादाद लगभग बराबर ही है। इस शहर की सबसे बड़ी खासियत ये है कि जो भी यहां घूमने आता है वो वियतनाम के महात्मा गाधी ‘हो ची मिन्ह मौसोलेउँ’ के स्मारक पर जरूर जाता है। आज हम आपको इस शहर की खूबसूरती से रूबरू करेंगे जिसे देखकर आपका दिल यहां जाने को मजबूर हो जाएगा।

इस शहर को दो भागों में बाटने वाली ‘हॉन कीम झील’ डेढ किलोमीटर लंबी और लगभग आठ सौ किलोमीटर चौड़ी है। झील में बने दो टापुओं पर स्थित पगौड़ा और महल, शहर की शान में चार चांद लगाते हैं। शहर के एक हिस्से में लंबी-चौड़ी, साफ-सुथरी चमचम सड़कें हैं, तो दूसरे हिस्से में संकीर्ण सड़कें और ग्राहकों की भीड़ से लदे-फंदे पटरी बाजार है।

इन बाजारों में मुरादाबाद के पीतल से लेकर लगभग हर देश का सामान मिलेगा। हस्तशिल्प से लेकर इलेक्ट्रानिक और गहने तक। हनोई की सिल्क और कॉफी भी मशहूर है। खास बात यह है कि सैलानियों को यह शहर महंगा नहीं लगता। डांग जुआन बाजार में जब आप पहुंचेंगे तो दिल्ली की चावड़ी से ज़्यादा मोल-तोल करने वाली यहां की डांग जुआन बाज़ार में देखने को मिलेगा। इस बाज़ार में इतना कुछ होता है कि ये तय कर पाना बहुत मुश्किल हो जाता है कि क्या खरीदें, क्या छोड़ दें। लगभग सभी दुकानों का संचालन युवतियों के हाथ में होता है। जो विनम्र और हंसमुख भाव के साथ मोल-तोल कर सामान को बेचती हैं।

ये शहर दुनिया के बाकी शहरों से अलग इसलिए भी है क्योंकि यहां वीकएंड पर रात होते ही बाजारों की सड़कें और झील के किनारे बच्चों, युवाओं और अधेडों से गुलजार हो जाते हैं। इसके बाद नाच-गाना, एरोबिक्स, खेलकूद, कलाकारी, चित्रकारी और मस्ती का जो सिलसिला शुरू होता है उससे लगता है मानो धरती पर इन्द्रलोक का अक्स उतारने की कवायद की जा रही है।

इनके अलावा शहर में और भी अनेक ऐसे स्थल हैं जो आपको रिझाते और लुभाते है। वीकएंड के दिन इस कारण झील के किनारे शहर के प्रमुख बाजारों में शुक्रवार की शाम से रविवार की रात तक वाहनों, यहां तक कि साइकिलों का भी प्रवेश पर प्रतिबंधित लगा दिया जाता है।

लखनऊ। वियतनाम की राजधानी हनोई एक ऐसा शहर जिसे दुनिया में सबसे खूबसूरत जगहों में से एक माना जाता है। पांच हजार साल पुराना यह शहर लाल नदी के किनारे बसा हुआ है। जीवंत और फलफूल रही गतिविधियाँ से भरपूर ये शहर टूरिस्ट के लिए पहली पसंद बनता जा रहा है। इस शहर को दुपहिया वाहनों और झीलों का शहर भी कहा जाता है। इस शहर में महिलाओं और पुरुषों की तादाद लगभग बराबर ही है। इस शहर की सबसे बड़ी खासियत ये है कि जो भी यहां घूमने आता है वो वियतनाम के महात्मा गाधी 'हो ची मिन्ह मौसोलेउँ' के स्मारक पर जरूर जाता है। आज हम आपको इस शहर की खूबसूरती से रूबरू करेंगे जिसे देखकर आपका दिल यहां जाने को मजबूर हो जाएगा। इस शहर को दो भागों में बाटने वाली 'हॉन कीम झील' डेढ किलोमीटर लंबी और लगभग आठ सौ किलोमीटर चौड़ी है। झील में बने दो टापुओं पर स्थित पगौड़ा और महल, शहर की शान में चार चांद लगाते हैं। शहर के एक हिस्से में लंबी-चौड़ी, साफ-सुथरी चमचम सड़कें हैं, तो दूसरे हिस्से में संकीर्ण सड़कें और ग्राहकों की भीड़ से लदे-फंदे पटरी बाजार है। इन बाजारों में मुरादाबाद के पीतल से लेकर लगभग हर देश का सामान मिलेगा। हस्तशिल्प से लेकर इलेक्ट्रानिक और गहने तक। हनोई की सिल्क और कॉफी भी मशहूर है। खास बात यह है कि सैलानियों को यह शहर महंगा नहीं लगता। डांग जुआन बाजार में जब आप पहुंचेंगे तो दिल्ली की चावड़ी से ज़्यादा मोल-तोल करने वाली यहां की डांग जुआन बाज़ार में देखने को मिलेगा। इस बाज़ार में इतना कुछ होता है कि ये तय कर पाना बहुत मुश्किल हो जाता है कि क्या खरीदें, क्या छोड़ दें। लगभग सभी दुकानों का संचालन युवतियों के हाथ में होता है। जो विनम्र और हंसमुख भाव के साथ मोल-तोल कर सामान को बेचती हैं। ये शहर दुनिया के बाकी शहरों से अलग इसलिए भी है क्योंकि यहां वीकएंड पर रात होते ही बाजारों की सड़कें और झील के किनारे बच्चों, युवाओं और अधेडों से गुलजार हो जाते हैं। इसके बाद नाच-गाना, एरोबिक्स, खेलकूद, कलाकारी, चित्रकारी और मस्ती का जो सिलसिला शुरू होता है उससे लगता है मानो धरती पर इन्द्रलोक का अक्स उतारने की कवायद की जा रही है। इनके अलावा शहर में और भी अनेक ऐसे स्थल हैं जो आपको रिझाते और लुभाते है। वीकएंड के दिन इस कारण झील के किनारे शहर के प्रमुख बाजारों में शुक्रवार की शाम से रविवार की रात तक वाहनों, यहां तक कि साइकिलों का भी प्रवेश पर प्रतिबंधित लगा दिया जाता है।