Train Becomes Isolation Guard Ward :

वैश्विक महामारी को देखते हुए ट्रेन की बोगी को बनाया गया आसोलेशन रक्षक वार्ड .ये आसोलेशन रक्षक वार्ड पटरियों पर दौड़ेगी. और जहाँ भी इस रक्षक वार्ड की जरूरत पड़ेगी वहां ट्रेन की पटरियों पर खड़ी होकर आसोलेशन रक्षक वार्ड देगी सेवा।

शासन के निर्देश पर पूर्वोत्तर रेलवे,ने मुख्यालय, गोरखपुर में ट्रेन की बोगियों को आसोलेशन वार्ड बनाया .जो पूरी तरह बनकर हुआ तैयार . पूर्वोत्तर एनी रेलवे कुल 38 बोगियों को आइसोलेशन वार्ड बनाएगा. जिसमें यह रक्षक बोगी पैरामेडिकल स्टाफ सहित मरीजों की भी रक्षा करेगी .चारों तरफ मच्छरों से बचने के लिए जालियों से ढक दिया गया है .साथ ही दो टॉयलेट में 1 को बाथरूम में कन्वर्ट कर दिया गया है.और बाथरूम में नहाने के लिए सावर हाथ धोने के लिए सैनिटाइजर और कोरोना पीड़ितों के मरीज को बैठकर नहाने के लिए एक छोटा प्लास्टिक स्टूल बैठने के लिए और एक प्लास्टिक की बाल्टी और मग नहाने के लिए इंतेजाम किये गए है.यानी पूरी तरह से हर सुबिधा होगी.

आप देख सकते हैं कि केबिन में जहां प्लास्टिक के पर्दे वाला यह केबिन पैरामेडिकल स्टाफ के लिए रखा गया है जिसमें तीन डस्टबिन भी हैं.उसके अलावा आगे के केबिन में मरीज को रखा जाएगा. और एक केविन में केवल एक मरीज होगा उस मरीज के इलाज के लिए ऊपर चार हुक दिए गए हैं। दो बोतल रखने की अलग से सिस्टम लगाया गया है.हमने यहां के जब अधिकारी से बात करी तो उन्होंने बताया कि. उन्हें कुल 38 बोगियां मिली है 38 बोगियों में 21 को तैयार कर लिया गया है। एक बोगी में 9 केबिन होता है जिसमें एक पैरामेडिकल स्टाफ के लिए होगा. बाकी आठ केविन 8 मरीजों के लिए होगा।

आसोलेशन वार्ड में क्वॉरेंटाइन किये गए मरीजों का खास ख्याल रखा जाएगा। बोगी पूरी तरह बनकर तैयार है. अब डिमांड वाली जगह पर रेलवे इन्हें भेजने के लिए तैयार है.

रिपोर्टर….रवि जायसवाल