1. हिन्दी समाचार
  2. क्षेत्रीय
  3. सात दिवसीय नेत्र परीक्षण शिविर में इलाज शुरू, आंखों की नि:शुल्क जांच के साथ दिए गए चश्मे

सात दिवसीय नेत्र परीक्षण शिविर में इलाज शुरू, आंखों की नि:शुल्क जांच के साथ दिए गए चश्मे

सड़क हादसों पर रोक लग सके। इस मकसद से लखनऊ के निगोहां टोल प्लाज के समीप स्थित 'अपना ढाबा' पर सात दिवसीय नेत्र परीक्षण शिविर का शुक्रवार को शुभारम्भ करते हुए भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता संजीव मिश्रा ने कहा कि रोड सेफ्टी के तहत ट्रक चालकों के आंखों की जांच जरूरी है। यदि ट्रक चालकों को लम्बी दूरी तक देखने में परेशानी होती है तो इससे दुर्घटना की संभावनाएं बढती हैं। यह नेत्र शिविर दुर्घटना से बचाव में अहम भूमिका निभाएगा। उन्होंने आवाहन करते हुए कहा कि ट्रक चालकों को शिविर में अपने आंखों की नि:शुल्क जांच कराकर लाभ उठाना चाहिए।

By शिव मौर्या 
Updated Date

लखनऊ। सड़क हादसों पर रोक लग सके। इस मकसद से लखनऊ के निगोहां टोल प्लाज के समीप स्थित ‘अपना ढाबा’ पर सात दिवसीय नेत्र परीक्षण शिविर का शुक्रवार को शुभारम्भ करते हुए भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता संजीव मिश्रा ने कहा कि रोड सेफ्टी के तहत ट्रक चालकों के आंखों की जांच जरूरी है। यदि ट्रक चालकों को लम्बी दूरी तक देखने में परेशानी होती है तो इससे दुर्घटना की संभावनाएं बढती हैं। यह नेत्र शिविर दुर्घटना से बचाव में अहम भूमिका निभाएगा। उन्होंने आवाहन करते हुए कहा कि ट्रक चालकों को शिविर में अपने आंखों की नि:शुल्क जांच कराकर लाभ उठाना चाहिए।

पढ़ें :- Lucknow News - एडी बेसिक डॉ मुकेश कुमार सिंह निलंबित, जानें किस मामले में हुआ एक्शन

राष्ट्रीय राजमार्ग मंत्रालय भारत सरकार के सहयोग से जे0के0 एजूकेशनल ग्रामीण विकास समिति, लखनऊ द्वारा शिविर का संचालन किया जा रहा है। यह शिविर 24 से 30 जून तक चलेगा। शिविर में ट्रक चालकों के आंखों की नि:शुल्क जांच के साथ उन्हें नि:शुल्क चश्में भी दिए गएं। इस अवसर पर संस्था द्वारा शुक्रवार को शिविर में पहुंचने पर भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता संजीव मिश्रा का जोरदार स्वागत किया गया।

शिविर के पहले दिन दोपहर तक लगभग 42 ट्रक चालकों के आंखों का परीक्षण किया गया, उन्हें नि:शुल्क चश्मा भी उपलब्ध कराया गया। संस्था के वालंटियर ट्रक चालकों से अनुरोध कर उनकी आंखों का नि:शुल्क परीक्षण करा रहे थे।

कार्यक्रम में प्रमुख रूप से नेत्र सर्जन डा पी.एल. राव और डा आशीष शुक्ला सहित प्रभाकर त्रिवेदी ‘प्रधान’ पुरहिया, आर.डी.शुक्ला, सत्य प्रकाश शर्मा, राजेश मिश्रा, प्रदीप त्रिवेदी, हृदय नारायण श्रीवास्तव, एडवोकेट हसीन जहां, प्रमोद कुमार मिश्रा, रमेश चन्द्रा, विनय कुमार मिश्रा, डा. कंचन और डा. अभय तिवारी का अहम योगदान रहा।

 

पढ़ें :- भाजपा पर बढ़ा दबाव : अनुप्रिया ने भी केंद्र और राज्य मंत्रिमंडल में मांगा एक-एक पद

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...