1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. तुलसी का विवाह 2021: इस एकादशी के दिन तुलसी और शालीग्राम का होता है विवाह, ऐसे करें पूजन

तुलसी का विवाह 2021: इस एकादशी के दिन तुलसी और शालीग्राम का होता है विवाह, ऐसे करें पूजन

इस बार देवउठनी एकादशी 15 नवंबर को मनाई जाएगी। इसे देव प्रबोधिनी एकादशी और देवोत्थान एकादशी भी कहा जाता है।

By अनूप कुमार 
Updated Date

तुलसी का विवाह 2021: इस बार देवउठनी एकादशी 15 नवंबर को मनाई जाएगी। इसे देव प्रबोधिनी एकादशी और देवोत्थान एकादशी भी कहा जाता है। हिंदू धर्म में मान्‍यता है कि हर साल इस दिन माता तुलसी जी और भगवान विष्‍णु के शीलाग्राम अवतार के साथ विवाह होता है। चतुर्मास के दौरान भगवान विष्णु चार महीने का शयन काल पर होते हैं। देव उठानी एकादशी के दिन जागते हैं। इस दिन माता तुलसी का विवाह शालीग्राम के साथ संपन्न करवाया जाता है। इसी दिन से शादी-ब्याह और शुभ कार्यों की शुरुआत होती है।

पढ़ें :- Dev Uthani Ekadashi 2021: देवउठनी एकादशी के दिन खाने का रखें विशेष ध्यान, नहीं तो देवता हो जाएंगे नाराज

तुलसी पूजा में रखें इन बातों का ख्‍याल

-इस दिन भगवान विष्णु के शालीग्राम अवतार और तुलसी जी का विवाह किया जाता है।
-मान्‍यता है कि इस दिन हर सुहागिन स्त्री को तुलसी विवाह जरूर करना चाहिए।
– इस पूजा को सच्‍चे मन से करने पर अंखड सौभाग्य और सुख-समृद्धि का प्राप्ति होती है।
– तुलसी पूजा के समय मां तुलसी को सुहाग का सामान और लाल चुनरी जरूर अर्पित करना चाहिए।
– इस दिन तुलसी चबूतरे पर तुलसी पौधे के साथ शालीग्राम को रखें और तिल चढ़ाएं।
-तुलसी और शालीग्राम को दूध में भीगी हल्दी का तिलक अवश्य लगाएं।
पूजा के बाद 11 बार तुलसी जी की परिक्रमा करें।
– इस दिन प्रसाद का भोग अवश्य लगाएं और लोगों में वितरण करें।
– तुलसी पूजा के समापन के बाद शाम को भगवान विष्णु से जागने का आह्वान करें।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...