सावन का पहला सोमवार आज, इस बार है अद्भुत संयोग

लखनऊ। आज से भगवान शिव का प्रिय माह शुरू हो गया है। मंदिरों में श्रद्धालुओं की बड़ी तादात में भीड़ नज़र आ रही है। मंदिरों में भगवान भोलेनाथ के नाम के जयकारे गूंजेंगे, लेकिन इस बार सावन एक अद्भुत संयोग लेकर आया है। ऐसा शुभ संयोग कई सालों में कहीं एक बार आता है।

साल में एक बार होता है ऐसा–

{ यह भी पढ़ें:- आखिर शिव ने क्यों थाम लिया था त्रिशूल, डमरू, नाग और चंद्रमा }

इस बार का सावन महीना कुछ अलग संयोग लेकर आया है, क्योंकि इस बार सावन में पांच सोमवार होंगे। खास बात ये है कि पहले सावन की शुरुवात सोमवार से हुयी है और समापन भी सोमवार को ही होगा। ऐसा कहा जा रहा है कि ये शुभ संकेत सालों में कहीं एक बार आता है। इस दौरान मंदिरों में भगवान भोलेनाथ के नाम के जयकारे लग रहे हैं और कांवरिये भी अपना कांवड़ लेकर निकल चुके हैं। इस सावन भगवान भोले को प्रसन्न करने के लिए उनका व्रत रखकर उनकी पूजा करे जिसके बाद भगवान शिव सभी की मनोकामनायें पूरी करेंगे।

सावन में भोलेनाथ को ये चढ़ाये—

{ यह भी पढ़ें:- सावन का तीसरा सोमवार होता है खास, जानें वजह }

सावन के महीने में हर सोमवार भगवान शिव को जल चढ़ाएं, जिससे उनकी कृपा अपने भक्तों पर बनी रहती है। सबसे पहले महादेव के अभिषेक में जल, दूध, दही, घी, शक्कर, शहद, गंगा जल, गन्ने का रस आदि का प्रयोग करें. उन्हें बेलपत्र, नीलकमल, जंवाफूल कनेर, समीपत्र, दूब, कुशा, कमल, राई फूल चढ़ाकर प्रसन्न करें। धतूरा, भांग और श्रीफल चढ़ाएं।

जाने क्यों खास है इस बार का सावन—

इस बार सावन बेहद खास है। वजह है, इस बार सावन माह में पांच सोमवार हैं। ये पवित्र माह सोमवार से ही शुरू हुआ है और सोमवार को ही इसका समापन भी होगा। ये खास योग कई वर्षों के बाद ही बनता है। इस बार सावन माह में तीन सोमवार सर्वार्थ सिद्धि योग बन रहे हैं। पहला सोमवार सर्वार्थ सिद्धि योग में शुरू होगा और आखिरी सोमवार के सर्वार्थ सिद्धि योग में खत्म भी होगा।

प्रतिष्ठित मंदिरों में विशेष तैयारी—-

हर बार की तरह इस बार भी पूरे देश के शिवालयों में श्रद्धालुओं का तांता लगेगा। उत्तर प्रदेश के वाराणसी स्थित विश्वनाथ मंदिर उज्जैन के महाकाल मंदिर, झारखण्ड के देवघर स्थित बैद्यनाथ धाम, रांची के पहाड़ी मंदिर, बिहार के हरिहरनाथ मंदिर, बाबा गरीबनाथ मंदिर, सोमेश्वर मंदिर , गुप्तधाम मंदिर , गुजरात के सोमनाथ मंदिर, उत्तरखंड के केदारनाथ मंदिर समेत पूरे देश में सावन की विशेष तैयारियां की गई हैं। मंदिरों में उमड़ने वाली भीड़ को देखते हुए प्रायः सभी शहरों के स्थानीय प्रशासन ने सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए हैं।