HBE Ads
  1. हिन्दी समाचार
  2. बिज़नेस
  3. फिक्स्ड डिपॉजिट कराने वालों जून तक जमा होगा ये फॉर्म नहीं तो करने पर कट सकते हैं पैसे

फिक्स्ड डिपॉजिट कराने वालों जून तक जमा होगा ये फॉर्म नहीं तो करने पर कट सकते हैं पैसे

CBDT ने हाल ही में FD में पैसा लगाने वाले लोगों के लिए नया नोटिफिकेशन जारी करते हुए 30 जून तक फॉर्म 15H और फॉर्म 15G भरने की सलाह दी है

By प्रीति कुमारी 
Updated Date

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) हाल ही में एक नया नोटिफिकेशन जारी किया है. इसके तहत फिक्स्ड डिपॉजिट (FD) में पैसा लगाने वाले लोगों को 30 जून तक 15G और 15H फॉर्म जमा करना होगा. अगर कोई समय पर ऐसा नहीं कर पाता है तो बैंक उस पर पैसे काटने लगता है. कुछ लोगों में मन में सवाल होगा कि इन दो फॉर्म का एफडी से क्या संबंध है? तो जान लीजिए कि 15G और 15H फॉर्म का सीधा संबंध फिक्स्ड डिपॉजिट (FD) से होता है. इससे टीडीएस (Tax Deduction at Source) बचाने में मदद मिलती है. आज के समय में, आकर्षक ब्याज और रिटर्न के लिए लोग एफडी में निवेश करना सबसे ज्यादा पसंद करते हैं. लेकिन एफडी पर मिलने वाले रिटर्न पर आपको टैक्स चुकाना होता है. केंद्रीय बैंक RBI ने टैक्स की एक थ्रेसहोल्ड लिमिट तय की है, जिसे क्रॉस करने पर TDS कटता है.

पढ़ें :- Post Office ये है गजब की स्‍कीम, इतना करना होगा निवेश, 2 लाख रुपये तो सिर्फ ब्‍याज से होगी कमाई

कितनी होती है TDS की अपर लिमिट?

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के मुताबिक, TDS की थ्रेसहोल्ड लिमिट पहले 10 हजार रुपये थी, जिसे इस वित्तीय वर्ष के के बजट में बढ़ाकर 40 हजार कर दिया गया. बता दें कि ये लिमिट पोस्ट ऑफिस (Post Office) और बैंकों में डिपॉजिट के लिए है. अगर आप TDS से बचना चाहते हैं तो आपके लिए 15G और 15H फॉर्म भरना होता है. ये इनकम टैक्स का ही एक हिस्सा होता है.

फॉर्म के साथ पैन कार्ड अटैच करना न भूलें

इन दोनों की फॉर्म में आपकी कुछ बेसिक जानकारी पूछी जाती है, पहले उसे सावधानी से भर दें. फॉर्म भरने के बाद अब टैक्स डिक्लेरेशन के साथ अपने पैन कार्ड (Pan Card) की एक कॉपी इसके साथ अटैच कर दें. इसके बाद अपने फाइनेंशियर के पास इस फॉर्म को सब्मिट कर दें. ध्यान रहे कि ये दोनों फॉर्म सिर्फ एक साल के लिए वैध होते हैं. वर्ष की शुरुआत में ही ये फॉर्म आपके फाइनेंशियर के पास जमा होने चाहिए. फॉर्म भरने से पहले आप यह सुनिश्चत कर लें कि आपके फाइनेंशियर ने टैक्स की कटौती न की हो क्योंकि बैंक आपको रिफंड नहीं करेगा. बैंक से टीडीएस का पैसा वापस लेने के लिए आपको आईटीआर भरना होगा.

पढ़ें :- ONGC : ओएनजीसी का ऊर्जा क्षेत्र में दबदबा बढ़ा , 6 करोड़ डॉलर की हिस्सेदारी की हासिल

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...