अमरनाथ यात्रा पर आतंकी खतरा, सुरक्षा एजेंसियां ने भी कसी कमर

c

जम्मू। एक जुलाई से जम्मू कश्मीर में शूरू हो रही अमरनाथ यात्रा पर आतंकी ख़तरा लगातार बना हुआ है। सुरक्षा एजेंसीज़ की रिपोर्ट के मुताबिक आतंकी ग्रुप अमरनाथ यात्रा पर हमले की साजिश रच सकते हैं। ऐसे में यात्रा की फूल प्रूफ सुरक्षा के लिए बड़े स्तर पर तैयारियां शुरू की जा चुकी है। जानकारी के मुताबिक खुफिया एजेंसीज ने अमरनाथ यात्रा पर आतंकी 6 तरीके से हमले का ख़तरा बताया है।

Threat Of Terror On Amarnath Yatra 2019 :

अमरनाथ यात्रा की सुरक्षा में लगी जम्मू कश्मीर पुलिस, सेना और सभी अर्धसैनिक बलों से कहा गया है कि वह हर ख़तरे को नाकाम करने के लिए पूरी तरह मुस्तैद रहें। जानकारी के मुताबिक यात्रा में इस्तेमाल यात्रियों और सुरक्षा बलों की गाडिय़ों पर आरएफआईडी टैग के साथ पहली बार हर श्रद्धालुओं को खास तरीके का बार कोड दिया जायेगा।

जिससे उनके लोकेशन के बारे में सही जानकारी मिल सके। यही नहीं पहली बार यात्रियों के लिए जिन कैंप में ठहरने के इंतज़ाम किये गए हैं। उसमे भी बार कोड रीडर लगाये जा रहे हैं जिससे कैंप में वही यात्री आ सके जिसको बार कोड दिया गया है। ग्रेनेड के जरिये यात्रियों को आतंकी बना सकते है निशाना, यात्रियों के कैंप पर आतंकी हमले की साजिश। अमरनाथ यात्रियों और सुरक्षा बलों पर सुसाइड अटैक।

यात्रा रूट को आईईडी धमाके के जरिये निशाना। यात्रियों का अपरहण। सेना की वर्दी पहन कर हमला कर सकते हैं आतंकी। अमरनाथ यात्रा पर जहां आतंकी हमले का खतरा बना हुआ है वहीं सुरक्षा एजेंसीज़ की रिपोर्ट के मुताबिक कश्मीर घाटी में करीब 290 आतंकी मौजूद हैं जिसका इस्तेमाल अमरनाथ यात्रा पर हमले के लिए किया जा सकता है। रिपोर्ट के मुताबिक इनमें 34 पाकिस्तानी आतंकी हैं जो आईएसआई के इशारे पर सुरक्षा बलों को निशाना बना सकते हैं।

लश्कर ए तोयबा के कुल 130 आतंकी कश्मीर में जिसमें 79 पाकिस्तानी आतंकी हैं और बाकी 51 स्थानीय हैं। हिजबुल मुजाहीदीन के कुल 103 आतंकी जिसमे 7 पाकिस्तानी आतंकी हैं और बाकि 110 लोकल हैं। जैश ए मोहम्मद के कुल 34 आतंकी जिसमें 21 पाकिस्तानी आतंकी हैं और बाकि 13 लोकल हैं। आईएसजेके से जुड़े 2 आतंकियों के मौजूद होने के ख़बर। अल बदर से जुड़े 5 आतंकियों के होने की ख़बर। अंसार गज़वत उल हिन्द के कुल 3 आतंकियों के होने की खबर।

कश्मीर घाटी में आतंकियों के खिलाफ जारी करवाई में इस साल अब तक 117 आतंकी मारे गए हैं। वहीं अलग-अलग आतंकी हमले में 74 जवान अब तक शहीद हो चुके हैं जिसमे पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हुआ आतंकी हमला भी शामिल है। पुलवामा हमले में कुल 40 जवान शहीद हुए थेए जिसके बाद वायु सेना ने बालाकोट के जैश कैंप पर सर्जिकल स्ट्राइक कर हमले का बदला लिया था।

जम्मू। एक जुलाई से जम्मू कश्मीर में शूरू हो रही अमरनाथ यात्रा पर आतंकी ख़तरा लगातार बना हुआ है। सुरक्षा एजेंसीज़ की रिपोर्ट के मुताबिक आतंकी ग्रुप अमरनाथ यात्रा पर हमले की साजिश रच सकते हैं। ऐसे में यात्रा की फूल प्रूफ सुरक्षा के लिए बड़े स्तर पर तैयारियां शुरू की जा चुकी है। जानकारी के मुताबिक खुफिया एजेंसीज ने अमरनाथ यात्रा पर आतंकी 6 तरीके से हमले का ख़तरा बताया है। अमरनाथ यात्रा की सुरक्षा में लगी जम्मू कश्मीर पुलिस, सेना और सभी अर्धसैनिक बलों से कहा गया है कि वह हर ख़तरे को नाकाम करने के लिए पूरी तरह मुस्तैद रहें। जानकारी के मुताबिक यात्रा में इस्तेमाल यात्रियों और सुरक्षा बलों की गाडिय़ों पर आरएफआईडी टैग के साथ पहली बार हर श्रद्धालुओं को खास तरीके का बार कोड दिया जायेगा। जिससे उनके लोकेशन के बारे में सही जानकारी मिल सके। यही नहीं पहली बार यात्रियों के लिए जिन कैंप में ठहरने के इंतज़ाम किये गए हैं। उसमे भी बार कोड रीडर लगाये जा रहे हैं जिससे कैंप में वही यात्री आ सके जिसको बार कोड दिया गया है। ग्रेनेड के जरिये यात्रियों को आतंकी बना सकते है निशाना, यात्रियों के कैंप पर आतंकी हमले की साजिश। अमरनाथ यात्रियों और सुरक्षा बलों पर सुसाइड अटैक। यात्रा रूट को आईईडी धमाके के जरिये निशाना। यात्रियों का अपरहण। सेना की वर्दी पहन कर हमला कर सकते हैं आतंकी। अमरनाथ यात्रा पर जहां आतंकी हमले का खतरा बना हुआ है वहीं सुरक्षा एजेंसीज़ की रिपोर्ट के मुताबिक कश्मीर घाटी में करीब 290 आतंकी मौजूद हैं जिसका इस्तेमाल अमरनाथ यात्रा पर हमले के लिए किया जा सकता है। रिपोर्ट के मुताबिक इनमें 34 पाकिस्तानी आतंकी हैं जो आईएसआई के इशारे पर सुरक्षा बलों को निशाना बना सकते हैं। लश्कर ए तोयबा के कुल 130 आतंकी कश्मीर में जिसमें 79 पाकिस्तानी आतंकी हैं और बाकी 51 स्थानीय हैं। हिजबुल मुजाहीदीन के कुल 103 आतंकी जिसमे 7 पाकिस्तानी आतंकी हैं और बाकि 110 लोकल हैं। जैश ए मोहम्मद के कुल 34 आतंकी जिसमें 21 पाकिस्तानी आतंकी हैं और बाकि 13 लोकल हैं। आईएसजेके से जुड़े 2 आतंकियों के मौजूद होने के ख़बर। अल बदर से जुड़े 5 आतंकियों के होने की ख़बर। अंसार गज़वत उल हिन्द के कुल 3 आतंकियों के होने की खबर। कश्मीर घाटी में आतंकियों के खिलाफ जारी करवाई में इस साल अब तक 117 आतंकी मारे गए हैं। वहीं अलग-अलग आतंकी हमले में 74 जवान अब तक शहीद हो चुके हैं जिसमे पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हुआ आतंकी हमला भी शामिल है। पुलवामा हमले में कुल 40 जवान शहीद हुए थेए जिसके बाद वायु सेना ने बालाकोट के जैश कैंप पर सर्जिकल स्ट्राइक कर हमले का बदला लिया था।