1. हिन्दी समाचार
  2. अमेरिका से ट्रेड वॉर चीन को ले डूबा, 29 साल के निचले स्तर पर पहुंचा GDP ग्रोथ

अमेरिका से ट्रेड वॉर चीन को ले डूबा, 29 साल के निचले स्तर पर पहुंचा GDP ग्रोथ

Trade War Drags China From Us Gdp Growth Reaches 29 Year Low

By रवि तिवारी 
Updated Date

नई दिल्ली। अमेरिका के साथ लंबे समय से चल रही ‘ट्रेड वॉर’ (Trade War) की वजह से चीन की जीडीपी विकास दर 29 साल के निचले स्तर पर आ गई है। नेशनल ब्यूरो ऑफ स्टैटिस्टिक्स ने चीन की अर्थव्यवस्था से संबंधित आंकड़े जारी किए हैं। इन आंकड़ों के मुताबिक, चीन की सकल घरेलू उत्पाद यानी GDP विकास दर 2019 में 6.1 प्रतिशत रही जो कि पिछले तीन दशक में सबसे कम है। 

पढ़ें :- ईमानदारी की मिसालः बस में मिला युवती को रुपयों से भरा बैग, वापस लौटाया

चीन में घरेलू मांग में कमी और करीब डेढ़ साल से अमेरिका के साथ बने ट्रेड वॉर की स्थ‍िति की वजह से वहां की इकोनॉमी की हालत खराब हुई है। हालांकि भारत में इस वित्त वर्ष में सिर्फ 5 फीसदी की बढ़त का अनुमान है, इस लिहाज से चीन की अर्थव्यवस्था आगे है।

शुक्रवार को जारी किए गए सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, साल 2019 में जीडीपी की दर 2018 के 6.6 फीसदी से भी नीचे आ गई, जो पहले ही 1990 के बाद का न्यूनतम स्तर था। दिसंबर महीने में खत्म हुई तिमाही के लिए ग्रोथ की रफ्तार 6 पर्सेंट पर बनी रही। सितंबर तिमाही में भी चीनी अर्थव्यवस्था के बढ़ने की यही रफ्तार दर्ज की गई थी।

चीन के ट्रेड सरप्लस और टेक्नॉलजी से जुड़े हितों को लेकर चीन और अमेरिका के बीच लड़ाई में अमेरिका ने टैरिफ बढ़ा दिया था, जिसकी वजह से चीनी निर्यातकों पर असर पड़ा। हालांकि, पूरी चीनी इकॉनमी पर कई एक्सपर्ट्स के अनुमानों से कहीं कम असर देखने को मिला है।

इसी हफ्ते चीन और अमेरिका के बीच ट्रेड वॉर पर विराम लगने का संकेत मिला है और दोनों ने पहले फेज की ट्रेड डील पर हस्ताक्षर किए हैं। इसके तहत अमेरिका द्वारा अतिरिक्त टैरिफ बढ़ोतरी को कैंसल करने और चीन द्वारा अमेरिकी फार्म एक्सपोर्ट की खरीदारी रकी प्रतिबद्धता पर सहमति बनी है। दोनों ओर से पहले से लागू टैरिफ बढ़ोतरी में कोई बदलाव नहीं किया गया है।

पढ़ें :- किसान आंदोलनः पांचवीं दौर की वार्ता के लिए विज्ञान भवन पहुंचे किसान

2019 के लिए विकास दर चीन की सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी के आधिकारिक टारगेट रेंज में तो है, लेकिन निचली ओर। टारगेट 6-6.5% का रखा गया था, जो दिसंबर में खत्म हुई तिमाही में 6% दर्ज की गई। साल 2019 मे ग्राहक खर्च, निवेश और फैक्ट्री आउटपुट, सभी कमजोर हुए।  

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...