कांग्रेस के वॉकआउट के बाद भी लोकसभा में UAPA बिल पास, गृहमंत्री बोले-सुरक्षा से समझौता नहीं

amit shah
कांग्रेस के वॉकआउट के बाद भी लोकसभा में UAPA बिल पास, सत्ता पक्ष और विपक्ष में जोरदार बहस

नई दिल्ली। लोकसभा में बुधवार को गैरकानूनी रोकथाम संशोधन बिल (UAPA Bill 2019) पास हो गया। इस विषय पर सत्ता पक्ष और विपक्ष दोनों के बीच जोरदार बहस हुई। इस बिल को पास कराने के लिए सदस्यों को खड़ा कराकर मत विभाजन कराया गया। इस विधेयक के पक्ष में 288 वोट पड़े तो विपक्ष में 8 मत पड़े। बिल पर बहस के दौरान गृह मंत्री अमित शाह ने सरकार का पक्ष रखा।

Uapa Bill Passes In Lok Sabha :

गृह मंत्री ने कहा कि, आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई सरकार लड़ती है, कौन-सी पार्टी उस समय सत्ता में हैं उससे फर्क नहीं पड़ना चाहिए। विपक्ष को मुद्दे उठाने हैं तो उठाएं, लेकिन ये कह कर नहीं उठाने चाहिए कि ये हम लेकर आए, वो ये लेकर आए। गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि, आतंवाद बंदूक से पैदा नहीं होता, जबकि यह आतंकवाद उन्माद फैलाने वाले प्रचार से पैदा होता है। उन्होंने कहा कि आप पूछते हैं आतंकवाद के खिलाफ कठोर कानून क्यों बना रहे हैं? मैं कहता हूं आतंकवाद के खिलाफ कठोर से कठोर कानून होना चाहिए।

अमित शाह ने कहा कि, ये कानून किस सरकार ने बतया? कौन इसमें संशोधन करके कठोर बनाता गया? जब यह कानून बना तब वह एक सही कदम था, अब इसमें बदलाव हो रहा है, वह भी एक सही कदम है। वहीं, गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) संशोधन विधेयक को स्टैंडिंग कमेटी को भेजे जाने की मांग पर कांग्रेस का लोकसभा से वॉक आउट किया।

नई दिल्ली। लोकसभा में बुधवार को गैरकानूनी रोकथाम संशोधन बिल (UAPA Bill 2019) पास हो गया। इस विषय पर सत्ता पक्ष और विपक्ष दोनों के बीच जोरदार बहस हुई। इस बिल को पास कराने के लिए सदस्यों को खड़ा कराकर मत विभाजन कराया गया। इस विधेयक के पक्ष में 288 वोट पड़े तो विपक्ष में 8 मत पड़े। बिल पर बहस के दौरान गृह मंत्री अमित शाह ने सरकार का पक्ष रखा। गृह मंत्री ने कहा कि, आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई सरकार लड़ती है, कौन-सी पार्टी उस समय सत्ता में हैं उससे फर्क नहीं पड़ना चाहिए। विपक्ष को मुद्दे उठाने हैं तो उठाएं, लेकिन ये कह कर नहीं उठाने चाहिए कि ये हम लेकर आए, वो ये लेकर आए। गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि, आतंवाद बंदूक से पैदा नहीं होता, जबकि यह आतंकवाद उन्माद फैलाने वाले प्रचार से पैदा होता है। उन्होंने कहा कि आप पूछते हैं आतंकवाद के खिलाफ कठोर कानून क्यों बना रहे हैं? मैं कहता हूं आतंकवाद के खिलाफ कठोर से कठोर कानून होना चाहिए। अमित शाह ने कहा कि, ये कानून किस सरकार ने बतया? कौन इसमें संशोधन करके कठोर बनाता गया? जब यह कानून बना तब वह एक सही कदम था, अब इसमें बदलाव हो रहा है, वह भी एक सही कदम है। वहीं, गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) संशोधन विधेयक को स्टैंडिंग कमेटी को भेजे जाने की मांग पर कांग्रेस का लोकसभा से वॉक आउट किया।