एनआरसी मुद्दा : टीएमसी मुखिया ममता के बयान के बाद पार्टी अध्यक्ष ने दिया इस्तीफा

tmc dwipan pathak
एनआरसी मुद्दा : टीएमसी मुखिया ममता के बयान के बाद पार्टी अध्यक्ष ने दिया इस्तीफा

नई दिल्ली। राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) के मुद्दा अब सियासी रूप लेता जा रहा है। इस मसले में तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) की मुखिया ममता बनर्जी के बयान के बाद से असम राज्य में टीएमसी अध्यक्ष द्विपेन पाठक ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। उनका कहना था कि मुखिया द्वारा दिया गया ये बयान विवादित है, जिसको लेकर तनाव पैदा होना तय है। पार्टी अध्यक्ष होने के चलते इस दोषी मुझे बनाया जाएगा, इसलिए मैं पद से इस्तीफा दे रहा हूं।

Tmc President Resign After Statement Mamta Banerjee Over Nrc Issue :

दरअसल ममता बनर्जी ने इस मसले पर बोलते हुए कहा ​था कि असम से बंगालियों को बाहर करने के लिए एनआरसी लागू किया जा रहा है। जिसको लेकर पार्टी अध्यक्ष नाराज हो गए। इससे पहले गुरुवार को ही एनआरसी का विरोध कर रहे टीएमसी के 6 सांसदों और दो विधायकों को असम के सिलचर एयरपोर्ट पर हिरासत में ले लिया गया। जिसके बाद हिरासत में लिए गए नेताओं ने कहा कि वो एयरपोर्ट छोंड़कर नही जाएंगे। इन नेताओं को अगली उड़ान से वापस भेजा जा सकता है। टीएमसी नेताओं का कहना है कि वो लोग शांतिपूर्ण प्रदर्शन करना चाहते थे, बावजूद इसके उन्हे हिरासत में ले लिया गया।

तृणमूल कांग्रेस नेता डेरेक ओ ब्रायन ने आरोप लगाया कि सिलचर एयरपोर्ट पर उनके नेताओं के साथ बदसलूकी की गई। उन्‍होंने कहा कि हिरासत में लिए गए सभी लोग जन प्रतिनिधि हैं। तृणमूल नेताओं ने कानून का उल्‍लंघन नहीं किया है। लोगों से मिलना उनका लोकतांत्रिक अधिकार है। इसके बावजूद उन लोगों ने अपमानजनक व्यवहार किया गया।

नई दिल्ली। राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) के मुद्दा अब सियासी रूप लेता जा रहा है। इस मसले में तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) की मुखिया ममता बनर्जी के बयान के बाद से असम राज्य में टीएमसी अध्यक्ष द्विपेन पाठक ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। उनका कहना था कि मुखिया द्वारा दिया गया ये बयान विवादित है, जिसको लेकर तनाव पैदा होना तय है। पार्टी अध्यक्ष होने के चलते इस दोषी मुझे बनाया जाएगा, इसलिए मैं पद से इस्तीफा दे रहा हूं।दरअसल ममता बनर्जी ने इस मसले पर बोलते हुए कहा ​था कि असम से बंगालियों को बाहर करने के लिए एनआरसी लागू किया जा रहा है। जिसको लेकर पार्टी अध्यक्ष नाराज हो गए। इससे पहले गुरुवार को ही एनआरसी का विरोध कर रहे टीएमसी के 6 सांसदों और दो विधायकों को असम के सिलचर एयरपोर्ट पर हिरासत में ले लिया गया। जिसके बाद हिरासत में लिए गए नेताओं ने कहा कि वो एयरपोर्ट छोंड़कर नही जाएंगे। इन नेताओं को अगली उड़ान से वापस भेजा जा सकता है। टीएमसी नेताओं का कहना है कि वो लोग शांतिपूर्ण प्रदर्शन करना चाहते थे, बावजूद इसके उन्हे हिरासत में ले लिया गया।तृणमूल कांग्रेस नेता डेरेक ओ ब्रायन ने आरोप लगाया कि सिलचर एयरपोर्ट पर उनके नेताओं के साथ बदसलूकी की गई। उन्‍होंने कहा कि हिरासत में लिए गए सभी लोग जन प्रतिनिधि हैं। तृणमूल नेताओं ने कानून का उल्‍लंघन नहीं किया है। लोगों से मिलना उनका लोकतांत्रिक अधिकार है। इसके बावजूद उन लोगों ने अपमानजनक व्यवहार किया गया।