दुनिया के इस अनोखे गांव में बात करते-करते सो जाते हैं लोग

दुनिया के इस अनोखे गांव में बात करते-करते सो जाते हैं लोग
दुनिया के इस अनोखे गांव में बात करते-करते सो जाते हैं लोग

लखनऊ। आजकल की भागदौड़ भारी जिंदगी और बिगड़ती लाइफस्टाइल ने जहां ज़्यादातर लोगों की यह समस्या की भरपूर नींद नहीं ले पाते, वहीं दुनिया में एक ऐसा अनोखा गाँव हैं, जहां लोग कभी भी कहीं भी सो जाते हैं। जी हां, बात करते-करते, सड़क पर चलते-चलते वे नींद के आगोश में चले जाते हैं। अब आप सोच रहे होंगे भला ये कैसे? अचानक बात करते- करते या फिर चलते-चलते किसी को नींद कैसी आ सकती है तो आपको बता दें कि ये बिल्कुल सच है।

This Village Affected By Mysterious Sleep Epidemic :

बता दें कि ये मामला कजाकिस्तान का है। यहां के कलाची गांव में लोग कभी भी कहीं भी सो जाते हैं। लोगों की नींद का आलम ये है कि वे रहस्मयी तरीके सो जाते हैं और फिर कभी-कभी महीनों तक नहीं उठते। वहीं जब ये लोग सोकर उठते हैं तो फिर उन्हें कुछ याद भी नहीं रहता है। ये लोग सोकर जागने के बाद कुछ अजीबो-गरीब बातें करने लगते हैं।

कलाची गांव के लोगों की इस अजीबोगरीब हरकत का खुलासा साल 2010 में सामने आया था। कुछ बच्चे अचानक स्कूल में गिर गए थे और सोने लगे थे। इसके बाद इस बीमारी के शिकार लोगों की संख्या बढ़ने लगी। तभी से वैज्ञानिक इस गांव पर रिसर्च कर रहे हैं। हालांकि अभी तक वैज्ञानिक या डॉक्टर किसी सटीक नतीजे पर नहीं पहुंच पाए हैं। वहीं वहां के लोगों का कहना है कि इस स्लीपिंग डिसऑर्डर की एक वजह यूरेनियम माइंस हैं। यूरेनियम से निकली गैस हमारे शरीर पर काफी असर डालती है। इस गैस से लोग बेहोश तक हो सकते हैं।

लखनऊ। आजकल की भागदौड़ भारी जिंदगी और बिगड़ती लाइफस्टाइल ने जहां ज़्यादातर लोगों की यह समस्या की भरपूर नींद नहीं ले पाते, वहीं दुनिया में एक ऐसा अनोखा गाँव हैं, जहां लोग कभी भी कहीं भी सो जाते हैं। जी हां, बात करते-करते, सड़क पर चलते-चलते वे नींद के आगोश में चले जाते हैं। अब आप सोच रहे होंगे भला ये कैसे? अचानक बात करते- करते या फिर चलते-चलते किसी को नींद कैसी आ सकती है तो आपको बता दें कि ये बिल्कुल सच है। बता दें कि ये मामला कजाकिस्तान का है। यहां के कलाची गांव में लोग कभी भी कहीं भी सो जाते हैं। लोगों की नींद का आलम ये है कि वे रहस्मयी तरीके सो जाते हैं और फिर कभी-कभी महीनों तक नहीं उठते। वहीं जब ये लोग सोकर उठते हैं तो फिर उन्हें कुछ याद भी नहीं रहता है। ये लोग सोकर जागने के बाद कुछ अजीबो-गरीब बातें करने लगते हैं। कलाची गांव के लोगों की इस अजीबोगरीब हरकत का खुलासा साल 2010 में सामने आया था। कुछ बच्चे अचानक स्कूल में गिर गए थे और सोने लगे थे। इसके बाद इस बीमारी के शिकार लोगों की संख्या बढ़ने लगी। तभी से वैज्ञानिक इस गांव पर रिसर्च कर रहे हैं। हालांकि अभी तक वैज्ञानिक या डॉक्टर किसी सटीक नतीजे पर नहीं पहुंच पाए हैं। वहीं वहां के लोगों का कहना है कि इस स्लीपिंग डिसऑर्डर की एक वजह यूरेनियम माइंस हैं। यूरेनियम से निकली गैस हमारे शरीर पर काफी असर डालती है। इस गैस से लोग बेहोश तक हो सकते हैं।