ट्रेन-18 ने 180 किमी प्रति घंटे की रफ्तार पार कर बनाया नया रिकॉर्ड

ट्रेन-18 ने 180 किमी प्रति घंटे की रफ्तार पार कर बनाया नया रिकॉर्ड
ट्रेन-18 ने 180 किमी प्रति घंटे की रफ्तार पार कर बनाया नया रिकॉर्ड

मुंबई। भारत की पहली लोकोमोटिव (इंजन) रहित ट्रेन ‘ट्रेन 18’ ने रविवार को परीक्षण के दौरान 180 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार को पार कर नया रिकॉर्ड बना दिया है। इस बारे में एक रेलवे अधिकारी ने बताया कि सौ करोड़ रुपये की आधुनिक डिजाइन वाली ट्रेन का जब संचालन शुरू होगा तो यह देश की सबसे तेज गति वाली ट्रेन बन जाएगी।

Train 18 Crosses 180 Km Per Hour Speed Barrier :

ट्रेन-18 की रफ्तार को लेकर इस ट्रेन के निर्माण वाली ‘इंटीग्रल कोच फैक्टरी’ (आईसीएफ) के महाप्रबंधक एस मणि ने कहा, ‘ट्रेन 18’ ने कोटा-सवाई माधेापुर खंड में 180 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार की सीमा पार की। फिलहाल अब प्रमुख परीक्षण पूरा हो चुके हैं, बस कुछ अन्य बचे हैं। रिपोर्ट के आधार पर, अगर जरूरत पड़ी तो चीजों को और बेहतर किया जाएगा। फिलहाल कोई बड़ी तकनीकी समस्या सामने नहीं आई है.’

मणि ने कहा, ‘हमें उम्मीद है कि ‘ट्रेन 18’ जनवरी 2019 से अपना वाणिज्यिक संचालन शुरू करेगी। आमतौर पर, परीक्षण में तीन महीने का समय लगता है। लेकिन अब यह उम्मीद से तेज गति से हो रहा है।’

मुंबई। भारत की पहली लोकोमोटिव (इंजन) रहित ट्रेन ‘ट्रेन 18’ ने रविवार को परीक्षण के दौरान 180 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार को पार कर नया रिकॉर्ड बना दिया है। इस बारे में एक रेलवे अधिकारी ने बताया कि सौ करोड़ रुपये की आधुनिक डिजाइन वाली ट्रेन का जब संचालन शुरू होगा तो यह देश की सबसे तेज गति वाली ट्रेन बन जाएगी।ट्रेन-18 की रफ्तार को लेकर इस ट्रेन के निर्माण वाली ‘इंटीग्रल कोच फैक्टरी’ (आईसीएफ) के महाप्रबंधक एस मणि ने कहा, ‘ट्रेन 18’ ने कोटा-सवाई माधेापुर खंड में 180 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार की सीमा पार की। फिलहाल अब प्रमुख परीक्षण पूरा हो चुके हैं, बस कुछ अन्य बचे हैं। रिपोर्ट के आधार पर, अगर जरूरत पड़ी तो चीजों को और बेहतर किया जाएगा। फिलहाल कोई बड़ी तकनीकी समस्या सामने नहीं आई है.’मणि ने कहा, ‘हमें उम्मीद है कि ‘ट्रेन 18’ जनवरी 2019 से अपना वाणिज्यिक संचालन शुरू करेगी। आमतौर पर, परीक्षण में तीन महीने का समय लगता है। लेकिन अब यह उम्मीद से तेज गति से हो रहा है।’