तीस हजारी कोर्ट बवाल: जवान ने हवा में दागी थीं गोलियां, लोहे से टकराकर वकील के कंधे में लगी

delhi police vs lawyers
तीस हजारी कोर्ट बवाल: जवान ने हवा में दागी थीं गोलियां, लोहे से टकराकर वकील के कंधे में लगी

नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस की एसआईटी ने तीस हजारी कोर्ट में हुए बवाल की जांच शुरू कर दी है। एसआईटी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि तीस हजारी बवाल में कुल 21 पुलिसकर्मी और 5 वकील घायल हुए हैं। घायल पुलिसकर्मियों ने भी सब्जी मंडी थाने में शिकायत दी है, लेकिन इस पर अभी एफआईआर दर्ज नहीं हुई है। एसआईटी की जांच में चौंकाने वाले खुलासे सामने आ रहे हैं।

Tis Hazari Court Ruckus The Jawan Fired Bullets In The Air Hit The Iron And Hit The Lawyers Shoulder :

एसआईटी ने घायल वकीलों और पुलिसकर्मियों के बयान लेने शुरू कर दिए हैं। अब तक एक दर्जन से ज्यादा लोगों के बयान दर्ज किए जा चुके हैं। एसआईटी ने घटनास्थल के पास लगे करीब आधा दर्जन सीसीटीवी कैमरों की फुटेज को जब्त कर लिया है। फुटेज से सारी स्थिति स्पष्ट हो रही है।

एसआईटी की जांच में यह बात सामने आई है कि उत्तरी जिले के अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त हरेंद्र कुमार से वकीलों की हाथापाई के दौरान तीसरी बटालियन के एक पुलिसकर्मी ने हवा में दो गोलियां चलाई थीं।

दोनों गोलियां लॉकअप से हवा में बाहर की तरफ चलाई गई इन दो में से एक गोली लोहे के एंगल से टकराकर वकील विजय शर्मा के कंधे में जा लगी। एसआईटी को पता चला है कि हवा में फायरिंग के बाद ही आरोपियों ने एडीसीपी हरेंद्र कुमार को छोड़ा था। इसके बाद भीड़ तितर-बितर हो गई थी।

क्षतिग्रस्त वाहन और पिस्टल कब्जे में लिए
एसआईटी ने तीस हजारी बवाल में क्षतिग्रस्त हुए वाहनों को जब्त कर लिया है। इनमें 10 मोटरसाइकिलें, एक जिप्सी और 8 जेल वैन हैं। मोटरसाइकिल निजी है। मोटरसाइकिल व जिप्सी जली हुई हैं, जबकि जेल वैन के शीशे तोड़े गए हैं। वकील विजय शर्मा को लगी गोली जिस पिस्टल से चली थी, एसआईटी ने उसे कब्जे में ले लिया है। मौके से दो खोखे भी मिले हैं। हालांकि, डीसीपी के ऑपरेटर से छीनी गई पिस्टल का अब तक पता नहीं लगा है।

नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस की एसआईटी ने तीस हजारी कोर्ट में हुए बवाल की जांच शुरू कर दी है। एसआईटी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि तीस हजारी बवाल में कुल 21 पुलिसकर्मी और 5 वकील घायल हुए हैं। घायल पुलिसकर्मियों ने भी सब्जी मंडी थाने में शिकायत दी है, लेकिन इस पर अभी एफआईआर दर्ज नहीं हुई है। एसआईटी की जांच में चौंकाने वाले खुलासे सामने आ रहे हैं। एसआईटी ने घायल वकीलों और पुलिसकर्मियों के बयान लेने शुरू कर दिए हैं। अब तक एक दर्जन से ज्यादा लोगों के बयान दर्ज किए जा चुके हैं। एसआईटी ने घटनास्थल के पास लगे करीब आधा दर्जन सीसीटीवी कैमरों की फुटेज को जब्त कर लिया है। फुटेज से सारी स्थिति स्पष्ट हो रही है। एसआईटी की जांच में यह बात सामने आई है कि उत्तरी जिले के अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त हरेंद्र कुमार से वकीलों की हाथापाई के दौरान तीसरी बटालियन के एक पुलिसकर्मी ने हवा में दो गोलियां चलाई थीं। दोनों गोलियां लॉकअप से हवा में बाहर की तरफ चलाई गई इन दो में से एक गोली लोहे के एंगल से टकराकर वकील विजय शर्मा के कंधे में जा लगी। एसआईटी को पता चला है कि हवा में फायरिंग के बाद ही आरोपियों ने एडीसीपी हरेंद्र कुमार को छोड़ा था। इसके बाद भीड़ तितर-बितर हो गई थी। क्षतिग्रस्त वाहन और पिस्टल कब्जे में लिए एसआईटी ने तीस हजारी बवाल में क्षतिग्रस्त हुए वाहनों को जब्त कर लिया है। इनमें 10 मोटरसाइकिलें, एक जिप्सी और 8 जेल वैन हैं। मोटरसाइकिल निजी है। मोटरसाइकिल व जिप्सी जली हुई हैं, जबकि जेल वैन के शीशे तोड़े गए हैं। वकील विजय शर्मा को लगी गोली जिस पिस्टल से चली थी, एसआईटी ने उसे कब्जे में ले लिया है। मौके से दो खोखे भी मिले हैं। हालांकि, डीसीपी के ऑपरेटर से छीनी गई पिस्टल का अब तक पता नहीं लगा है।