तुलसी गबार्ड ने हिलेरी क्लिंटन के खिलाफ ठोका 350 करोड़ मानहानि का मुकदमा

us
तुलसी गबार्ड ने हिलेरी क्लिंटन के खिलाफ ठोका 350 करोड़ मानहानि का मुकदमा

नई दिल्ली। अमेरिका में इस साल होने वाले राष्ट्रपति चुनाव से पहले नेताओं में आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है। अमेरिकी कांग्रेस में पहली हिंदू सांसद एवं देश के राष्ट्रपति पद के चुनाव में डेमोक्रेटिक उम्मीदवार बनने की दावेदार तुलसी गबार्ड ने अमेरिका की पूर्व विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन के खिलाफ मानहानि का मामला दर्ज कराया है। मानहानि के मुकदमे के बदले तुलसी गबार्ड ने हिलेरी क्लिंटन से 50 मिलियन अमेरिकी डॉलर का मुआवजा मांगा है।  
गबार्ड ने आरोप लगाया है कि हिलेरी ने उन्हें 2020 में व्हाइट हाउस की दौड़ में रूसी पूंजी और रूसियों की पसंदीदा बताकर उनकी प्रतिष्ठा को ठेस पहुंचाई है। सदर्न डिस्ट्रिक्ट ऑफ न्यूयॉर्क में बुधवार को मामला दर्ज कराया गया।

Tulsi Gabbard Files 350 Million Defamation Suit Against Hillary Clinton :

38 वर्षीय गबार्ड ने कहा कि हिलेरी का मुझे रूसी पूंजी कहने का मकसद केवल मेरी प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाना और राष्ट्रपति चुनाव के लिए मेरी प्रचार मुहिम को पटरी से उतारना ही नहीं है, बल्कि इसका इरादा यथा स्थिति के खिलाफ बोलने की हिम्मत करने वाली हर आवाज को चुप कराना है।

हिलेरी ने कहा था- “मैं कोई अंदाजा नहीं लगा रही, लेकिन लगता है कि उन्हें (रूसी एजेंसियों को) राष्ट्रपति पद के लिए डेमोक्रेटिक पार्टी से ऐसा उम्मीदवार मिल गया है, जो चुनाव में किसी तीसरी पार्टी (डेमोक्रेट और रिपब्लिकन के इतर) से खड़ा हो सके। हिलेरी ने गबार्ड का नाम लिए बगैर कहा था कि वे रूसी एजेंसियों की पसंदीदा हैं। रूस के पास उसका समर्थन करने के लिए कुछ वेबसाइट्स और प्रोग्राम हैं।  

नई दिल्ली। अमेरिका में इस साल होने वाले राष्ट्रपति चुनाव से पहले नेताओं में आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है। अमेरिकी कांग्रेस में पहली हिंदू सांसद एवं देश के राष्ट्रपति पद के चुनाव में डेमोक्रेटिक उम्मीदवार बनने की दावेदार तुलसी गबार्ड ने अमेरिका की पूर्व विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन के खिलाफ मानहानि का मामला दर्ज कराया है। मानहानि के मुकदमे के बदले तुलसी गबार्ड ने हिलेरी क्लिंटन से 50 मिलियन अमेरिकी डॉलर का मुआवजा मांगा है।   गबार्ड ने आरोप लगाया है कि हिलेरी ने उन्हें 2020 में व्हाइट हाउस की दौड़ में रूसी पूंजी और रूसियों की पसंदीदा बताकर उनकी प्रतिष्ठा को ठेस पहुंचाई है। सदर्न डिस्ट्रिक्ट ऑफ न्यूयॉर्क में बुधवार को मामला दर्ज कराया गया। 38 वर्षीय गबार्ड ने कहा कि हिलेरी का मुझे रूसी पूंजी कहने का मकसद केवल मेरी प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाना और राष्ट्रपति चुनाव के लिए मेरी प्रचार मुहिम को पटरी से उतारना ही नहीं है, बल्कि इसका इरादा यथा स्थिति के खिलाफ बोलने की हिम्मत करने वाली हर आवाज को चुप कराना है। हिलेरी ने कहा था- “मैं कोई अंदाजा नहीं लगा रही, लेकिन लगता है कि उन्हें (रूसी एजेंसियों को) राष्ट्रपति पद के लिए डेमोक्रेटिक पार्टी से ऐसा उम्मीदवार मिल गया है, जो चुनाव में किसी तीसरी पार्टी (डेमोक्रेट और रिपब्लिकन के इतर) से खड़ा हो सके। हिलेरी ने गबार्ड का नाम लिए बगैर कहा था कि वे रूसी एजेंसियों की पसंदीदा हैं। रूस के पास उसका समर्थन करने के लिए कुछ वेबसाइट्स और प्रोग्राम हैं।