PM मोदी ने साथ आने का दिया था ऑफर, मैंने ठुकराया: शरद पवार

sharad pawar
PM मोदी ने साथ आने का दिया था ऑफर, मैंने ठुकराया: शरद पवार

मुंबई। एनसीपी (NCP) के प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar) ने बड़ा खुलासा किया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने उन्हें साथ मिलकर काम करने का प्रस्ताव दिया था, लेकिन उन्होंने उनके प्रस्ताव को ठुकरा दिया। लेकिन पवार ने यह कहते हुए मना कर दिया कि यह राजनीतिक दृष्टिकोण से संभव नहीं है। शरद पवार की पीएम मोदी से मुलाकात अजित पवार द्वारा बीजेपी से हाथ मिलाने के तीन दिन पहले हुई थी।
 
शरद पवार ने एक मराठी चैनल को दिए इंटरव्यू में पीएम से हुई मुलाकात पर खुलकर बात की। पवार ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने साथ आकर काम करने का प्रस्ताव दिया था। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी ने बेटी सुप्रिया सुले को कैबिनेट मंत्री बनाने का भी प्रस्ताव रखा था। मुझे राष्ट्रपति बनाने जैसी कोई बात नहीं हुई थी। शरद पवार ने कहा कि पीएम मोदी का प्रस्ताव मैंने खारिज कर दिया था।  

Tra Pm Modi Offered To Come Together I Turned Down Sharad Pawar :

मेरे लिए साथ मिलकर काम करना संभव नहीं है

शरद पवार ने कहा, ‘नरेंद्र मोदी ने मुझे साथ मिलकर काम करने का प्रस्ताव दिया था। मैंने उनसे कहा कि हमारे निजी संबंध बहुत अच्छे हैं और वे हमेशा रहेंगे, लेकिन मेरे लिए साथ मिलकर काम करना संभव नहीं है।’ गौरतलब है कि महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर चल रहे घटनाक्रम के बीच शरद पवार ने पिछले महीने नरेंद्र मोदी से मुलाकात की थी।

‘अजित के कदम से परिवार खुश नहीं था’

एनसीपी चीफ ने कहा कि उन्हें नहीं पता कि (पवार) परिवार में क्या किसी ने (अजित पवार से फडणवीस को समर्थन देने के उनके फैसले पर पुनर्विचार करने के लिए) बात की थी, लेकिन परिवार के सभी का मानना था कि अजित ने गलत किया. उन्होंने कहा, ‘बाद में मैंने उनसे कहा कि जो कुछ भी उन्होंने किया वह क्षम्य नहीं है। जो कोई भी ऐसा करेगा उसे परिणाम भुगतान होगा और आप अपवाद नहीं हैं।’

बता दें कि महाराष्ट्र में हुए हालिया विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार के दौरान भी विपक्ष पर हमलावर रहे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शरद पवार पर नरम रुख दिखाया था। पीएम मोदी शरद पवार पर सीधे हमले से बचते रहे थे। पीएम मोदी पहले भी पवार की तारीफ कर चुके हैं।  

मुंबई। एनसीपी (NCP) के प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar) ने बड़ा खुलासा किया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने उन्हें साथ मिलकर काम करने का प्रस्ताव दिया था, लेकिन उन्होंने उनके प्रस्ताव को ठुकरा दिया। लेकिन पवार ने यह कहते हुए मना कर दिया कि यह राजनीतिक दृष्टिकोण से संभव नहीं है। शरद पवार की पीएम मोदी से मुलाकात अजित पवार द्वारा बीजेपी से हाथ मिलाने के तीन दिन पहले हुई थी।   शरद पवार ने एक मराठी चैनल को दिए इंटरव्यू में पीएम से हुई मुलाकात पर खुलकर बात की। पवार ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने साथ आकर काम करने का प्रस्ताव दिया था। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी ने बेटी सुप्रिया सुले को कैबिनेट मंत्री बनाने का भी प्रस्ताव रखा था। मुझे राष्ट्रपति बनाने जैसी कोई बात नहीं हुई थी। शरद पवार ने कहा कि पीएम मोदी का प्रस्ताव मैंने खारिज कर दिया था।   मेरे लिए साथ मिलकर काम करना संभव नहीं है शरद पवार ने कहा, ‘नरेंद्र मोदी ने मुझे साथ मिलकर काम करने का प्रस्ताव दिया था। मैंने उनसे कहा कि हमारे निजी संबंध बहुत अच्छे हैं और वे हमेशा रहेंगे, लेकिन मेरे लिए साथ मिलकर काम करना संभव नहीं है।’ गौरतलब है कि महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर चल रहे घटनाक्रम के बीच शरद पवार ने पिछले महीने नरेंद्र मोदी से मुलाकात की थी। 'अजित के कदम से परिवार खुश नहीं था' एनसीपी चीफ ने कहा कि उन्हें नहीं पता कि (पवार) परिवार में क्या किसी ने (अजित पवार से फडणवीस को समर्थन देने के उनके फैसले पर पुनर्विचार करने के लिए) बात की थी, लेकिन परिवार के सभी का मानना था कि अजित ने गलत किया. उन्होंने कहा, 'बाद में मैंने उनसे कहा कि जो कुछ भी उन्होंने किया वह क्षम्य नहीं है। जो कोई भी ऐसा करेगा उसे परिणाम भुगतान होगा और आप अपवाद नहीं हैं।' बता दें कि महाराष्ट्र में हुए हालिया विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार के दौरान भी विपक्ष पर हमलावर रहे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शरद पवार पर नरम रुख दिखाया था। पीएम मोदी शरद पवार पर सीधे हमले से बचते रहे थे। पीएम मोदी पहले भी पवार की तारीफ कर चुके हैं।