जासूसी का आरोप लगने के बाद भारतीय उच्चायोग के 2 अन्य कर्मचारियों ने पाकिस्तान छोड़ा

इस्लामाबाद| इस्लामाबाद स्थित भारतीय उच्चायोग के दो अन्य कर्मचारियों ने ‘अवांछित’ घोषित किए जाने के बाद पाकिस्तान छोड़ दिया। उन पर जासूसी का आरोप लगाया गया है। जियो न्यूज के मुताबिक, राजनयिक सूत्रों ने दोनों कर्मचारियों पर भारतीय खुफिया ब्यूरो (आईबी) के अधिकारी होने का आरोप लगाया है। अधिकारियों में प्रथम प्रेस सचिव बीलबीर सिंह और जियोबालन सैंथल शामिल हैं।




दोनों अधिकारी विदेशी उड़ान से बुधवार देर रात इस्लामाबाद हवाईअड्डे से रवाना हो गए हैं। इससे पहले अवांछित घोषित किए गए भारतीय उच्चायोग के सात में से तीन अधिकारी आठ नवंबर को भारत के लिए रवाना हो चुके हैं। उनमें प्रथम वाणिज्यिक सचिव अनुराग सिंह, विजय कुमार वर्मा और मंधावन नंद कुमार शामिल हैं।

पाकिस्तान ने भारतीय उच्चायोग के सात अधिकारियों को जासूसी के आरोप में निष्कासित किया है। शेष तीन अधिकारियों के भी गुरुवार को ही वाघा सीमा के रास्ते भारत के लिए रवाना होने की संभावना है। पाकिस्तानी प्रशासन ने दो नवंबर को भारतीय राजनयिकों के जासूसी नेटवर्क का भंडाफोड़ करने का दावा किया था। इसमें कहा गया था कि ये अधिकारी आतंकवाद में सहायता और वित्त पोषण के जरिए पाकिस्तान को अस्थिर करने की गतिविधियों में शामिल थे।