1. हिन्दी समाचार
  2. कानपुर में जहरीली शराब से दो की मौत, छह गंभीर हालत में भर्ती

कानपुर में जहरीली शराब से दो की मौत, छह गंभीर हालत में भर्ती

Two Died Due To Poisonous Liquor In Kanpur Six Admitted In Critical Condition

By टीम पर्दाफाश 
Updated Date

कानपुर: कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए जारी लॉकडाउन में जहां शराब के ठेके बंद हैं तो वहीं शराब के ठेकों में बराबर चोरी की घटनाएं भी सामने आ रही हैं। शराब की बढ़ती मांग को देखते हुए कानपुर में एक बार फिर मिलावटी शराब का जिन्न बाहर आ गया और ग्रामीण क्षेत्रों में जहरीली शराब बेची जा रही है। जहरीली शराब से दो लोगों की मौत के बाद जागे प्रशासन ने एसओ को जहां फटकार लगायी तो वहीं अस्पताल में अन्य छह गंभीर रुप से भर्ती लोगों का आलाधिकारियों ने हालचाल लिया।

पढ़ें :- महिलाओं को ये काम करते कभी ना देखें वरना हो सकती है बड़ी भूल

लॉकडाउन में तस्कर आबकारी और पुलिस से मिलीभगत कर धड़ल्ले से मिलावटी शराब बेच रहे हैं। ये किसी से छिपा नहीं है। तस्कर से खरीदी जहरीली शराब पीने से घाटमपुर नगर के सजेती थाना क्षेत्र स्थित मवई भच्छन गांव में स्वास्थ्यकर्मी और ट्रक ड्राइवर की मौत हो गई है। गांव के प्रधान सहित छह गंभीर हालत में हैलट में भर्ती हैं। बताया जा रहा है कि गांव का ट्रक ड्राइवर अनूप सचान (32) शुक्रवार को घाटमपुर कस्बा बाल कटवाने गया था। वहां से देर शाम शराब लेकर लौटा। गांव के प्रधान रणधीर यादव, पूर्व प्रधान विपिन सचान के बेटे फतेहपुर के अमौली में स्वास्थ्यकर्मी अंकित सचान (30) और गांव के रमन सचान, प्रिंस सचान, पुत्तन यादव, विवेक शर्मा व लालजी ने एक साथ शराब पी।

देर रात ही सभी शराब पीनेवालों की हालत खराब होने पर परिजन और ग्रामीण आननफानन सीएचसी ले गए, जहां से गंभीर हालत में हैलट रेफर कर दिया गया। शनिवार को अनूप और अंकित की इलाज के दौरान मौत हो गई। दोनों के मौत की जानकारी गांव पहुंची तो हड़कंप मच गया। हैलट में भर्ती प्रधान सहित छह लोगों की हालत गंभीर बनी है। सजेती एसओ मुकेश सोलंकी ने बताया कि लॉकडाउन की बंदी में शराब कहां से लाई गई थी। इसकी जानकारी जुटाई जा रही है।

हैलट पहुंचे आलाधिकारी

जहरीली शराब से दो लोगों की मौत से आलाधिकारियों में हड़कंप मच गया क्योंकि इन दिनों लॉकडाउन जारी है और ऐसे में जहरीली शराब से दो मौतों पर शासन ने संज्ञान ले लिया। रविवार को जिलाधिकारी डा. ब्रह्म देव राम तिवारी और एसएसपी अनंत देव ने हैलट अस्पताल पहुंचे और जहरीली शराब पीने से गंभीर रुप से भर्ती प्रधान सहित छह लोगों का हालचाल लिये। आलाधिकारियों ने प्रधान से जहरीली शराब के संबंध में जानकारी भी जुटाई। बताया जा रहा है आलाधिकारियों ने सजेती एसओ को जमकर तो फटकार लगायी ही है, साथ ही पूरे मामले के तह तक जाने के लिए एलआईयू को भी रिपोर्ट सौंपने को कहा गया है।

पढ़ें :- पैर भी बताते हैं कितने भाग्यशाली हैं आप, जानिए क्या है समुद्रशास्त्र

एसएसपी ने बताया कि पूरे मामले की जांच की जा रही है अगर कहीं भी इसमें पुलिस की मिलीभगत सामने आ रही है तो सख्त कार्रवाई की जाएगी। जिलाधिकारी ने कहा कि इस लॉकडाउन में अगर मिलावटी शराब बिक रही है तो मामला गंभीर है, पुलिस के साथ ही प्रशासनिक अधिकारियों को भी इसकी तह तक जाने के लिए लगाया गया है और दोषियों के खिलाफ जल्द ही कार्रवाई करके सलाखों के पीछे पहुंचाया जाएगा। इसके साथ ही ग्राम स्तर के प्रशासन से जुड़े लोगों को निर्देशित किया गया है कि इस लॉकडाउन में जो भी कहीं भी शराब पीता दिखे तो उसकी जानकारी उपलब्ध करायें।

ग्रामीण क्षेत्र में सक्रिय हैं मिलावटखोर

मिलावटी शराब का धंधा कानपुर में नया नहीं है और खासतौर पर ग्रामीण क्षेत्र में यह धंधा लुके छिपे बराबर चलता रहता है। यह अलग बात है जब कोई हादसा हो जाता है तो कुछ दिनों के लिए मिलावटखोर शांत हो जाते है, पर जैसे ही मामला ठंडे बस्ते में जाता है तो फिर वह अपना काम शुरु कर देते हैं। इन दिनों लॉकडाउन में शराब की बिक्री बंद होने पर मिलावटखोर ग्रामीण क्षेत्र में सक्रिय हैं और हादसे को दावत दे रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...