आगरा लखनऊ एक्सप्रेस-वे पर लागू हुआ ये नियम, दो पहिया चालकों के लिए होगा खास

lko agra expressway
आगरा लखनऊ एक्सप्रेस-वे पर लागू हुआ ये नियम, दो पहिया चालकों के लिए होगा खास

लखनऊ। आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे पर हो रहे हादसों को मद्देनजर रखते हुए यूपीडा (UPEIDA) ने नए नियम लागू कर दिए जिसके मुताबिक बिना हेलमेट इस एक्सप्रेसवे पर एंट्री नहीं मिलेगी। यूपीडा द्वारा जारी किए गए प्रेस नोट के अनुसार अब एक्सप्रेसवे पर सुरक्षा व्यवस्था को पुख्ता करने का लगातार प्रयास किया जा रहा है और इसी के चलते यह निर्णय लिया गया है। जी हां, नए नियम के बाद अब आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे पर बिना हेलमेट दो-पहिया वाहन को प्रवेश नहीं दिया जाएगा।

This Rule Implemented On Agra Lucknow Expressway Will Be Special For Two Wheelers :

हाल ही में यूपीडा द्वारा लागू नियम में ये अनिवार्य किया गया था कि अगर यात्री ने आगरा से लखनऊ का सफर तीन घंटे से कम में किया तो यात्रियों पर सख्त कारवाई की जाएगी साथ ही ई-चालान उनके घर पर भेजा जाएगा। इस नियम के कुछ दिनों बाद यह कदम उठाया गया है। इसके अलावा राज्य सरकार ने यह भी घोषणा की कि लखनऊ टोल प्लाजा से आगरा तक तीन घंटे से भी कम समय में खिंचाव को कवर करने वालों को तेजी के लिए जुर्माना देना होगा। अधिकारियों ने डेटा विश्लेषण रिपोर्ट के लिए वाहनों की छवियों को कैप्चर करने के लिए टोल प्लाजा पर उच्च तकनीक वाले उपकरण लगाए हैं। इसके बाद ई-चालान जारी करने के लिए विवरण आगरा और लखनऊ जिलों के पुलिस अधीक्षक (यातायात) को भेजे जाते हैं।

इतना ही नहीं एक्सप्रेसवे ने कई दुर्घटनाओं को देखा है जिसके बाद अधिकारियों ने लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए कई उपाय किए हैं। दिसंबर 2016 में आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे जनता के लिए खोलने के बाद यहां कई दुर्घटनाओं में 250 से अधिक लोगों की मौत हो गई है।

बता दें, यूपीडा के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अवनीश अवस्थी ने देश के सबसे लंबे एक्सप्रेसवे मार्ग पर सड़क दुर्घटनाओं को कम करने के प्रयास में हेलमेट पहनने का निर्देश जारी किया है। अवस्थी ने कहा कि अगर टू-व्हीलर चालक हेलमेट नहीं पहनते हैं तो एक्सप्रेसवे पर यात्रा करने की अनुमति नहीं दी जाएगी। इसके अलावा अधिकारी ने कहा कि एक गश्त करने वाली टीम निर्देश को लागू करेगी और बिना हेलमेट के राइड करने वालों को दंडित करेगी।

सुरक्षा का ये नियम 8 जुलाई को यमुना एक्सप्रेसवे पर दुर्घटना के मद्देनजर आया था, जिसमें उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम (UPSRTC) की बस के सड़क से फिसल जाने से 29 लोगों की मौत हो गई थी और 40 फीट गहरे नाले में गिर गई थी। इस बस में बच्चे सहित 52 लोग सवार थे।

लखनऊ। आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे पर हो रहे हादसों को मद्देनजर रखते हुए यूपीडा (UPEIDA) ने नए नियम लागू कर दिए जिसके मुताबिक बिना हेलमेट इस एक्सप्रेसवे पर एंट्री नहीं मिलेगी। यूपीडा द्वारा जारी किए गए प्रेस नोट के अनुसार अब एक्सप्रेसवे पर सुरक्षा व्यवस्था को पुख्ता करने का लगातार प्रयास किया जा रहा है और इसी के चलते यह निर्णय लिया गया है। जी हां, नए नियम के बाद अब आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे पर बिना हेलमेट दो-पहिया वाहन को प्रवेश नहीं दिया जाएगा। हाल ही में यूपीडा द्वारा लागू नियम में ये अनिवार्य किया गया था कि अगर यात्री ने आगरा से लखनऊ का सफर तीन घंटे से कम में किया तो यात्रियों पर सख्त कारवाई की जाएगी साथ ही ई-चालान उनके घर पर भेजा जाएगा। इस नियम के कुछ दिनों बाद यह कदम उठाया गया है। इसके अलावा राज्य सरकार ने यह भी घोषणा की कि लखनऊ टोल प्लाजा से आगरा तक तीन घंटे से भी कम समय में खिंचाव को कवर करने वालों को तेजी के लिए जुर्माना देना होगा। अधिकारियों ने डेटा विश्लेषण रिपोर्ट के लिए वाहनों की छवियों को कैप्चर करने के लिए टोल प्लाजा पर उच्च तकनीक वाले उपकरण लगाए हैं। इसके बाद ई-चालान जारी करने के लिए विवरण आगरा और लखनऊ जिलों के पुलिस अधीक्षक (यातायात) को भेजे जाते हैं। इतना ही नहीं एक्सप्रेसवे ने कई दुर्घटनाओं को देखा है जिसके बाद अधिकारियों ने लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए कई उपाय किए हैं। दिसंबर 2016 में आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे जनता के लिए खोलने के बाद यहां कई दुर्घटनाओं में 250 से अधिक लोगों की मौत हो गई है। बता दें, यूपीडा के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अवनीश अवस्थी ने देश के सबसे लंबे एक्सप्रेसवे मार्ग पर सड़क दुर्घटनाओं को कम करने के प्रयास में हेलमेट पहनने का निर्देश जारी किया है। अवस्थी ने कहा कि अगर टू-व्हीलर चालक हेलमेट नहीं पहनते हैं तो एक्सप्रेसवे पर यात्रा करने की अनुमति नहीं दी जाएगी। इसके अलावा अधिकारी ने कहा कि एक गश्त करने वाली टीम निर्देश को लागू करेगी और बिना हेलमेट के राइड करने वालों को दंडित करेगी। सुरक्षा का ये नियम 8 जुलाई को यमुना एक्सप्रेसवे पर दुर्घटना के मद्देनजर आया था, जिसमें उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम (UPSRTC) की बस के सड़क से फिसल जाने से 29 लोगों की मौत हो गई थी और 40 फीट गहरे नाले में गिर गई थी। इस बस में बच्चे सहित 52 लोग सवार थे।