7.1 तीव्रता के बड़े भूकंप से हिली धरती, इंडोनेशिया पर मंडराया सुनामी का खतरा

earth
लखनऊ में भूकम्प के झटके, सड़क पर निकले लोग

नई दिल्ली। पूर्वी इंडोनेशिया (Indonesia) के नार्थ मालुकु (Moluccas) प्रांत के तटवर्ती इलाके में गुरुवार देर रात 7.1 की तीव्रता का भूकंप का झटका महसूस किया गया। यह भूकंप इंडोनेशिया के कोटा टर्नाटे में आया। इस बड़े भूकंप के बाद इंडोनेशिया में सुनामी की चेतावनी जारी कर दी गई है।

Tsunami Threat Hits Earth Indonesia Due To 7 1 Magnitude Earthquake :

अमेरिकी सुनामी चेतावनी केंद्र ने विनाशकारी सुनामी आने की आशंकाओं को खारिज करते हुए कहा है कि इसकी संभावना नहीं है। वहीं इंडोनेशियाई मौसम विज्ञान केंद्र ने लोगों को समुद्र तट से दूर रहने की चेतावनी जारी की है। मौसम विज्ञान केंद्र ने यह कदम एहतियातन उठाया है।

निकोबार में भी 5.0 तीव्रता का भूकंप

भारत के निकोबार द्वीप पर भी गुरुवार की देर रात 12.01 मिनट पर भूकंप के झटके महसूस किए गए। भारतीय मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार रेक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 5.0 मापी गई।

बता दें कि इंडोनेशिया प्रशांत “रिंग ऑफ फायर” पर अपनी स्थिति के कारण लगातार भूकंप और ज्वालामुखी गतिविधियों से जूझता रहता है, जहां टेक्टोनिक प्लेटें टकराती हैं। पिछले सितंबर में भी सुलावेसी द्वीप के पलाउ में 7.5 तीव्रता का भूकंप आया था। तब भूकंप के बाद आई सुनामी से 2200 से अधिक लोग मारे गए थे और 1000 से अधिक लोग लापता हो गए थे।  

नई दिल्ली। पूर्वी इंडोनेशिया (Indonesia) के नार्थ मालुकु (Moluccas) प्रांत के तटवर्ती इलाके में गुरुवार देर रात 7.1 की तीव्रता का भूकंप का झटका महसूस किया गया। यह भूकंप इंडोनेशिया के कोटा टर्नाटे में आया। इस बड़े भूकंप के बाद इंडोनेशिया में सुनामी की चेतावनी जारी कर दी गई है। अमेरिकी सुनामी चेतावनी केंद्र ने विनाशकारी सुनामी आने की आशंकाओं को खारिज करते हुए कहा है कि इसकी संभावना नहीं है। वहीं इंडोनेशियाई मौसम विज्ञान केंद्र ने लोगों को समुद्र तट से दूर रहने की चेतावनी जारी की है। मौसम विज्ञान केंद्र ने यह कदम एहतियातन उठाया है। निकोबार में भी 5.0 तीव्रता का भूकंप भारत के निकोबार द्वीप पर भी गुरुवार की देर रात 12.01 मिनट पर भूकंप के झटके महसूस किए गए। भारतीय मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार रेक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 5.0 मापी गई। बता दें कि इंडोनेशिया प्रशांत "रिंग ऑफ फायर" पर अपनी स्थिति के कारण लगातार भूकंप और ज्वालामुखी गतिविधियों से जूझता रहता है, जहां टेक्टोनिक प्लेटें टकराती हैं। पिछले सितंबर में भी सुलावेसी द्वीप के पलाउ में 7.5 तीव्रता का भूकंप आया था। तब भूकंप के बाद आई सुनामी से 2200 से अधिक लोग मारे गए थे और 1000 से अधिक लोग लापता हो गए थे।