NCP का ये नेता शिवसेना में आज होगा शामिल

shiv-sena
NCP का ये नेता शिवसेना में आज होगा शामिल

नई दिल्ली। चुनावी माहौल के बीच राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के नेता और महाराष्ट्र के पूर्व मंत्री जयदत्त क्षीरसागर आज शिवसेना में शामिल होने जा रहे हैं। बता दें कि पिछले दिनों प्रियंका चतुर्वेदी कांग्रेस छोड़कर शिवसेना में शामिल हुई थीं। उन्होंने नाराजगी के चलते पार्टी छोड़ी थी। उस वक्त वह पार्टी की प्रवक्ता के तौर पर काम कर रही थीं।

This Leader Of Ncp Will Be Included In The Shiv Sena Today :

दरअसल, इससे पहले जयदत्त क्षीरसागर ने शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे से उनके निवास मातोश्री पर मुलाकात की। बीड़ जिले के छह विधानसभा क्षेत्रों में जयदत्त अकेले राकंपा विधायक हैं। बाकी सभी भाजपा से हैं। बताया जा रहा है कि क्षीरसागर राकंपा से नाराज हैं, यह नाराजगी पार्टी द्वारा उनकी अनदेखी और उनके स्थानीय प्रतिद्वंदी धनंजय मुंडे को अधिक महत्व देने को लेकर है।

इतना ही नहीं पिछले महीने ही शिवसेना ने कहा था कि चुनाव बाद आंकड़े जुटाने के लिए पीडीपी, नेकां और राकांपा को राजग का हिस्सा नहीं बनाया जाए। शिवसेना ने जम्मू कश्मीर में पीएम मोदी की सराहना करते हुए ऐसा कहा था। शिवसेना के मुखपत्र सामना में कहा गया था कि प्रधानमंत्री उन लोगों के खिलाफ आवाज बुलंद कर रहे हैं जो देश को बांटने की कोशिश कर रहे हैं।

साथ ही ये बयान जारी किया कि पीएम मोदी का राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष शरद पवार के खिलाफ रुख चुनाव के बाद भी रहना चाहिए। जो देश को बांटने की बात कर रहे हैं और जो उनका समर्थन कर रहे हैं उन्हें भविष्य में राजनीति में जगह नहीं मिलनी चाहिए।

नई दिल्ली। चुनावी माहौल के बीच राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के नेता और महाराष्ट्र के पूर्व मंत्री जयदत्त क्षीरसागर आज शिवसेना में शामिल होने जा रहे हैं। बता दें कि पिछले दिनों प्रियंका चतुर्वेदी कांग्रेस छोड़कर शिवसेना में शामिल हुई थीं। उन्होंने नाराजगी के चलते पार्टी छोड़ी थी। उस वक्त वह पार्टी की प्रवक्ता के तौर पर काम कर रही थीं। दरअसल, इससे पहले जयदत्त क्षीरसागर ने शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे से उनके निवास मातोश्री पर मुलाकात की। बीड़ जिले के छह विधानसभा क्षेत्रों में जयदत्त अकेले राकंपा विधायक हैं। बाकी सभी भाजपा से हैं। बताया जा रहा है कि क्षीरसागर राकंपा से नाराज हैं, यह नाराजगी पार्टी द्वारा उनकी अनदेखी और उनके स्थानीय प्रतिद्वंदी धनंजय मुंडे को अधिक महत्व देने को लेकर है। इतना ही नहीं पिछले महीने ही शिवसेना ने कहा था कि चुनाव बाद आंकड़े जुटाने के लिए पीडीपी, नेकां और राकांपा को राजग का हिस्सा नहीं बनाया जाए। शिवसेना ने जम्मू कश्मीर में पीएम मोदी की सराहना करते हुए ऐसा कहा था। शिवसेना के मुखपत्र सामना में कहा गया था कि प्रधानमंत्री उन लोगों के खिलाफ आवाज बुलंद कर रहे हैं जो देश को बांटने की कोशिश कर रहे हैं। साथ ही ये बयान जारी किया कि पीएम मोदी का राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष शरद पवार के खिलाफ रुख चुनाव के बाद भी रहना चाहिए। जो देश को बांटने की बात कर रहे हैं और जो उनका समर्थन कर रहे हैं उन्हें भविष्य में राजनीति में जगह नहीं मिलनी चाहिए।