उपचुनाव में जीत के बाद TMC समर्थकों की गुंडागर्दी, भाजपा कार्यालयों पर किया कब्जा

tmc
उपचुनाव में जीत के बाद TMC समर्थकों की गुंडागर्दी, भाजपा कार्यालयों पर किया कब्जा

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल में विधानसभा की तीन सीटों के लिए हुए उपचुनाव में जीत के बाद सत्‍तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के हौसले बुलंद हैं। टीएमसी समर्थकों पर जीत की खुमारी ऐसी चढ़ी है कि वो बीजेपी दफ्तरों पर कब्जे करने लगे हैं। टीएमसी कार्यकर्ता बीजेपी के बंद ऑफिसों के ताले तोड़कर उस पर कब्जा कर लिया।

Tmc Supporters Hooliganism After Victory In By Elections Bjp Offices Occupied :

चुनावी नतीजे आने के बाद टीएमसी कार्यकर्ता उत्तर 24 परगना जिले के पानपुर, नैहाटी, मद्राल और बैरकपुर में स्थित भाजपा कार्यालयों में पहुंचे और उन्होंने पार्टी के दीवारों और छतों पर पेंट कर दिया। इसके बाद उन्होंने भाजपा के कार्यालय पर टीएमसी का झंडा फहराया। टीएमसी कार्यकर्ताओं ने वहां नारेबाजी भी की।

उपचुनाव कांग्रेस-सीपीएम के लिए झटका साबित हुईं, जो राज्‍य में वापस अपनी जमीन तलाशने में जुटी थीं। दोनों पार्टियों के साथ आने के बावजूद टीएमसी कांग्रेस से कालीगंज सीट छीनने में कामयाब रही, जो कांग्रेस विधायक प्रमथनाथ राय के निधन के कारण रिक्‍त हुई थी। टीएमसी जहां खड़गपुर सदर बीजेपी से और कालीगंज सीट कांग्रेस से छीनने में कामयाब रही, वहीं करीमपुर सीट इसने बचाए रखी, जो विधायक महुआ मोइत्रा के लोकसभा चुनाव जीत लिए जाने के कारण यहां से इस्‍तीफे के बाद खाली हुई थी।

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल में विधानसभा की तीन सीटों के लिए हुए उपचुनाव में जीत के बाद सत्‍तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के हौसले बुलंद हैं। टीएमसी समर्थकों पर जीत की खुमारी ऐसी चढ़ी है कि वो बीजेपी दफ्तरों पर कब्जे करने लगे हैं। टीएमसी कार्यकर्ता बीजेपी के बंद ऑफिसों के ताले तोड़कर उस पर कब्जा कर लिया। चुनावी नतीजे आने के बाद टीएमसी कार्यकर्ता उत्तर 24 परगना जिले के पानपुर, नैहाटी, मद्राल और बैरकपुर में स्थित भाजपा कार्यालयों में पहुंचे और उन्होंने पार्टी के दीवारों और छतों पर पेंट कर दिया। इसके बाद उन्होंने भाजपा के कार्यालय पर टीएमसी का झंडा फहराया। टीएमसी कार्यकर्ताओं ने वहां नारेबाजी भी की। उपचुनाव कांग्रेस-सीपीएम के लिए झटका साबित हुईं, जो राज्‍य में वापस अपनी जमीन तलाशने में जुटी थीं। दोनों पार्टियों के साथ आने के बावजूद टीएमसी कांग्रेस से कालीगंज सीट छीनने में कामयाब रही, जो कांग्रेस विधायक प्रमथनाथ राय के निधन के कारण रिक्‍त हुई थी। टीएमसी जहां खड़गपुर सदर बीजेपी से और कालीगंज सीट कांग्रेस से छीनने में कामयाब रही, वहीं करीमपुर सीट इसने बचाए रखी, जो विधायक महुआ मोइत्रा के लोकसभा चुनाव जीत लिए जाने के कारण यहां से इस्‍तीफे के बाद खाली हुई थी।