इन टिप्स से आप आसानी से चुन सकेंगे अपने लिए बेस्ट क्रेडिट कार्ड

बेस्ट क्रेडिट कार्ड,credit card
इन टिप्स से आप आसानी से चुन सकेंगे अपने लिए बेस्ट क्रेडिट कार्ड

नई दिल्ली। नोटबंदी के बाद से देश में कार्ड से ट्रांजैक्शन में लगभग 84 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। कैशलेस लेनदेन को बढ़ावा देने के लिए लगातार बेहतर प्रयास भी किए जा रहे है ऐसे में जाहिर है कि लोगों का रुझान क्रेडिट कार्ड की तरफ काफी बढ़ रहा है। क्रेडिट कार्ड के बढ़ते इस्तेमाल पर यह बात बहुत मायने रखती है कि आप अपने लिए कौन-सा क्रेडिट कार्ड चुनें। आज हम आपको कुछ ऐसे आसान टिप्स बताने जा रहे हैं जो भारत में बेस्ट क्रेडिट कार्ड (Best credit card in india) चुनने में मदद करेंगी।

सालाना कितना ब्याज वसूलता है बैंक

{ यह भी पढ़ें:- SBI के कर्मचारियों को झटका, नोटबंदी में ओवरटाइम का पैसा वापस मांग रही बैंक }

क्रेडिट कार्ड के लिए सबसे महत्वपूर्ण यह है कि क्रेडिट कार्ड लेने से पहले बैंक या क्रेडिट कार्ड देने वाले एजेंट से यह जरूर पूछें कि अनबिल्ड राशि पर ब्याज कितना चुकाना होगा। आम तौर पर क्रेडिट कार्ड पर बैंक 22 से 48 फीसदी तक सालाना ब्याज वसूलते हैं।

बैंक की कितनी है सालाना फीस ?

{ यह भी पढ़ें:- फ्रांस को पछाड़ दुनिया की छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बना भारत }

लगभग सभी क्रेडिट कार्ड अपने ग्राहकों से सालाना फीस लेते हैं। हालांकि कई बार कुछ बैंक ऑफर के तहत सालाना फीस में छूट भी देते हैं। कुछ बैंक अपने खाताधारकों को लाइफटाइम फ्री कार्ड भी देते हैं। तो क्रेडिट कार्ड का सिलेक्शन करने से पहले सभी ऑप्शन की जांच कर लेनी चाहिए।

कितनी है ज्वाइनिंग फीस ?

क्रेडिट कार्ड लेते समय ज्वॉइनिंग फीस का भी ध्यान रखिए। कुछ बैंक क्रेडिट कार्ड पर ज्वॉइनिंग फीस वसूलते हैं, कुछ नहीं। सुपर प्रीमियम कैटेगरी के कार्ड पर ज्वॉइनिंग फीस अधिक होती है। क्रेडिट कार्ड लेने से पहले अलग-अलग बैंकों के क्रेडिट कार्ड की ज्वॉइनिंग फीस का तुलनात्मक अध्ययन कर लेना चाहिए।

{ यह भी पढ़ें:- अब बैंक नहीं लेंगे 200 और 2000 के कटे-फटे और गंदे नोट }

इंटरेस्ट फ्री इजी EMI ऑप्शन हैं या नहीं

क्रेडिट कार्ड लेने से पहले यह जरूर चेक कर लें कि उसमें इंटरेस्ट फ्री इजी EMI का ऑप्शन है या नहीं। महंगी चीज खरीदने के दौरान यह ऑप्शन काफी काम आता है।

बिलिंग डेट की फ्लैक्सिबिलिटि की पूरी जानकारी

किसी भी क्रेडिट कार्ड की बिलिंग डेट बहुत मायने रखती है। बिलिंग डेट गुजर जाने पर ब्याज का काफी भुगतान करना होता है। तो क्रेडिट कार्ड लेते समय यह ध्यान रखना चाहिए कि बिलिंग डेट के मामले में बैंक कितना फ्लैक्सिबल है।

{ यह भी पढ़ें:- देश की टकसालों ने सिक्कों का प्रोडक्शन रोका }

रीवार्ड पॉइंटस कितने हैं?

कई बैंक अपने क्रेडिट कार्ड पर रीवार्ड पॉइंट देते हैं। इसी तरह कई बैंक कैशबैक के भी ऑफर देते हैं। अगर आप क्रेडिट कार्ड का ज्यादा यूज करने वाले हैं तो इसे जरूर चेक कीजिए क्योंकि रीवार्ड पॉइंट और कैशबेक से आपको अच्छी-खासी बचत हो सकती है।

इजी पेमेंट ऑप्शन हैं या नहीं

क्रेडिट कार्ड के लिए अप्लाई करने से पहले यह भी चेक कर लेना चाहिए कि उसमें पैमेंट का ऑप्शन क्या है? कई बैंक NEFT या नेट बैंकिंग के जरिए पैमेंट के ऑप्शन देते हैं, लेकिन कुछ नहीं भी देते।

इन क्रेडिट कार्ड से होंगे फायदे

{ यह भी पढ़ें:- आयकर विभाग: 25 लाख से अधिक जमा खातों के लिए नोटिस जारी }

Sbi Simply Save Credit Card
Rbl credit card
Citi rewards card
ICICI coral credit card

नई दिल्ली। नोटबंदी के बाद से देश में कार्ड से ट्रांजैक्शन में लगभग 84 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। कैशलेस लेनदेन को बढ़ावा देने के लिए लगातार बेहतर प्रयास भी किए जा रहे है ऐसे में जाहिर है कि लोगों का रुझान क्रेडिट कार्ड की तरफ काफी बढ़ रहा है। क्रेडिट कार्ड के बढ़ते इस्तेमाल पर यह बात बहुत मायने रखती है कि आप अपने लिए कौन-सा क्रेडिट कार्ड चुनें। आज हम आपको कुछ ऐसे आसान टिप्स बताने जा रहे…
Loading...