कोरोना को लेकर एक बार फिर चीन पर भड़के ट्रंप, कहा- अमेरिका इसे हल्के में नहीं लेने वाला

trump press confrence
कोरोना को लेकर एक बार फिर चीन पर भड़के ट्रंप, कहा- अमेरिका इसे हल्के में नहीं लेने वाला

वाशिंगटन: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने एक बार फिर कोरोना वायरस (Coronavirus) को लेकर चीन (China) पर हमला बोला है. गुरूवार को ट्रंप ने कहा कि खतरनाक वायरस चीन से ही आया है और अमेरिका इसे बहुत गंभीरता से ले रहा है.

Trump Once Again Raged On China Over Corona Said America Is Not Going To Take It Lightly :

मिशिगन में अफ्रीकी-अमेरिकी नेताओं के साथ एक सत्र में ट्रंप ने कोरोना वायरस को लेकर कहा, ‘यह चीन से आया है. हम इसे लेकर खुश नहीं है. हमने व्यापारिक समझौते पर हस्ताक्षर किये. जिसकी स्याही अभी सूखी भी नहीं थी कि अचानक से हालात बिगड़ गए, हम इसे हल्के में नहीं लेने वाले.’

कोरोना वायरस का अमेरिका में कहर जारी है. गुरूवार तक अमेरिका में कोरोना वायरस से 94 हजार से अधिक लोगों की मौत हो चुकी थी. जबकि 16 लाख लोग कोरोना वायरस से संक्रमित थे. इसके पहले अमेरिका ने चीन पर कोरोना वैक्सीन की रिसर्च से जुड़ी जानकारी चुराने का आरोप लगाया था. गुरूवार को अमेरिका ने कोरोना वैक्सीन से जुड़े दस्तावेजों को चोरी होने से बचाने के लिए कोविड-19 वैक्सीन प्रोटेक्शन एक्ट (COVID-19 Vaccine Protection Act) से परिचय कराया.

इस संबंध में अमेरिकी अधिकारी सीनेटर टेड क्रूज़ ने कहा, ‘हम चीन को अमेरिकी की कोरोना वैक्सीन की रिसर्च और जानकारी नहीं चुराने देंगे.’ वहीं एक अन्य अधिकारी स्कॉट ने कहा, ‘कम्युनिस्ट पार्टी वैश्विक महामारी के लिए जिम्मेदार है और उनके झूठ और भाम्रक जानकारी के कारण अमेरिकियों का जीवन बर्बाद हो गया है. हम कम्युनिस्ट चीन को कोरोनावायरस वैक्सीन से संबंधित किसी भी अमेरिकी रिसर्च को चोरी करने की अनुमति नहीं देते हैं.’

आपको बता दें कि अमेरिका (Coronavirus in America) में अबतक कोरोना संक्रमितों के कुल केस 16.1 लाख दर्ज किये गए हैं. जिसमें मौत का आंकड़ा 95,087 पहुंच गया है. कोविड-19 से ठीक होने वालों की संख्या 3.08 लाख है.

वाशिंगटन: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने एक बार फिर कोरोना वायरस (Coronavirus) को लेकर चीन (China) पर हमला बोला है. गुरूवार को ट्रंप ने कहा कि खतरनाक वायरस चीन से ही आया है और अमेरिका इसे बहुत गंभीरता से ले रहा है. मिशिगन में अफ्रीकी-अमेरिकी नेताओं के साथ एक सत्र में ट्रंप ने कोरोना वायरस को लेकर कहा, 'यह चीन से आया है. हम इसे लेकर खुश नहीं है. हमने व्यापारिक समझौते पर हस्ताक्षर किये. जिसकी स्याही अभी सूखी भी नहीं थी कि अचानक से हालात बिगड़ गए, हम इसे हल्के में नहीं लेने वाले.' कोरोना वायरस का अमेरिका में कहर जारी है. गुरूवार तक अमेरिका में कोरोना वायरस से 94 हजार से अधिक लोगों की मौत हो चुकी थी. जबकि 16 लाख लोग कोरोना वायरस से संक्रमित थे. इसके पहले अमेरिका ने चीन पर कोरोना वैक्सीन की रिसर्च से जुड़ी जानकारी चुराने का आरोप लगाया था. गुरूवार को अमेरिका ने कोरोना वैक्सीन से जुड़े दस्तावेजों को चोरी होने से बचाने के लिए कोविड-19 वैक्सीन प्रोटेक्शन एक्ट (COVID-19 Vaccine Protection Act) से परिचय कराया. इस संबंध में अमेरिकी अधिकारी सीनेटर टेड क्रूज़ ने कहा, 'हम चीन को अमेरिकी की कोरोना वैक्सीन की रिसर्च और जानकारी नहीं चुराने देंगे.' वहीं एक अन्य अधिकारी स्कॉट ने कहा, 'कम्युनिस्ट पार्टी वैश्विक महामारी के लिए जिम्मेदार है और उनके झूठ और भाम्रक जानकारी के कारण अमेरिकियों का जीवन बर्बाद हो गया है. हम कम्युनिस्ट चीन को कोरोनावायरस वैक्सीन से संबंधित किसी भी अमेरिकी रिसर्च को चोरी करने की अनुमति नहीं देते हैं.' आपको बता दें कि अमेरिका (Coronavirus in America) में अबतक कोरोना संक्रमितों के कुल केस 16.1 लाख दर्ज किये गए हैं. जिसमें मौत का आंकड़ा 95,087 पहुंच गया है. कोविड-19 से ठीक होने वालों की संख्या 3.08 लाख है.