इस शख्स ने अपने कारोबार में वृंदावन के बांके बिहारी जी को बना रखा है पार्टनर, लॉकडाउन में भी दिये 2.30 करोड़

banke3

नई दिल्ली: देशभर में लागू लॉकडाउन की वजह से हर तरफ सब कुछ बंद पड़ा हुआ है, कहीं आधे-अधूरे काम हो रहा है कहीं कुछ भी नहीं। ऐसे में मंदिर-मस्जिद सभी के कपाट भी बंद है, मगर इसी बीच मथुरा के मशहूर श्री बांके बिहारी मंदिर की चौखट पर एक व्यक्ति आता है और कपाट बंद होने की वजह से दर्शन तो नहीं कर पाता मगर फिर भी मंदिर के चौखट पर ही दो करोड़ का चेक रखकर चरण स्पर्श कर चला जाता है।

This Person Has Kept Vrindavans Banke Bihari Ji In His Business Partner Also Gave 2 30 Crores In Lockdown :

यक़ीनन सुनने में तो यह बेहद अजीब लग रहा होगा मगर यह पूरी तरह सच है। बता दें कि लॉकडाउन में भी सभी श्रद्धालुओं की आस्था भगवान से डिग नहीं पाई हैं और ऐसे में ही अपने भगवान के प्रति अडिग आस्था रखने वाले एक भक्त चर्चा में है। ये है दिल्ली का एक व्यापारी जो कार के पार्ट्स बनाने का कारोबार करने वाले मदर्सन सुमी लिमिटेड कंपनी के मालिक चांद सहगल।

बताया जाता है कि चाँद सहगल ने वृन्दावन के मशहूर ठाकुर श्री बांके बिहारी को अपने कारोबार में हिस्सेदार बना रखा है। चाँद सहगल हर वित्तीय वर्ष के आखिर में वह अपना सारा हिसाब निपटा कर अप्रैल के महीने में ठाकुर जी के पास उन्हें उनका हिस्सा देने आते हैं। हमेशा की तरह इस बार भी को अपने आराध्य ठाकुर बांके बिहारी जी को नहीं भूले और 2 करोड़ 30 लाख का चेक सौंपा गए। हालांकि इस बार लॉकडाउन की वजह से चांद सेहगल अपने आराध्य ठाकुर जी के दर्शन तो नहीं कर पाए उनकी आस्था में कोई कमी नहीं आई।

बताया जाता है कि ठाकुर बांके बिहारी की यह सेवा उद्योगपति चांद सेहगल लगातार पिछले 15 वर्षों से करते आ रहे हैं और प्रतिवर्ष अप्रैल के माह में वह बांके बिहारी जी का हिस्सा देने आते हैं हालांकि ईश्वर लोगों की वजह से ही 1 माह की देरी हुई सिर्फ इतना ही नहीं इसके अलावा उन्होंने बरसाना के लाड़लीजी मंदिर में भी 21 लाख रुपये का चेक कमेटी में तथा 2 लाख रुपये सेवारत और ब्राह्मणों में दान दे चुके हैं।

नई दिल्ली: देशभर में लागू लॉकडाउन की वजह से हर तरफ सब कुछ बंद पड़ा हुआ है, कहीं आधे-अधूरे काम हो रहा है कहीं कुछ भी नहीं। ऐसे में मंदिर-मस्जिद सभी के कपाट भी बंद है, मगर इसी बीच मथुरा के मशहूर श्री बांके बिहारी मंदिर की चौखट पर एक व्यक्ति आता है और कपाट बंद होने की वजह से दर्शन तो नहीं कर पाता मगर फिर भी मंदिर के चौखट पर ही दो करोड़ का चेक रखकर चरण स्पर्श कर चला जाता है। यक़ीनन सुनने में तो यह बेहद अजीब लग रहा होगा मगर यह पूरी तरह सच है। बता दें कि लॉकडाउन में भी सभी श्रद्धालुओं की आस्था भगवान से डिग नहीं पाई हैं और ऐसे में ही अपने भगवान के प्रति अडिग आस्था रखने वाले एक भक्त चर्चा में है। ये है दिल्ली का एक व्यापारी जो कार के पार्ट्स बनाने का कारोबार करने वाले मदर्सन सुमी लिमिटेड कंपनी के मालिक चांद सहगल। बताया जाता है कि चाँद सहगल ने वृन्दावन के मशहूर ठाकुर श्री बांके बिहारी को अपने कारोबार में हिस्सेदार बना रखा है। चाँद सहगल हर वित्तीय वर्ष के आखिर में वह अपना सारा हिसाब निपटा कर अप्रैल के महीने में ठाकुर जी के पास उन्हें उनका हिस्सा देने आते हैं। हमेशा की तरह इस बार भी को अपने आराध्य ठाकुर बांके बिहारी जी को नहीं भूले और 2 करोड़ 30 लाख का चेक सौंपा गए। हालांकि इस बार लॉकडाउन की वजह से चांद सेहगल अपने आराध्य ठाकुर जी के दर्शन तो नहीं कर पाए उनकी आस्था में कोई कमी नहीं आई। बताया जाता है कि ठाकुर बांके बिहारी की यह सेवा उद्योगपति चांद सेहगल लगातार पिछले 15 वर्षों से करते आ रहे हैं और प्रतिवर्ष अप्रैल के माह में वह बांके बिहारी जी का हिस्सा देने आते हैं हालांकि ईश्वर लोगों की वजह से ही 1 माह की देरी हुई सिर्फ इतना ही नहीं इसके अलावा उन्होंने बरसाना के लाड़लीजी मंदिर में भी 21 लाख रुपये का चेक कमेटी में तथा 2 लाख रुपये सेवारत और ब्राह्मणों में दान दे चुके हैं।