1. हिन्दी समाचार
  2. केंद्र सरकार और पश्चिम बंगाल सरकार के बीच तनातनी जारी, ममता के खिलाफ घर में ही धरने पर बैठे भाजपा नेता

केंद्र सरकार और पश्चिम बंगाल सरकार के बीच तनातनी जारी, ममता के खिलाफ घर में ही धरने पर बैठे भाजपा नेता

Troubles Continue Between The Central Government And The West Bengal Government Bjp Leaders Sitting On Dharna Against Mamata

By टीम पर्दाफाश 
Updated Date

नई दिल्ली: देश में कोरोना संकट के बीच केंद्र सरकार और पश्चिम बंगाल की ममता सरकार के बीच तनातनी भी जारी है। इस तनाव के बीच भाजपा नेता ममता सरकार का अनूठे ढंग से विरोध कर रहे हैं। भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव और पश्चिम बंगाल के पार्टी प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय और पश्चिम बंगाल से सांसद बाबुल सुप्रियो अपने-अपने घरों से मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के खिलाफ धरने पर बैठ गए हैं। हालांकि कोरोना संकट के कारण यह धरना वीडियो के जरिए किया जा रहा है।
अब ममता बनर्जी के बुलाने पर भी …

पढ़ें :- इंग्लैंड के खिलाफ होने वाले टेस्ट सीरीज के लिए भारतीय टीम का ऐलान, इनको मिली जगह

पश्चिम बंगाल में कोविड-19 का आकलन करने वाली टीम ने शनिवार को पश्चिम बंगाल सरकार पर असहयोग करने का आरोप लगाया और कहा कि क्या सत्तारूढ़ दल इसके सदस्यों की सुरक्षा की जिम्मेदारी लेगा। इस पर तृणमूल कांग्रेस की ओर से तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की गई। पार्टी ने केंद्रीय टीम को ‘भारत की सबसे अधिक असंवेदनशील टीम करार दिया।’ पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव राजीव सिन्हा को लिखे पत्रों में दोनों टीमों ने वाहनों की व्यवस्था और अन्य प्रासंगिक जानकारी प्रदान करने में असहयोग करने के कई उदाहरणों को चिह्नित किया और संक्रमण को रोकने के लिए लॉकडाउन के सख्त कार्यान्वयन का सुझाव दिया। दोनों टीमें कोलकाता और सिलीगुड़ी में जमीनी हकीकत का जायजा लेने के लिए गई है।
लॉकडाउन तोड़कर ममता सरकार के खिलाफ …

भाजपा ने शनिवार को पश्चिम बंगाल की तृणमूल कांग्रेस सरकार पर राज्य में कोरोना वायरस संकट की गंभीरता को छिपाने और आंकड़ों में हेराफेरी करने का आरोप लगाया और कहा कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और उनकी पार्टी के सहयोगी नियमित रूप से लॉकडाउन के दिशानिर्देशों का उल्लंघन कर रहे हैं। भाजपा द्वारा वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए आयोजित मीडिया संवाद में केंद्रीय मंत्री देबश्री चौधरी सहित पश्चिम बंगाल से पार्टी सांसदों ने हिस्सा लिया। उन्होंने कहा कि राज्य में उन्हें जबरन घरों में रहने पर मजबूर किया जा रहा है जबकि तृणमूल कांग्रेस नेताओं एवं कार्यकर्ताओं को घूमने की अनुमति मिली हुई है।

वहीं तृणमूल कांग्रेस ने दौरा कर रही दो अंतर-मंत्रालयी टीमों (आईएमसीटी) को भारत की सर्वाधिक असंवेदनशील टीमें करार देते हुए कहा कि ये बेशर्मी से राजनीतिक वायरस फैलाने की कोशिश कर रही हैं। केंद्रीय टीमें कोलकाता और सिलिगुड़ी में अस्पतालों और पृथक-वासों का दौरा कर रही हैं और अधिकारियों से मुलाकात कर रही हैं। राज्यसभा में तृणमूल कांग्रेस के नेता डेरेक ओ ब्रायन ने ट्वीट किया, ‘जैसी उम्मीद थी, आईएमसीटी के बंगाल दौरे का कोई मकसद नहीं है। वे ऐसे जिलों का दौरा कर रही है जहां हॉटस्पॉट (कोरोना वायरस से अत्यधिक संक्रमित क्षेत्र) नहीं है, बंगाल से ऑडिट कमेटी के लिए कह रही हैं जो कि अप्रैल की शुरूआत से ही है।’

पढ़ें :- कुर्की के आदेश के बाद नसीमुद्दीन और रामअचल राजभर ने कोर्ट में किया सरेंडर, भेजे गए जेल

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...