1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. कश्मीर नरसंहार में मारे गए हिंदुओं की आत्मा की शांति के लिए 32 साल बाद काशी में हुआ त्रिपिंडी श्राद्ध कर्म

कश्मीर नरसंहार में मारे गए हिंदुओं की आत्मा की शांति के लिए 32 साल बाद काशी में हुआ त्रिपिंडी श्राद्ध कर्म

कश्मीर नरसंहार (Kashmir Massacre)में हिंदुओं की निर्मम हत्या हुई थी। 1990 से शुरू हुए इस नरसंहार में सैकड़ों हिंदुओ मारे गए। घटना के 3 दशक बाद मोक्ष की नगरी काशी में बुधवार को  इन्ही मृत हिंदुओं के आत्मा की शांति के लिए विशेष अनुष्ठान हुआ।

By संतोष सिंह 
Updated Date

वाराणसी। कश्मीर नरसंहार (Kashmir Massacre)में हिंदुओं की निर्मम हत्या हुई थी। 1990 से शुरू हुए इस नरसंहार में सैकड़ों हिंदुओ मारे गए। घटना के 3 दशक बाद मोक्ष की नगरी काशी में बुधवार को  इन्ही मृत हिंदुओं के आत्मा की शांति के लिए विशेष अनुष्ठान हुआ।

पढ़ें :- Gyanvapi survey : कोर्ट का 'सुप्रीम' फरमान- बोला 'शिवलिंग' की जगह सील करें और नमाज में न आये बाधा

कश्मीर ब्राह्मणों के मुक्ति के लिए काशी में पिचाश मोचन तीर्थ पर हुआ त्रिपिंडी श्राद्ध कर्म

काशी के पिचाश मोचन तीर्थ पर बुधवार को वैदिक मंत्रोच्चार के बीच कश्मीर में मारे गए हिंदुओं की आत्मा के शांति की लिए त्रिपिंडी श्राद्ध कर्म का आयोजन हुआ। इस विशेष अनुष्ठान के फिल्म अभिनेता अनुपम खेर सहित देश के अलग अलग राज्यों से आए विद्वान और सन्त साक्षी बने। इस अनुष्ठान में उन कश्मीरी ब्राह्मणों के परिजन भी शामिल हुए, जिन्होंने अपनों की जान इस हादसे में गवाई थी।

सामाजिक संस्था आगमन और ब्रह्म सेना के सयुंक्त तत्वावधान में अनुष्ठान

सामाजिक संस्था आगमन और ब्रह्म सेना के सयुंक्त तत्वावधान में इस विशेष अनुष्ठान सम्पन्न हुआ। अनुष्ठान में संस्था के संस्थापक डॉ. संतोष ओझा ने मुख्य जजमान रहे। काशी के विद्वान ब्राह्मणों के उपस्थिति में ये अनुष्ठान संपन्न हुआ। इस अनुष्ठान का आचार्यत्व पण्डित श्रीनाथ पाठक उर्फ रानी गुरु ने किया उनके साथ कन्हैया पाठक,सुरेश पाठक,मनोज पाठक, अमित पाठक,नारायण दत्त मिश्र,बालकृष्ण पांडेय,राकेश दुबे,कन्हैयालाल पंड्या,टंक प्रसाद भंडारी इस अनुष्ठान में शामिल रहे।

पढ़ें :- Varanasi : काशी के कोतवाल के दर पर नेपाल के पीएम शेर बहादुर देउबा ने लगाई हाजिरी, सीएम योगी भी हैं मौजूद

अनुपम खेर बोले- अतृप्त आत्माओं के मोक्ष की कामना के लिए हुआ ये अनुष्ठान

फिल्म अभिनेता अनुपम खेर ने कहा कि आज का दिन उन कश्मीरी हिंदुओं के लिए जिन्होंने कश्मीर में हुए नरसंहार में अपनी जान गवाई। पूरे 32 साल बाद उन अतृप्त आत्माओं के मोक्ष की कामना से ये अनुष्ठान हुआ है। फिल्म कश्मीर फाइल्स के शूटिंग के वक्त ही मैंने निर्णय लिया था कि उन आत्माओं की शांति के लिए काशी में अनुष्ठान करूंगा।

पढ़ें :- Varanasi : अखिलेश ने महामृत्युंजय मंदिर और बाबा कालभैरव के दरबार में पहुंचे, मांगा जीत का आशीर्वाद

श्राद्धकर्ता डॉ. सन्तोष ओझा ने बताया कि कश्मीर में हुए नरसंहार न जाने कितने ऐसे परिवार थे जिनका श्राद्ध तक नहीं हुआ। सनातन धर्म के मान्यताओं के मुताबिक ऐसी अकाल मृत्यु के उपरांत मृतक आत्मा की शान्ति और मुक्ति के लिए विशेष श्राद्ध अनिवार्य होता है। इसी के निमित शास्त्रोक्त विधि से पिचाश मोचन तीर्थ पर त्रिपिंडी श्राद्ध किया गया है। बताते चले कि पूरी दुनिया में काशी ही एक मात्र ऐसी स्थान है जहां ये अनुष्ठान किया जाता है और सनातन धर्म मे ऐसी मान्यता भी है कि पिचाश मोचन पर इस अनुष्ठान से ऐसी अतृप्त आत्माओं को मुक्ति मिल जाती है।

दिवंगत आत्माओं के मुक्ति का मार्ग होगा प्रशस्त

इस पूरे आयोजन में हरियाणा मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार अमित आर्या,ऑल इंडिया होटल एसोसिएशन के अध्यक्ष नितिन नागराले और समाजसेवी अरविंद सिंह की विशेष उपस्थिति रही। सभी विशेष अतिथियों ने कश्मीर में मारे गए हिंदुओ के आत्मा की शान्ति की प्रार्थना की और उन्हें पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। अमित आर्या ने कहा कि कश्मीर में जो कुछ भी हिंदुओ के साथ 1990 के दशक से हुआ ये अनुष्ठान उन्ही दिवंगत आत्माओं के शांति का मार्ग प्रशस्त करेगा।

 कश्मीरी पंडितों के  नरसंहार  का सिलसिला 1990 से हुआ था शुरू

बतातें चले कि 1990 के दशक से कश्मीर में हिंदुओं खासकर कश्मीरी पंडितों के साथ नरसंहार की शुरुआत हुई थी। इस नरसंहार में साल दर साल सैकड़ों लोगों को मौत के घाट उतारा गया। इस बीच लाखों कश्मीरी पंडितों ने अपनी पूर्वजों के करोड़ो की समाप्ति छोड़ रिफ्यूजी कैम्पों में रहने को मजबूर हो गए।इन्ही अतृप्त आत्माओं की शांति के लिए सामाजिक संस्था आगमन और ब्रह्म सेना ने इस विशेष अनुष्ठान को किया है ताकि उन आत्माओं को मुक्ति मिल सके।

पढ़ें :- काशी विश्वनाथ - ज्ञानवापी मस्जिद मामले में पुरातत्व सर्वेक्षण को कोर्ट ने दी मंजूरी, खर्च वहन करेगी सरकार

51 हजार अजन्मी बेटियों के का कर चुके है श्राद्ध

22 सालों से आगमन सामाजिक संस्था पेट में पल रही बेटियों को जन्म लेने के अधिकार की आवाज को सामाजिक आंदोलन की तरह चला रही है । पेट में मारी गयी बेटियों के मोक्ष के लिए पिछले आठ सालों से डॉ सन्तोष ओझा काशी में पित्र पक्ष के नवमी तिथि को श्राद्ध करते आ रहे है, अब तक इन बेटियों की संख्या हजारों में है।

ये रहे शामिल

इस आयोजन में अमित आर्या,नितिन नागराले,पण्डित चन्द्रमौलि उपाध्याय,डॉ सुभाष पांडेय,डॉ विनय पांडेय,डॉ टी पी चतुर्वेदी, डॉ रितु गर्ग,डॉ गिरीश चन्द्र तिवारी,डॉ अरविंद सिंह की विशेष उपस्थिति रही। संस्था की ओर से वी पी सिंह,रचना श्रीवास्तव,राहुल गुप्ता,अरुण ओझा,नमिता झा, अखिलेश खेमका,अरविंद सास्वत,जादूगर किरण और जितेंद्र,सन्नी कुमार,दिलीप श्रीवास्तव, राजकृष्ण गुप्ता,गोपाल शर्मा,हरीश शर्मा,विनोद तिवारी,रामबली मौर्या,अजय मौर्या, सुमित चौहान,मनोज सेठ,शुभम सेठ, विकास त्रिपाठी सहित अन्य लोग शामिल रहे।

 

 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...