बाबरी ढांचे के विध्वंस की बरसी आज, कड़ी सुरक्षा

अयोध्या। बाबरी ढांचे के विध्वंस की बरसी (6 दिसम्बर) पर अयोध्या व फैजाबाद में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गयी है। इस मौके पर विहिप द्वारा शौर्य दिवस व मुस्लिम संगठनों द्वारा यौमे गम मनाये जाने के एलान के बाद अयोध्या में सतर्कता बढ़ा दी गई है। चप्पे-चप्पे पर पुलिसकर्मियों की तैनाती की गयी है। सुरक्षा के लिहाज से जिले को चार जोन, सात सेक्टर व 12 सब सेक्टर में बांट चार जोनल, सात सेक्टर व 12 सब सेक्टर मजिस्ट्रेट की तैनाती की गयी है। एसपी सिटी उदय शंकर सिंह ने बताया कि जुड़वा शहर में सुरक्षा को लेकर विशेष सतर्कता बरतने का निर्देश दिया गया है।




संवेदनशील व मिश्रित आबादी वाले स्थलों समेत जुड़वा शहर में 32 प्वाइंट चिह्नित कर पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है।बाबरी ढांचा विध्वंस की बरसी के एक दिन पहले जुड़वा शहर में सतर्कता बढ़ा दी गई है। चौराहों-तिराहों पर वाहनों की तलाशी ली जा रही है। अयोध्या में होटल, धर्मशालाओं में ठहरने वालों का पूरा विवरण एकत्र किया जा रहा है। अयोध्या के यलोजोन में प्रवेश के सभी मागरे पर लगे बैरियरों पर तैनात पुलिसकर्मियों को सतर्कता बरतने के निर्देश दिये गये हैं। अयोध्या के बंधा तिराहे पर नयाघाट चौकी क्षेत्र में वाहनों की लगातार चेकिंग की जा रही है। खुफिया विभाग अयोध्या में होने वाले हर मूवमेंट की जानकारी एकत्र करने में जुटा है। विवादित श्रीराम जन्मभूमि की ओर जाने वाले मार्ग पर लगे बैरियरों को गिराकर पुलिसकर्मियों को सजगता बरतने का निर्देश दिया गया है।




एसपी सिटी ने बताया कि सुरक्षा के मद्देनजर तीन एएसपी, 10 डिप्टी एसपी, 10 कंपनी पीएसी, एक कंपनी आरएएफ, बम व डाग स्क्वायड की टीम के अलावा 16 एसओ, दर्जनभर निरीक्षक, सौ एसआई, कांस्टेबल, महिला कांस्टेबलों के अलावा होमगार्ड जवानों की तैनाती के अलावा आठ कंपनी पीएसी व दो कंपनी आरएएफ की तैनाती की गई है। यलो व रेड जोन सहित संदिग्ध वाहन की तलाशी, घाटों की निगरानी एवं हर आने-जाने वालों की निगरानी के अलावा बाहर से आकर ठहरने वाले व्यक्तियों की निगरानी की जा रही हैं। इसमें स्थानीय एसपीओ की सहायता ली जा रही हैं।

Loading...