पांच साल पुराने मामले में पूर्व मंत्री आजम खां के खिलाफ दर्ज हुई एफआईआर

azam khan
आजम खां ने दो समुदाय के बीच नफरत फैलाने की कोशिश की: अल्लामा जमीर नकवी

लखनऊ। जल निगम भर्ती घोटाले में फंसे समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री पर राजधानी में एक और मामला दर्ज किया गया है। ये मामला किसी घोटाले से सम्बंधित नहीं बल्कि लोगों की धार्मिक भावनाओं को आहत करने को लेकर दर्ज कराया गया है।

Tried To Bring Conflict Between Two Community :

चौक के बरौरा हुसैनबाड़ी निवासी अल्लामा जमीर नकवी का आरोप है कि वर्ष 2014 से वह पूर्व मंत्री के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराने की कोशिश कर रहे थे, लेकिन तत्कालीन सपा सरकार में उनके रसूख के चलते पुलिस ने उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की। शिकायतकर्ता के मुताबिक अगस्त 2014 में आजम खान ने सरकारी लेटर पैड व मुहर का दुरुपयोग करके शिया धर्मगुरु मौलाना कल्बे जव्वाद, आरएसएस तथा भाजपा का अपमान किया गया था।

आरोपी सपा नेता ने पत्र जारी कर अपमानित भाषाओं का उपयोग किया था। जिससे मौलाना की छवि को ठेस पहुंची, इतना ही नहीं पूर्व मंत्री की इस हरकत से दो समुदाय के बीच नफरत फैलाने का प्रयास भी किया गया था। यहीं नहीं पूर्व मंत्री ने मौलाना सैय्यद कल्बे जव्वाद नकवी और आरएसएस के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी की थी। आजम खां की अपमान जनक टिप्पणी से उनकी और समाज की भावनाएं आहत हुई हैं और इसी के चलते अल्लामा जमीर ने पूर्व मंत्री के खिलाफ मामला दर्ज करवाने का प्रयास किया था।

फिलहाल अल्लामा जमीर नकवी ने इस मामले को लेकर हजरतगंज कोतवाली में तहरीर दी। इंस्पेक्टर हजरतगंज राधारमण सिंह ने बताया कि तहरीर के आधार पर रिपोर्ट दर्ज कर इस पूरे मामले की तहकीकात शुरु कर दी है।

लखनऊ। जल निगम भर्ती घोटाले में फंसे समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री पर राजधानी में एक और मामला दर्ज किया गया है। ये मामला किसी घोटाले से सम्बंधित नहीं बल्कि लोगों की धार्मिक भावनाओं को आहत करने को लेकर दर्ज कराया गया है।चौक के बरौरा हुसैनबाड़ी निवासी अल्लामा जमीर नकवी का आरोप है कि वर्ष 2014 से वह पूर्व मंत्री के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराने की कोशिश कर रहे थे, लेकिन तत्कालीन सपा सरकार में उनके रसूख के चलते पुलिस ने उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की। शिकायतकर्ता के मुताबिक अगस्त 2014 में आजम खान ने सरकारी लेटर पैड व मुहर का दुरुपयोग करके शिया धर्मगुरु मौलाना कल्बे जव्वाद, आरएसएस तथा भाजपा का अपमान किया गया था।आरोपी सपा नेता ने पत्र जारी कर अपमानित भाषाओं का उपयोग किया था। जिससे मौलाना की छवि को ठेस पहुंची, इतना ही नहीं पूर्व मंत्री की इस हरकत से दो समुदाय के बीच नफरत फैलाने का प्रयास भी किया गया था। यहीं नहीं पूर्व मंत्री ने मौलाना सैय्यद कल्बे जव्वाद नकवी और आरएसएस के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी की थी। आजम खां की अपमान जनक टिप्पणी से उनकी और समाज की भावनाएं आहत हुई हैं और इसी के चलते अल्लामा जमीर ने पूर्व मंत्री के खिलाफ मामला दर्ज करवाने का प्रयास किया था।फिलहाल अल्लामा जमीर नकवी ने इस मामले को लेकर हजरतगंज कोतवाली में तहरीर दी। इंस्पेक्टर हजरतगंज राधारमण सिंह ने बताया कि तहरीर के आधार पर रिपोर्ट दर्ज कर इस पूरे मामले की तहकीकात शुरु कर दी है।