1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. उद्धव सरकार ने शासन करने का नैतिक अधिकार खोया : रविशंकर प्रसाद

उद्धव सरकार ने शासन करने का नैतिक अधिकार खोया : रविशंकर प्रसाद

महाराष्ट्र के गृह मंत्री पद से अनिल देशमुख के इस्तीफे के बाद बीजेपी हमलावर हो गई है। सोमवार को केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने गृह मंत्री के इस्तीफे को लेकर उद्धव सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि उद्धव सरकार ने शासन करने का नैतिक अधिकार खो दिया है।

By शिव मौर्या 
Updated Date

नई दिल्ली। महाराष्ट्र के गृह मंत्री पद से अनिल देशमुख के इस्तीफे के बाद बीजेपी हमलावर हो गई है। सोमवार को केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने गृह मंत्री के इस्तीफे को लेकर उद्धव सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि उद्धव सरकार ने शासन करने का नैतिक अधिकार खो दिया है। रविशंकर प्रसाद ने कहा कि मुझे दिलचस्प लग रहा है कि अनिल देशमुख ने नैतिक जिम्मेदारी ली है। मुख्यमंत्री की जिम्मेदारी का क्या? उद्धव ठाकरे ने सरकार चलाने का नैतिक अधिकार को खो दिया है।

पढ़ें :- Anil Deshmukh को जज ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेजा, कहा कि पहले जेल की रोटी खाओ

रविशंकर प्रसाद ने कहा कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे खामोश हैं। शरद पवारजी करते हैं कि मंत्री के बारे में फैसला मुख्यमंत्री करते हैं। कांग्रेस व शिवसेना कहती है कि देशमुख जी के बारे में फैसला एनसीपी करेगी। आज तो कमाल हो गया, शरद पवार से अनुमति के बाद मुख्यमंत्री को इस्तीफा सौंपा गया। हमने यह विषय उठाया था कि ये टारगेट सिर्फ एक शहर मुंबई का है तो पूरे महाराष्ट्र का टारगेट क्या था? यह टारगेट सिर्फ एक मंत्री का है तो बाकी मंत्री का टारगेट क्या है? हम शुरू से एक स्वतंत्र निष्पक्ष जांच की मांग कर रहे थे और मुंबई पुलिस के द्वारा यह संभव नहीं था।

‘कब बोलेंगे उद्धव ठाकरे?

रविशंकर प्रसाद ने आगे कहा कि जैसा आरोप लगाया गया था कि देशमुख ने सचिन वाझे को कहा था कि मुबंई में 17 सौ बार और रेस्टोरेंट हैं तो आप 100 करोड़ रुपये कलेक्शन कर के दीजिए। हम भी जानते हैं कि शरद पवार के इशारे पर ही वे इस्तीफा देते या न देते। लेकिन उद्धव ठाकरे कब बोलेंगे? उनकी खामोशी कई सवाल खड़े कर रही है। प्रमुख राजनीतिक दल के रूप में बीजेपी की अपेक्षा है कि इस मामले की सारी परतें खोली जाएं। देशमुख जो उगाही की मांग कर रहे थे, वह अपने लिए कर रहे थे या अपनी पार्टी के लिए कर रहे थे या पूरी सरकार के लिए कर रहे थे?

मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह के आरोपों के मामले में बीजेपी ने निष्पक्ष तरीके से जांच की मांग की है। रविशंकर प्रसाद ने कहा है कि बीजेपी को उम्मीद है कि इस मुद्दे पर निष्पक्ष, ठीक तरीके से जांच की जाएगी और इसमें शामिल होने वाले लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया जाएगा। प्रसाद ने आगे कहा कि पवारजी देश के एक वरिष्ठ राजनीतिक नेता हैं। उन्हें अनिल देशमुख को पूरी तरह से क्लीन चिट देने के निहितार्थ को समझना चाहिए।

पढ़ें :- CBI से महाराष्ट्र के पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख को मिली क्लीन चिट?, FIR की कॉपी वायरल

हाई कोर्ट के सीबीआई जांच के आदेश के बाद देशमुख ने दिया इस्तीफा

बता दें कि महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह के वसूली संबंधी आरोपों पर हाई कोर्ट द्वारा सीबीआई जांच का आदेश दिए जाने के बाद सोमवार को अपने पद से इस्तीफा दे दिया। एनसीपी नेता नवाब मलिक ने संवाददाताओं से कहा कि देशमुख ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को अपना इस्तीफा सौंप दिया है। देशमुख ने भी इस्तीफे की एक प्रति ट्वीट की जिसमें उन्होंने कहा कि अधिवक्ता जयश्री पाटिल की याचिका पर हाई कोर्ट ने आरोपों की सीबीआई जांच का आदेश दिया है। उन्होंने पत्र में लिखा कि अदालत के आदेश के बाद मेरे पास पद पर बने रहने का नैतिक अधिकार नहीं है। मैंने पद छोड़ने का निर्णय किया है। कृपया मुझे मेरे पद से कार्यमुक्त करें।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...