1. हिन्दी समाचार
  2. 133 गांवों में तीन महीने से पैदा हुए 218 बच्चे, पर एक भी बेटी नहीं

133 गांवों में तीन महीने से पैदा हुए 218 बच्चे, पर एक भी बेटी नहीं

Trivendra Singh Rawat Uttarakhand Uttarkashi Kanya Bhrun Hatya

By रवि तिवारी 
Updated Date

नई दिल्ली। उत्तराखंड के उत्तरकाशी से एक हैरतअंगेज मामला सामने आया है.उत्तरकाशी के 133 गांवों में पिछले तीन महीनों में 216 बच्चों का जन्म हुआ है, लेकिन इनमें एक भी बच्ची नहीं है। बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ अभियान की पोल खोलते ये आंकड़े स्वास्थ्य विभाग के हैं और दर्शाते हैं कि इस ज़िले में भ्रूण हत्या कितनी फल फूल रही है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने इस मामले के जांच के आदेश भी दे दिए गए हैं।

पढ़ें :- ओवैसी के गढ़ में पहुंचे सीएम योगी, भगवामय नजर आया इलाका

स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट से हुआ खुलासा

जिला प्रशासन ने मामले की पड़ताल शुरू कर दी है। इस मामले का खुलासा तब हुआ जब स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट सामने आई। बता दें कि स्वास्थ्य विभाग सभी जिलों के हर गांव में होने वाले संस्थागत और घरेलू प्रसवों का ब्यौरा तैयार करता है। बीते अप्रैल से जून के बीच उत्तरकाशी जिले के विभिन्न गांवों में हुए प्रसव की रिपोर्ट सामने आई तो अधिकारी हैरत में पड़ गए क्योंकि यहां एक भी बेटी का जन्म नहीं हुआ था।

जिले के विभिन्न ब्लॉकों में पिछले तीन महीने में पैदा हुए बच्चे

उत्तरकाशी जिले के डुंडा ब्लॉक के 27 गांव में 51 बच्चों ने जन्म लिया जिनमें सभी लड़के हैं। भटवारी ब्लॉक के 27 गांव में 49 बच्चों ने जन्म लिया और उनमें भी सभी लड़के हैं। नौगांव ब्लॉक के 28 गांव में 45 बच्चों ने जन्म लिया और यहां भी सभी लड़के हैं। मोरी ब्लॉक के 20 गांव में 29 बच्चों ने जन्म लिया और ये भी सभी लड़के पैदा हुए हैं। इसी तरह अन्य ब्लॉकों में चिन्यालीसौड़ के 16 गांव में 23 बच्चे पैदा हुए और पुरोला ब्लॉक के 14 गांव में 17 बच्चे पैदा हुए जो कि सभी लड़के हैं।

पढ़ें :- चिराग पासवान ने बीजेपी पर बोला हमला, कहा-तैयार रहें कार्यकर्ता 2025 से पहले कभी भी हो सकता है चुनाव

कन्या भ्रूण हत्या का जताया जा रहा शक

बता दें कि स्वास्थ विभाग के जरिए जारी किए आंकड़ों के मुताबिक उत्तरकाशी में पिछले तीन महीने के दौरान 133 गांव में करीब 218 बच्चों ने जन्म लिया है। सभी लड़के हैं और इनमें कोई भी बेटी पैदा नहीं होने के कारण कन्या भ्रूण हत्या का शक जताया जा रहा है। सरकारी रिपोर्ट में ही बिगड़ते लिंगानुपात की यह स्थिति सामने आने से जिला प्रशासन में हड़कंप मच गया है।

सीएम ने दिए जांच के आदेश

इस मामले की गंभीरता को देखते हुए स्वास्थ्य महकमे और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने जांच के आदेश दिए हैं। सरकारी आंकड़ों में इस भयावह स्थिति का खुलासा होने पर हरकत में आए सीएम सिंह रावत ने भी माना कि इस मामले की गहनता से जांच की जाएगी और यह भी आश्वसन दिया कि अगर इस मामले में किसी भी तरह की लापरवाही या आपराधिक गतिविधि पाई जाती है तो आरोपी के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी।

पढ़ें :- 30 नवंबर को होगा साल का आखिरी चंद्र ग्रहण, जानिए क्या है समय

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...