ट्रंप ने महाभियोग प्रक्रिया के दौरान अपने खिलाफ गवाही देने वाले दो अधिकारियों को हटाया

us
ट्रंप ने महाभियोग प्रक्रिया के दौरान अपने खिलाफ गवाही देने वाले दो अधिकारियों को हटाया

नई दिल्ली। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने उनके खिलाफ प्रतिनिधि सभा में महाभियोग की कार्रवाई के दौरान संसदीय समिति के समक्ष गवाही देने वाले दो अधिकारियों को उनके पद से हटा दिया गया है। इनमें यूरोपियन यूनियन में अमेरिकी राजदूत गॉर्डन सोंडलैंड और सेना के अफसर लेफ्टिनेंट कर्नल अलेक्जेंडर विंडमैन शामिल रहे। दोनों ने ही संसद के निचले सदन (हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव्स) में ट्रम्प के खिलाफ गवाही दी थी। इनकी गवाही को ट्रम्प के खिलाफ फैसले में अहम माना जा रहा था।

Trump Removed Two Officers Who Testified Against Him During The Impeachment Process :

विंडमैन और सोंडलैंड दोनों ही डेमोक्रेट्स के नियंत्रण वाली प्रतिनिधि सभा में महाभियोग की सुनवाई के दौरान मुख्य गवाह थे। सोंडलैंड ने शुक्रवार को एक बयान में कहा, “मुझे आज बताया गया कि राष्ट्रपति यूरोपीय संघ में बतौर अमेरिकी राजदूत मुझे तत्काल वापस बुलाना चाहते हैं।” सुरक्षा अधिकारियों द्वारा विंडमैन को व्हाइट हाउस से बाहर निकाले जाने के बाद उनके वकील ने कहा, “लेफ्टिनेंट कर्नल को सच बोलने के लिए पद से हटाया गया।”

विंडमैन के वकील डेविड प्रेसमैन ने एक बयान में कहा, “किसी भी अमेरिकी नागरिक के दिमाग में इसे लेकर संदेह नहीं होगा कि इस इंसान को पद से क्यों हटाया गया, क्यों अब इस देश में व्हाइट हाउस में सेवा दे रहा एक सैनिक और कम हो गया है।” प्रेसमैन ने कहा, “उनकी प्रतिष्ठा, सही करने की उनकी प्रतिबद्धता ने सत्ता में बैठे लोगों को भयभीत किया है।” व्हाइट हाउस ने महाभियोग मामले से जुड़े इन दो अधिकारियों की बर्खास्तगी पर कोई टिप्पणी नहीं की है। व्हाइट हाउस ने विंडमैन के जुड़वा भाई लेफ्टिनेंट कर्नल येवगेनी विंडमैन को भी पद से हटा दिया है। दोनों व्हाइट हाइस की राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद का हिस्सा थे।

नई दिल्ली। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने उनके खिलाफ प्रतिनिधि सभा में महाभियोग की कार्रवाई के दौरान संसदीय समिति के समक्ष गवाही देने वाले दो अधिकारियों को उनके पद से हटा दिया गया है। इनमें यूरोपियन यूनियन में अमेरिकी राजदूत गॉर्डन सोंडलैंड और सेना के अफसर लेफ्टिनेंट कर्नल अलेक्जेंडर विंडमैन शामिल रहे। दोनों ने ही संसद के निचले सदन (हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव्स) में ट्रम्प के खिलाफ गवाही दी थी। इनकी गवाही को ट्रम्प के खिलाफ फैसले में अहम माना जा रहा था। विंडमैन और सोंडलैंड दोनों ही डेमोक्रेट्स के नियंत्रण वाली प्रतिनिधि सभा में महाभियोग की सुनवाई के दौरान मुख्य गवाह थे। सोंडलैंड ने शुक्रवार को एक बयान में कहा, “मुझे आज बताया गया कि राष्ट्रपति यूरोपीय संघ में बतौर अमेरिकी राजदूत मुझे तत्काल वापस बुलाना चाहते हैं।” सुरक्षा अधिकारियों द्वारा विंडमैन को व्हाइट हाउस से बाहर निकाले जाने के बाद उनके वकील ने कहा, “लेफ्टिनेंट कर्नल को सच बोलने के लिए पद से हटाया गया।” विंडमैन के वकील डेविड प्रेसमैन ने एक बयान में कहा, “किसी भी अमेरिकी नागरिक के दिमाग में इसे लेकर संदेह नहीं होगा कि इस इंसान को पद से क्यों हटाया गया, क्यों अब इस देश में व्हाइट हाउस में सेवा दे रहा एक सैनिक और कम हो गया है।” प्रेसमैन ने कहा, “उनकी प्रतिष्ठा, सही करने की उनकी प्रतिबद्धता ने सत्ता में बैठे लोगों को भयभीत किया है।” व्हाइट हाउस ने महाभियोग मामले से जुड़े इन दो अधिकारियों की बर्खास्तगी पर कोई टिप्पणी नहीं की है। व्हाइट हाउस ने विंडमैन के जुड़वा भाई लेफ्टिनेंट कर्नल येवगेनी विंडमैन को भी पद से हटा दिया है। दोनों व्हाइट हाइस की राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद का हिस्सा थे।