1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. पैसे देकर किया जा रहा था टीआरपी का खेल, मुंबई पुलिस ने किया खुलासा, दो गिरफ्तार

पैसे देकर किया जा रहा था टीआरपी का खेल, मुंबई पुलिस ने किया खुलासा, दो गिरफ्तार

Trp Game Was Being Done By Paying Money Mumbai Police Revealed Two Arrested

By शिव मौर्या 
Updated Date

मुंबई। मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने गुरुवार को एक बड़ा खुलासा किया है। मुंबई क्राइम ब्रांच ने एक ऐसे रैकेट का खुलासा किया है जो टीआरपी में घेरफेर करते थे। उन्होंने कहा कि मुंबई पुलिस ने तीन चैनलों की पहचान की है। इनके नाम हैं फक्त मराठी, बॉक्स सिनेमा और रिपब्लिक टीवी, जो कथित रूप से टेलीविजन चैनलों की रेटिंग करने के लिए बार्क (BARC) द्वारा प्रयुक्त तंत्र को विकृत करने में शामिल हैं। उन्होंने कहा कि मामले में दो लोगों को गिरफ्तार भी किया गया है।

पढ़ें :- भारत की पहली ऑस्कर विजेता भानू अथैया का निधन, मुंबई के चंदनवाड़ी शवदाह गृह मे होगा अंतिम संस्कार

परमबीर सिंह ने कहा कि इस रैकेट का नाम ‘फॉल्स टीआरपी रैकेट’ है। ये रैकेट फॉल्स रैकेट के जरिए करोड़ों रुपये के राजस्व का मुनाफा कमा रहा था। इस मामले में पुलिस कमिश्नर ने सीधे तौर पर रिपब्लिक टीवी को आरोपी मानते हुए कहा कि ने पैसे देकर रेटिंग बढ़ाई। टीआरपी रैकेट के जरिए पैसा देकर टीआरपी के मैन्युपुलेट किया जाता था। सूचना प्रसारण मंत्रालय और भारत सरकार को रिपब्लिक टीवी की जानकारी दी जाएगी।

परमबीर सिंह ने बताया कि ‘टीआरपी की निगरानी के लिए मुंबई में 2,000 बैरोमीटर लगाए गए हैं। बार्क (BARC) ने इन बैरोमीटर की निगरानी के लिए ‘हंसा’ नामक एजेंसी से गोपनीय अनुबंध किया था जो टीआरपी के साथ छेड़छाड़ कर रही थी। जिन घरों में ये कॉन्फिडेंशियल पैरामीटर्स लगाए गए थे उस डेटा को किसी चैनल के साथ शेयर कर उनके साथ टीआरपी में छेड़छाड़ की गई।’ ‘इन घरों में एक खास चैनल को ही लगाकर रखने के लिए कहा गया था।

जिसके बदले में उन्हें पैसे दिए जाते थे। इस मामले में दो व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया है और आठ लाख रुपये जब्त किए गए हैं। इसमें से एक रेटिंग को आंकने के लिए ‘पीपल मीटर’ लगाने वाली एक एजेंसी का पूर्व कर्मचारी भी है। दोनों आरोपियों को अदालत में पेश किया गया, जहां से उन्हें पुलिस हिरासत में भेज दिया गया। पुलिस ने कहा कि आरोपी कुछ परिवारों को रिश्वत देते थे और उन्हें अपने घर पर कुछ चैनल चलाए रखने के लिए कहते थे।

 

पढ़ें :- महाराष्ट्र: मंदिर खोलने को लेकर बीजेपी का जगह-जगह प्रदर्शन, गवर्नर की उद्धव को चिट्ठी

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...