Indian Railways: नए साल से रेल यात्रियों के लिए महंगा होगा सफर

Indian Railways: नए साल से रेल यात्रियों के लिए महंगा होगा सफर
Indian Railways: नए साल से रेल यात्रियों के लिए महंगा होगा सफर

नई दिल्ली। अगर आप भी रेल यात्रा करते हैं तो यह खबर आपको झटका दे सकती है, दरअसल रेलवे नए साल से यात्रियों के किराए में इजाफा किया जा रहा है। जहां एक तरफ परिवहन निगम यात्रियों को लुभाने के लिए टेलीस्कोपिक पद्धित से किराया घटा रहा है वहीं, एक जनवरी से ट्रेनों का किराया बढ़ गया है। रेलवे ने प्रति किमी. के हिसाब से जनरल, स्लीपर और एसी किराये में क्रमश: एक पैसा, दो पैसा और चार पैसा बढ़ाया है। इससे लखनऊ से दिल्ली, कोलकाता, देहरादून, चण्डीगढ़ समेत फैजाबाद व वाराणसी जाने वाले यात्रियों को जेबें ढीली करनी पड़ेंगी।

Train Ticket Fares Increased Since January 1 Know New :

बता दें कि लखनऊ से नई दिल्ली के बीच की दूरी मुरादाबाद की ओर से 487 किमी. है। ऐसे में जनरल यात्रियों को अब पांच रुपये, स्लीपर यात्रियों को 10 रुपये और एसी यात्रियों को 20 रुपये किराया अधिक देना पड़ेगा। उसी तरह, लखनऊ से मुम्बई के बीच की दूरी 1427 किमी. है। इस हिसाब से जनरल यात्रियों को 15 रुपये, स्लीपर यात्रियों को 30 तो एसी यात्रियों को 60 रुपये किराया अधिक देना पड़ेगा।

ऑनलाइन टिकट पर दोहरी मार

ऑनलाइन में रेलवे पांच के गुणांक में पैसे वसूलता है। ऐसे में किसी यात्री को 327 रुपये देने होंगे तो उसे 330 रुपये किराया लगेगा। दूरी के हिसाब से बढ़ा किराया देने वाले यात्रियों को टिकट काउंटर पर थोड़ी राहत तो मिल जाएगी लेकिन ऑनलाइन टिकट कराने वाले यात्रियों को भारी चपत लगेगी।

मंगलवार की शाम आईआरसीटीसी वेबसाइट पर अचानक किराये में परिवर्तन हो गया। जिसमें दिल्ली जाने के लिए स्लीपर क्लास में 10 रुपये घट गए तो थर्ड एसी में 70 रुपये कम हो गए। लखनऊ मेल का साधारण तौर पर स्लीपर का 315 रुपये में मिलने वाला टिकट 305 रुपये का हो गया। रेलवे ने बेस फेयर में अचानक परिवर्तन कर दिया। हालांकि, दिल्ली और मुम्बई जाने के लिए पहले ही अधिकांश यात्री टिकट खरीद चुके थे लेकिन जिन यात्रियों ने करंट काउंटर और रात में वेटिंग टिकट कराकर सफर किया उनको कम किराये के टिकट मिले। लखनऊ मेल से दिल्ली जाने वाले सुरेश सिंह बताते हैं कि उन्होंने दोपहर में अपना वेटिंग टिकट 332 रुपये में खरीदा था। शाम को अपने एक साथी का ऑनलाइन टिकट कराया तो उन्हें 303 रुपये ही देने पड़े। जबकि एक जनवरी को स्लीपर से दिल्ली जाने का किराया 315 रुपये ही रहा।

नई दिल्ली। अगर आप भी रेल यात्रा करते हैं तो यह खबर आपको झटका दे सकती है, दरअसल रेलवे नए साल से यात्रियों के किराए में इजाफा किया जा रहा है। जहां एक तरफ परिवहन निगम यात्रियों को लुभाने के लिए टेलीस्कोपिक पद्धित से किराया घटा रहा है वहीं, एक जनवरी से ट्रेनों का किराया बढ़ गया है। रेलवे ने प्रति किमी. के हिसाब से जनरल, स्लीपर और एसी किराये में क्रमश: एक पैसा, दो पैसा और चार पैसा बढ़ाया है। इससे लखनऊ से दिल्ली, कोलकाता, देहरादून, चण्डीगढ़ समेत फैजाबाद व वाराणसी जाने वाले यात्रियों को जेबें ढीली करनी पड़ेंगी। बता दें कि लखनऊ से नई दिल्ली के बीच की दूरी मुरादाबाद की ओर से 487 किमी. है। ऐसे में जनरल यात्रियों को अब पांच रुपये, स्लीपर यात्रियों को 10 रुपये और एसी यात्रियों को 20 रुपये किराया अधिक देना पड़ेगा। उसी तरह, लखनऊ से मुम्बई के बीच की दूरी 1427 किमी. है। इस हिसाब से जनरल यात्रियों को 15 रुपये, स्लीपर यात्रियों को 30 तो एसी यात्रियों को 60 रुपये किराया अधिक देना पड़ेगा। ऑनलाइन टिकट पर दोहरी मार ऑनलाइन में रेलवे पांच के गुणांक में पैसे वसूलता है। ऐसे में किसी यात्री को 327 रुपये देने होंगे तो उसे 330 रुपये किराया लगेगा। दूरी के हिसाब से बढ़ा किराया देने वाले यात्रियों को टिकट काउंटर पर थोड़ी राहत तो मिल जाएगी लेकिन ऑनलाइन टिकट कराने वाले यात्रियों को भारी चपत लगेगी। मंगलवार की शाम आईआरसीटीसी वेबसाइट पर अचानक किराये में परिवर्तन हो गया। जिसमें दिल्ली जाने के लिए स्लीपर क्लास में 10 रुपये घट गए तो थर्ड एसी में 70 रुपये कम हो गए। लखनऊ मेल का साधारण तौर पर स्लीपर का 315 रुपये में मिलने वाला टिकट 305 रुपये का हो गया। रेलवे ने बेस फेयर में अचानक परिवर्तन कर दिया। हालांकि, दिल्ली और मुम्बई जाने के लिए पहले ही अधिकांश यात्री टिकट खरीद चुके थे लेकिन जिन यात्रियों ने करंट काउंटर और रात में वेटिंग टिकट कराकर सफर किया उनको कम किराये के टिकट मिले। लखनऊ मेल से दिल्ली जाने वाले सुरेश सिंह बताते हैं कि उन्होंने दोपहर में अपना वेटिंग टिकट 332 रुपये में खरीदा था। शाम को अपने एक साथी का ऑनलाइन टिकट कराया तो उन्हें 303 रुपये ही देने पड़े। जबकि एक जनवरी को स्लीपर से दिल्ली जाने का किराया 315 रुपये ही रहा।