दीवाली पर पटाखों के प्रदूषण से अस्थमा के मरीज का ऐसे करें बचाव

dipawali
दीवाली पर पटाखों के प्रदूषण से अस्थमा के मरीज का ऐसे करें बचाव

लखनऊ। दीपावली में लोग जमकर पटाखे जलाते हैं, जिससे बहुत सारा धुआं और प्रदूषण फैल जाता है। इससे सामान्य लोगों को सांस लेने में दिक्कत, गले में खराश, आंखों और नाक में जलन की शिकायत हो जाती है। वहीं अस्थमा के मरीजों का बुरा हाल हो जाता है। अगर आपके घर में कोई अस्थमा का मरीज है तो इस प्रदूषण और धुएं से उसे बचाने के लिए ये उपाय करें।

This Is How Asthma Patients Avoid Firecracker Pollution On Diwali :

दीवाली पर अस्थमा के मरीजों की परेशानी अक्सर घर से ही शुरू हो जाती है। घर में चल रही साफ-सफाई या फिर रंग-रोगन की वजह से अगर उन्हें दिक्कत हो रही है तो मास्क के जरिए उनका बचाव करें। इस बात का खास ख्याल रखें कि शाम के समय जब लोग ज्यादा से ज्यादा पटाखें जलाते हैं तो घर से बाहर न निकलें। क्योंकि उस समय धूल और धुआं सबसे ज्यादा मात्रा में फैलता है। अगर घर से बाहर जाना ही है तो मास्क पहन कर निकलें।

दीवाली से पहले ही अपने डॉक्टर से सलाह कर लें कि अगर इमरजेंसी में कोई परेशानी आ जाए तो उससे कैसे निपटे। धूल और धुएं की वजह से अपना इनहेलर हमेशा साथ रखें। साथ ही बहुत नमी वाली जगह पर जाने से बचें। इसके साथ ही भूखे पेट न रहें और ऐसी चीजों को खाएं जो शरीर को गर्म रखे।

लखनऊ। दीपावली में लोग जमकर पटाखे जलाते हैं, जिससे बहुत सारा धुआं और प्रदूषण फैल जाता है। इससे सामान्य लोगों को सांस लेने में दिक्कत, गले में खराश, आंखों और नाक में जलन की शिकायत हो जाती है। वहीं अस्थमा के मरीजों का बुरा हाल हो जाता है। अगर आपके घर में कोई अस्थमा का मरीज है तो इस प्रदूषण और धुएं से उसे बचाने के लिए ये उपाय करें। दीवाली पर अस्थमा के मरीजों की परेशानी अक्सर घर से ही शुरू हो जाती है। घर में चल रही साफ-सफाई या फिर रंग-रोगन की वजह से अगर उन्हें दिक्कत हो रही है तो मास्क के जरिए उनका बचाव करें। इस बात का खास ख्याल रखें कि शाम के समय जब लोग ज्यादा से ज्यादा पटाखें जलाते हैं तो घर से बाहर न निकलें। क्योंकि उस समय धूल और धुआं सबसे ज्यादा मात्रा में फैलता है। अगर घर से बाहर जाना ही है तो मास्क पहन कर निकलें। दीवाली से पहले ही अपने डॉक्टर से सलाह कर लें कि अगर इमरजेंसी में कोई परेशानी आ जाए तो उससे कैसे निपटे। धूल और धुएं की वजह से अपना इनहेलर हमेशा साथ रखें। साथ ही बहुत नमी वाली जगह पर जाने से बचें। इसके साथ ही भूखे पेट न रहें और ऐसी चीजों को खाएं जो शरीर को गर्म रखे।