सैलरी न बढ़ने से योगी सरकार के तीन पायलटों ने दिया ​इस्तीफा

pilots resign
सैलरी न बढ़ने से योगी सरकार के तीन पायलटों ने दिया ​इस्तीफा

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के तीन पायलटों के इस्तीफे से हड़कंप मच गया है। सरकार ने इन तीनों पायलटों का इस्तीफा सशर्त स्वीकार किया हैं। बताया जा रहा है कि इस्तीफा देने वाले तीन पायलट सैलरी बढ़ाने की मांग कर रहे थे। जो पूरी न होने पर नागरिक उड्डयन विभाग के तीन संविदा पायलटों ने इस्तीफा दे दिया है। इनमें से दो पायलट सिंतबर में और एक अक्टूबर में रिलीज होंगे।

Three Pilots Of Up Government Resign Over Salary Issue :

बताया जा रहा है कि सरकार ने इनके स्थान पर दो पायलटों की नियुक्ति भी कर ली है। जो अगले 15 दिनों में पदभार संभाल लेंगे। यूपी के बेड़े में फिक्स्ड विंग एयरक्राफ्ट उड़ाने के लिए पायलट के 10 पद स्वीकृत हैं,लेकिन मौजूदा समय में बेड़े में 8 पायलट है। संविदा पर पायलटों पर पायलटों की नियुक्ति तीन साल के लिए होती है।

इनमें से तीन पायलट प्रवीण किशोर, जीपीएस वालिया और कमलेश्वर सिंह ने पिछले दिनों से वेतन बढ़ाने की मांग कर रहे थे। सूत्रों के मुताबिक, इन्हें वर्तमान में करीब 5.20 लाख प्रति माह वेतन और एक लाख रुपये नाइट एलाउंस मिलता था। इन लोगों पर काम का बहुत प्रेशर था, जिसके चलते इन लोगों ने इस्तीफा दे दिया।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के तीन पायलटों के इस्तीफे से हड़कंप मच गया है। सरकार ने इन तीनों पायलटों का इस्तीफा सशर्त स्वीकार किया हैं। बताया जा रहा है कि इस्तीफा देने वाले तीन पायलट सैलरी बढ़ाने की मांग कर रहे थे। जो पूरी न होने पर नागरिक उड्डयन विभाग के तीन संविदा पायलटों ने इस्तीफा दे दिया है। इनमें से दो पायलट सिंतबर में और एक अक्टूबर में रिलीज होंगे। बताया जा रहा है कि सरकार ने इनके स्थान पर दो पायलटों की नियुक्ति भी कर ली है। जो अगले 15 दिनों में पदभार संभाल लेंगे। यूपी के बेड़े में फिक्स्ड विंग एयरक्राफ्ट उड़ाने के लिए पायलट के 10 पद स्वीकृत हैं,लेकिन मौजूदा समय में बेड़े में 8 पायलट है। संविदा पर पायलटों पर पायलटों की नियुक्ति तीन साल के लिए होती है। इनमें से तीन पायलट प्रवीण किशोर, जीपीएस वालिया और कमलेश्वर सिंह ने पिछले दिनों से वेतन बढ़ाने की मांग कर रहे थे। सूत्रों के मुताबिक, इन्हें वर्तमान में करीब 5.20 लाख प्रति माह वेतन और एक लाख रुपये नाइट एलाउंस मिलता था। इन लोगों पर काम का बहुत प्रेशर था, जिसके चलते इन लोगों ने इस्तीफा दे दिया।