इस वरिष्ठ कांग्रेसी नेता ने दिया बयान, राहुल को मनाने में न बर्बाद करें समय

dr karn singh
इस वरिष्ठ कांग्रेसी नेता ने दिया बयान, राहुल को मनाने में न बर्बाद करें समय

नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के अपना पद छोड़ने के ऐलान के बाद देश के भर के कांग्रेस नेता उन्हे मनाने में जुटे हुए हैं। वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस के एक ऐसे वरिष्ठ नेता हैं, जिन्होने सोमवार को इस मामले को लेकर बड़ा बयान दे दिया। दरअसल वरिष्ठ कांग्रेसी नेता डॉ. कर्ण सिंह ने पार्टी नेताओं को सलाह दी है की वो राहुल गांधी के फ़ैसले का सम्मान करें और उनको मनाने में समय बर्बाद ना करें।

This Senior Congress Leader Gave A Statement Not To Waste Time In Celebrating Rahul :

बता दें कि कर्ण सिंह ने सलाह दी है की पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की अध्यक्षता में कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक बुलाई जाए। साथ ही उन्होने कहा कि देर होने से पहले पार्टी एक अंतरिम अध्यक्ष, चार कार्यकारी अध्यक्ष या उपाध्यक्ष बनाए। जो पार्टी के हित के लिए बहुत जरूरी है।

कर्ण सिंह ने कहा कि राहुल गांधी के 25 मई को इस्तीफा देने के बाद से पार्टी में जो भ्रम और भटकाव देखने को मिला है, मैं उससे हैरान हूं। उन्होने इसको लेकर एक बयान भी जारी किया है। जिसमें उन्होने कहा कि राहुल के साहसिक फैसले का सम्मान करने के बजाय एक महीने तक उनका इस्तीफा वापस लेने की अपील करके समय बर्बाद किया जा रहा है।

नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के अपना पद छोड़ने के ऐलान के बाद देश के भर के कांग्रेस नेता उन्हे मनाने में जुटे हुए हैं। वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस के एक ऐसे वरिष्ठ नेता हैं, जिन्होने सोमवार को इस मामले को लेकर बड़ा बयान दे दिया। दरअसल वरिष्ठ कांग्रेसी नेता डॉ. कर्ण सिंह ने पार्टी नेताओं को सलाह दी है की वो राहुल गांधी के फ़ैसले का सम्मान करें और उनको मनाने में समय बर्बाद ना करें। बता दें कि कर्ण सिंह ने सलाह दी है की पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की अध्यक्षता में कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक बुलाई जाए। साथ ही उन्होने कहा कि देर होने से पहले पार्टी एक अंतरिम अध्यक्ष, चार कार्यकारी अध्यक्ष या उपाध्यक्ष बनाए। जो पार्टी के हित के लिए बहुत जरूरी है। कर्ण सिंह ने कहा कि राहुल गांधी के 25 मई को इस्तीफा देने के बाद से पार्टी में जो भ्रम और भटकाव देखने को मिला है, मैं उससे हैरान हूं। उन्होने इसको लेकर एक बयान भी जारी किया है। जिसमें उन्होने कहा कि राहुल के साहसिक फैसले का सम्मान करने के बजाय एक महीने तक उनका इस्तीफा वापस लेने की अपील करके समय बर्बाद किया जा रहा है।