वाराणसी : संकट मोचन मंदिर को उड़ाने की धमकी, महंत को चिट्ठी मिलने से हड़कंप

sankat mochan mandir
वाराणसी : संकट मोचन मंदिर को उड़ाने की धमकी, महंत को चिट्ठी मिलने से हड़कंप

वाराणसी। वाराणसी के विश्व प्रसिद्ध संकट मोचन मंदिर को धमाके से उड़ाने की धमकी भरी चिट्ठी मिलने के बाद हड़कंप मच गया है। मंदिर को महंत को मिली चिट्ठी लिखा था कि 2006 में हुए धमाके से बड़ा धमाका किया जाएगा। संकट मोचन मंदिर के महंत प्रो. विश्वंभरनाथ मिश्र के मुताबिक उन्हे ये धमकी भरी चिट्ठी सोमवार की रात उन्हे मिली। जिसमें लिखा था कि मंदिर में मार्च, 2006 से बड़ा धमाका करेंगे, साथ ही धमकी को हल्के में न लेने की चेतावनी भी दी गई है।

Threat Letter To Bomb Over Sankat Mochan Temple In Varanasi Fir Logded In Ps Lanka :

ये खत महंत को मिलने के बाद से वहां हड़कंप मच गया। उन्होने देर रात ही इस मामले की जानकारी पुलिस को दी। पुलिस ने प्रो. विश्वंभरनाथ मिश्र की तहरीर पर लंका थाने में एफआईआर दर्ज कर मामले की छानबीन शुरु कर दी है। इस चिट्ठी में दर्ज दोनों नामों जमादार मियां और अशोक यादव पर मुकदमा दर्ज कर पुलिस ने जांच शुरू कर दी है।

बता दें कि सात मार्च, 2006 को संकट मोचन मंदिर, कैंट स्टेशन और दशाश्वमेध घाट पर सिलसिलेवार कई बम विस्फोट हुए थे। इन धमाकों से संकट मोचन मंदिर में 7 और कैंट स्टेशन पर 11 लोगों की मौत हुई थीा। वहीं करीब सौ लोग इस घटना में गंभीर रूप से घायल हुए ​थे।

वाराणसी। वाराणसी के विश्व प्रसिद्ध संकट मोचन मंदिर को धमाके से उड़ाने की धमकी भरी चिट्ठी मिलने के बाद हड़कंप मच गया है। मंदिर को महंत को मिली चिट्ठी लिखा था कि 2006 में हुए धमाके से बड़ा धमाका किया जाएगा। संकट मोचन मंदिर के महंत प्रो. विश्वंभरनाथ मिश्र के मुताबिक उन्हे ये धमकी भरी चिट्ठी सोमवार की रात उन्हे मिली। जिसमें लिखा था कि मंदिर में मार्च, 2006 से बड़ा धमाका करेंगे, साथ ही धमकी को हल्के में न लेने की चेतावनी भी दी गई है।ये खत महंत को मिलने के बाद से वहां हड़कंप मच गया। उन्होने देर रात ही इस मामले की जानकारी पुलिस को दी। पुलिस ने प्रो. विश्वंभरनाथ मिश्र की तहरीर पर लंका थाने में एफआईआर दर्ज कर मामले की छानबीन शुरु कर दी है। इस चिट्ठी में दर्ज दोनों नामों जमादार मियां और अशोक यादव पर मुकदमा दर्ज कर पुलिस ने जांच शुरू कर दी है।बता दें कि सात मार्च, 2006 को संकट मोचन मंदिर, कैंट स्टेशन और दशाश्वमेध घाट पर सिलसिलेवार कई बम विस्फोट हुए थे। इन धमाकों से संकट मोचन मंदिर में 7 और कैंट स्टेशन पर 11 लोगों की मौत हुई थीा। वहीं करीब सौ लोग इस घटना में गंभीर रूप से घायल हुए ​थे।