बिना अनुमति के महिला को छूना भी अपराध: हाईकोर्ट

महिला का छूना भी अपराध
बिना अनुमति के महिला का छूना भी अपराध: हाईकोर्ट

नई दिल्ली। दिल्ली हाईकोर्ट की एक अदालत ने नाबालिग बच्ची को गंदे इरादे से छूने के मामले में सुनवाई करते हुए गंभीर टिप्पणी की है। अदालत ने कहा कि महिला को उसकी अनुमति के बिना कोई छू तक नहीं सकता। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि यौन विकृति और अय्याश प्रवृत्ति के लोग आज भी महिलाओं को पेरशान करने में कामयाब हो रहे हैं।

साल 2014 में एक नौ साल की बच्ची के साथ दिल्ली के मुखर्जी नगर इलाके में छविराम नामक व्यक्ति द्वारा की गई छेड़छाड़ की घटना के मामले की सुनवाई कर रही अतिरिक्त अदालत की न्यायाधीश सीमा मैनी ने अपना फैसला सुनाते हुए आरोपी व्यक्ति को यौन उत्पीड़न का दोषी करार दिया है।

{ यह भी पढ़ें:- चिदंबरम को कोर्ट से मिली राहत, गिरफ्तारी पर 1 अगस्त तक लगाई रोक }

इस मामले में यूपी निवासी छविराम के खिलाफ 25 सितंबर 2014 को नाबालिग बच्ची को सरेराह अनुचित तरीके से छूने का मामला दर्ज हुआ था। अदालत ने उसे दोषी पाते हुए, पांच साल की सश्रम कारावास की सजा सुनाई है।

{ यह भी पढ़ें:- केन्द्र सरकार बताए अध्यादेश के रेप पीड़िता बच्चियों पर क्या होंगे प्रभाव : हाईकोर्ट }

नई दिल्ली। दिल्ली हाईकोर्ट की एक अदालत ने नाबालिग बच्ची को गंदे इरादे से छूने के मामले में सुनवाई करते हुए गंभीर टिप्पणी की है। अदालत ने कहा कि महिला को उसकी अनुमति के बिना कोई छू तक नहीं सकता। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि यौन विकृति और अय्याश प्रवृत्ति के लोग आज भी महिलाओं को पेरशान करने में कामयाब हो रहे हैं। साल 2014 में एक नौ साल की बच्ची के साथ दिल्ली के मुखर्जी नगर इलाके में छविराम नामक…
Loading...