ऐसे दूर करें अकेलापन और डिप्रेशन, ये हैं लक्षण

Depression

लखनऊ। यदि आप बिना किसी कारण के कमजोरी और उदासी महसूस कर रहे हैं तो इसका अर्थ है कि आप डिप्रेशन के शिकार हो रहे हैं। आज हम आपको प्रतिदिन की कुछ ऐसी आदतों के बारे में बताएंगे जिससे डिप्रेशन का खतरा काफी बढ़ सकता हैं।

डिप्रेशन के प्रमुख कारणों में जीवनशैली, काम का दबाव, स्वास्थ्य के लिए हानिकारक आदतें, अनुवांशिक प्रवृत्ति, अक्रियाशील रिश्ते, मस्तिष्क में रासायनिक असंतुलन आदि शामिल है। डिप्रेशन वह स्थिति होती है जिससे ग्रसित व्यक्ति बहुत अधिक दुखी और निराशा महसूस करता है।

{ यह भी पढ़ें:- अगर आप भी हैं अवसाद के शिकार तो खाएं अंगूर }

डिप्रेशन के लक्षण

अगर कोई व्यक्ति छोटी-छोटी बातों पर परेशान रहने लगे, किसी की बात पर उसको सहज विश्वास न हो, किसी से मिलने का मन न करें, रातों में नींद न आए, सोते-सोते अचानक जाग जाए, बहुत ज्यादा थकान महसूस करे, थोड़ा काम करने पर ही थक जाए, काम पर ध्यान न दे पाए, तो ऐसी स्थिति में व्यक्ति अकेलेपन या डिप्रेशन का शिकार होता है

{ यह भी पढ़ें:- नहीं लगती है भूख, कहीं ये तो नहीं इसकी वजह }

ऐसे बच सकते हैं डिप्रेशन से

  • कुछ एक्टिविटी ज्वॉइन करें जो आपको पसंद हो। जैसे डांस, म्यूजिक, योगा क्लासि‍स या क्लब।
  • हमेशा फैमिली मेंबर्स, रिलेटिव्स और फ्रेंड्स के संपर्क में रहें।
  • ऐसे दोस्त बनाएं जिनसे आप अपनी निजी बातें शेयर कर सकें।
  • अपनी समस्याओं को कुछ खास लोगों से शेयर करते रहें और उनके अनुभव से सीखने की कोशिश करें।
  • अकेले रहने के बजाय दोस्तों के साथ रहें।
  • पड़ोसियों से हमेशा अच्छा मेल-जोल रखें।
  • डिप्रेशन में सैड सॉंग कभी ना सुने। किसी भी सॉन्ग सुनने के साथ साथ खुद भी गाना गये।

लखनऊ। यदि आप बिना किसी कारण के कमजोरी और उदासी महसूस कर रहे हैं तो इसका अर्थ है कि आप डिप्रेशन के शिकार हो रहे हैं। आज हम आपको प्रतिदिन की कुछ ऐसी आदतों के बारे में बताएंगे जिससे डिप्रेशन का खतरा काफी बढ़ सकता हैं। डिप्रेशन के प्रमुख कारणों में जीवनशैली, काम का दबाव, स्वास्थ्य के लिए हानिकारक आदतें, अनुवांशिक प्रवृत्ति, अक्रियाशील रिश्ते, मस्तिष्क में रासायनिक असंतुलन आदि शामिल है। डिप्रेशन वह स्थिति होती है जिससे ग्रसित व्यक्ति बहुत…
Loading...