1. हिन्दी समाचार
  2. खबरें
  3. आगरा में दिनदहाड़े तीन लोगों की हत्या, दुस्‍साहिक वारदात से इलाके में सनसनी

आगरा में दिनदहाड़े तीन लोगों की हत्या, दुस्‍साहिक वारदात से इलाके में सनसनी

By टीम पर्दाफाश 
Updated Date

आगरा: रविवार को प्रदेश में वीकली लॉकडाउन चल रहा है और इसी बीच ताबडतोड़ गोलियां बरसाकर तीन लोगों की हत्‍या कर दी गई। पूरे इलाके में इस दुस्‍साहिक वारदात से सनसनी फैल गई है। कासगंज के सोरों थाना क्षेत्र के गांव होडलपुर में रविवार को देर शाम एक गुट के 15-20 हथियारबंद लोगों ने प्रधान के परिवार पर फायरिंग कर दी। अंधाधुंध फायरिंग में तीन लोगों की मौत हो गई, जबकि दो लोग घायल हुए हैं। घटना के पीछे डेढ़ साल पहले ऑनर किलिंग की घटना से उपजी रंजिश बताई जा रही है। गुस्साए ग्र्रामीणों ने देर तक पुलिस को गांव में नहीं घुसने दिया। घटना के बाद से गांव के अधिकांश पुरुष घरों से फरार हो गए। देर रात पुलिस ने शव कब्जे में ले लिए हैैं।

गांव में प्रधान सत्यवती के स्वजन को गांव के केके राजपूत ने रविवार शाम सात बजे के करीब अपने साथियों के साथ उनके घर के पास ही घेर लिया और ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। हमलावरों ने प्रधानपति ब्रजेंद्र के भाई रुद्र, चाचा प्रेम सिंह व राधाचरन को घेर कर गोली मार दी। प्रेम व राधाचरन पिता-पुत्र हैं। रुद्र व राधाचरन की मौके पर ही मृत्यु हो गई। प्रेम सिंह का शव तालाब में पड़ा मिला। फायरिंग में प्रधान परिवार के गुड्डू और प्रमोद भी घायल हो गए। इन्हें उपचार के लिए अलीगढ़ भेज गया है। प्रमोद की हालत गंभीर बनी हुई है।

प्रधान परिवार व केके राजपूत में कई साल पहले से रंजिश चली आ रही है। दो साल पहले गांव में हत्या और डेढ़ साल पहले ऑनर किलिंग की एक घटना होने पर यह रंजिश और बढ़ गई। ऑनर किलिंग की घटना में प्रधान व विरोधी गुट पर अलग-अलग पक्षों का साथ देने का आरोप था। रविवार शाम गांव में शराब के ठेके पर प्रधान पक्ष के एक व्यक्ति का दूसरे पक्ष के कुछ लोगों से विवाद हो गया। इसके बाद दोनों पक्ष आमने-सामने आ गए।

घटना की जानकारी मिलने पर थाना सोरों पुलिस गांव में पहुंची, लेकिन ग्रामीणों के आक्रोश से करीब 20 मिनट तक गांव के बाहर ही खड़ी रही। एएसपी आदित्य वर्मा के साथ जिले भर के थानों का फोर्स पहुंचने पर ही गांव में प्रवेश किया जा सका। स्वजन की हत्या से गुस्साए प्रधान पति ब्रजेंद्र पुलिस अधिकारियों के समक्ष एक ही बात कहते रहे कि मेरा एनकाउंटर कर दो, मैं किसी को छोड़ूंगा नहीं। इस दौरान उन्होने सोरों थाना पुलिस पर भी कई आरोप लगाए।

हत्या के बाद आरोपित गांव में ही छिपे हुए थे। देर रात तक चली पुलिस की घेराबंदी में केके के पड़ोस में स्थित मकान की तीसरी मंजिल से पुलिस ने आधा दर्जन को हिरासत में लिया है। इन्हें हिरासत में लेने के बाद पुलिस ने हिरासत में भेज दिया, ताकि ग्रामीणों के आक्रोश का शिकार न बन सकें। हिरासत में लिए गए आरोपितों में केके भी बताया जा रहा है। हालांकि देर रात तक पुलिस ने हिरासत में लिए आरोपित के नाम की पुष्टि नहीं की है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...