1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. सुरों की महारानी लता मंगेशकर को दिल हार बैठा था ये राजकुमार, लेकिन इस वजह से नहीं हो पाई शादी

सुरों की महारानी लता मंगेशकर को दिल हार बैठा था ये राजकुमार, लेकिन इस वजह से नहीं हो पाई शादी

भारत रत्न, सुरों की महारानी लता मंगेशकर (Lata Mangeshkar) का रवि​वार सुबह मुंबई की ब्रीच कैंडी अस्पताल में निधन से पूरा देश शोक में डूब गया है। लता जी के निधन पर सरकार ने दो दिन का राष्ट्रीय शोक घोषित किया गया है। लता मंगेशकर ने 30 से भी ज्यादा भाषाओं में 10 हजार से ज्यादा नग्मे गाए हैं। इसीलिए उन्हें साल 1989 में दादा साहेब फाल्के अवार्ड से सम्मानित किया गया था। और फिर 2001 में लता जी भारत के सबसे बड़े अवार्ड भारत रत्न से भी सम्मानित किया गया था।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। भारत रत्न, सुरों की महारानी लता मंगेशकर (Lata Mangeshkar) का रवि​वार सुबह मुंबई की ब्रीच कैंडी अस्पताल में निधन से पूरा देश शोक में डूब गया है। लता जी के निधन पर सरकार ने दो दिन का राष्ट्रीय शोक घोषित किया गया है। लता मंगेशकर ने 30 से भी ज्यादा भाषाओं में 10 हजार से ज्यादा नग्मे गाए हैं। इसीलिए उन्हें साल 1989 में दादा साहेब फाल्के अवार्ड से सम्मानित किया गया था। और फिर 2001 में लता जी भारत के सबसे बड़े अवार्ड भारत रत्न से भी सम्मानित किया गया था।

पढ़ें :- दीदी Lata Mangeshkar की याद में रो पड़ी Asha Bhosle, कहा- वो अभी भी मेरे साथ हैं...

आज हम आपको उनकी लव स्टोरी की और बताएंगे कि आखिर उन्होंने शादी क्यों नहीं की? क्या उन्हें किसी से प्यार हुआ था? अगर इश्क हुआ था तो फिर शादी क्यों नहीं हुई। कहा जाता है कि लता जी को भी किसी से प्यार हुआ था लेकिन शादी नहीं हो पाई थी। उनकी ये प्रेम कहानी अधूरी ही रह गई।

इन राजकुमार से हुआ था प्यार

एक जानकारी के मुताबिक लता मंगेशकर को डूंगरपुर राजघराने के महाराजा राज सिंह (Maharaja Raj Singh) से प्यार हुआ था। मीडिया के मुताबिक कहा जाता है कि राज सिंह ने अपने माता-पिता से वादा किया था कि वो किसी भी आम घराने की लड़की शादी नहीं करेंगे। इसी वजह से महाराजा राज सिंह (Maharaja Raj Singh) आखिरी समय तक अपने माता-पिता से किए वादे को निभाते रहे। बताया जाता है कि महाराजा राज सिंह लता मंगेशकर के भाई हृदयनाथ मंगेशकर के दोस्त भी थे।

पढ़ें :- 24 अप्रैल को First Lata Deenanath Mangeshkar Award से सम्मानित होंगे PM Modi

महाराजा भी हार बैठे थे दिल

डूंगरपुर के महाराजा, दिवंगत क्रिकेटर और बीसीसीआई के पूर्व अध्यक्ष राज सिंह लता मंगेशकर के आगे से दिल हार बैठे थे। यहां तक कि एक बार लता मंगेशकर क्रिकेट देखने स्टेडियम भी गईं। उन्‍हें भी महाराजा राज सिंह पसंद आए, लेकिन उनका प्‍यार शादी तक नहीं पहुंच पाया। कहा जाता है कि कुछ पारिवारिक कारणों के चलते राज सिंह डूंगरपुर और लता मंगेशकर की शादी नहीं हो पाई थी। इसके अलावा एक बात यह भी कही जाती है कि लता मंगेशकर का कहना है कि उन्होंने घर की ज़िम्मेदारियों के चलते शादी नहीं की। उनके ऊपर बहुत कम उम्र में ही घर की बड़ी-बड़ी जिम्मेदारियां आ गई थीं। इसीलिए उन्होंने कभी शादी के बारे में नहीं सोचा।

क्रिकेट का शौक रखते थी राज सिंह

लता मंगेशकर जिससे प्यार करती थीं। उन्हें क्रिकेट का भी बहुत शौक था। उन्होंने करीब 16 साल तक फर्स्ट क्लास क्रिकेट भी खेला है। इसके बाद राज सिंह 20 साल तक भारतीय क्रिकेट बोर्ड (BCCI) से भी जुड़े रहे हैं। वे दो कार्यकाल तक नेशनल टीम के सलेक्टर भी रहे और चार बार भारतीय टीम के विदेश दौरे के प्रबंधन किया। विकीपीडिया के मुताबिक वे भारतीय जनता पार्टी के सदस्य भी रहे हैं।

 

पढ़ें :- Oscar 2022 से गायब दिखा Dilip Kumar और Lata Mangeshkar का नाम, चाहने वालों ने सुनाई खरी-खोटी

ये एक्‍टर करते थे लता का पीछा

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक किशोर दा लता मंगेशकर को चाहते थे। यहां तक कि वे उनका पीछा करते-करते स्टूडियो तक पहुंच जाते थे, लेकिन यह बात लता को पसंद नहीं थी। उन्‍होंने इस पर आपत्ति भी जताई थी, लेकिन तब वे यह नहीं जानती थीं कि वे किशोर कुमार हैं। हालांकि लता मंगेशकर ने इंटरव्‍यू में कहा था कि किशोर कुमार के साथ रिकॉर्डिंग करने से उन्‍होंने इसलिए इंकार कर दिया था, क्‍योंकि वे बहुत हंसाते थे और इससे उनकी आवाज गानों में थकी हुई लगती थी।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...