भारत के इस राज्य में होते है सबसे ज्यादा रेप, वजह जानकार होंगे हैरान

आजकल कामुकता कुछ लोगों के लिए कामुकता एक प्रकार की मानसिक बीमारी बन चुकी है और इस बीमारी की चपेट में कुछ इस तरह आ जाते हैं कि अपने शरीर को खूब विकृत करने लगते हैं और समाज को भी अच्छा खासा नुकसान पहुँचाने की कोशिश भी करते हैं। आज के दौर में पूरे ही विश्व में रेप जैसी घटनाएं हो रही है। और इससे भारत भी अछूता नहीं है।

This State Of India Is The Worst Rap The Reason Will Be Wise :

भारत के इस राज्य में होते है सबसे ज्यादा रेप:

अब हम बात करने वाले हैं, एक ऐसे राज्य की जहाँ सबसे ज्यादा रेप होता है और इस राज्य का नाम है मध्यप्रदेश। दुसरे अपराधिक मामलों और क्राइम के मामले में भले ही मध्यप्रदेश पहले पायदान पर ना हो लेकिन बालात्कार के मामले में मध्यप्रदेश नंबर 1 हो चूका है। और इसका खुलासा किया है नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो ने।

मध्यप्रदेश है नंबर वन:

नेशनल क्राइम ब्यूरो की रिपोर्ट के मुताबिक साल 2015-16 में पूरे भारत में रेप के कुल 38 हज़ार 947 मामले दर्ज हुए जिनमे अकेले मध्यप्रदेश से कुल मिलकर 4 हज़ार 882 मामले आये हैं। उत्तरप्रदेश में 4 हज़ार 816 और वही महाराष्ट्र में 4 हज़ार 189 मामले दर्ज किये गए हैं।

सुधार के है आसार:

अभी हाल ही मैं मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एक केबिनेट मीटिंग में यह फैसला लिया है कि अगर कोई शख्स रेप के मामले में दोषी पाया जाता है तो उसके लिए धारा (376) यानी बलात्कार के लिए फांसी की सजा का प्रावधान किया गया है। मध्यप्रदेश सरकार द्वारा इस एतिहासिक प्रस्ताव के साथ अगर 12 साल से कम की उम्र की किसी भी बच्ची के साथ बलात्कार पाया जाता है तो मौत की सजा दी जायेगी।

आजकल कामुकता कुछ लोगों के लिए कामुकता एक प्रकार की मानसिक बीमारी बन चुकी है और इस बीमारी की चपेट में कुछ इस तरह आ जाते हैं कि अपने शरीर को खूब विकृत करने लगते हैं और समाज को भी अच्छा खासा नुकसान पहुँचाने की कोशिश भी करते हैं। आज के दौर में पूरे ही विश्व में रेप जैसी घटनाएं हो रही है। और इससे भारत भी अछूता नहीं है। भारत के इस राज्य में होते है सबसे ज्यादा रेप: अब हम बात करने वाले हैं, एक ऐसे राज्य की जहाँ सबसे ज्यादा रेप होता है और इस राज्य का नाम है मध्यप्रदेश। दुसरे अपराधिक मामलों और क्राइम के मामले में भले ही मध्यप्रदेश पहले पायदान पर ना हो लेकिन बालात्कार के मामले में मध्यप्रदेश नंबर 1 हो चूका है। और इसका खुलासा किया है नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो ने। मध्यप्रदेश है नंबर वन: नेशनल क्राइम ब्यूरो की रिपोर्ट के मुताबिक साल 2015-16 में पूरे भारत में रेप के कुल 38 हज़ार 947 मामले दर्ज हुए जिनमे अकेले मध्यप्रदेश से कुल मिलकर 4 हज़ार 882 मामले आये हैं। उत्तरप्रदेश में 4 हज़ार 816 और वही महाराष्ट्र में 4 हज़ार 189 मामले दर्ज किये गए हैं। सुधार के है आसार: अभी हाल ही मैं मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एक केबिनेट मीटिंग में यह फैसला लिया है कि अगर कोई शख्स रेप के मामले में दोषी पाया जाता है तो उसके लिए धारा (376) यानी बलात्कार के लिए फांसी की सजा का प्रावधान किया गया है। मध्यप्रदेश सरकार द्वारा इस एतिहासिक प्रस्ताव के साथ अगर 12 साल से कम की उम्र की किसी भी बच्ची के साथ बलात्कार पाया जाता है तो मौत की सजा दी जायेगी।