बुलंदशहर में साधुओं की हत्या पर योगी को फोन कर बोले उद्धव ठाकरे, कहा- हमारी तरह लें कड़ा एक्शन

155Trains_will_not_open_now,_they_are_removing_the_way_to_send_laborers_home,_Uddhav_Thackeray

मुंबई: देश जिस वक्त कोरोना वायरस महामारी के संकट से जूझ रहा है, उस वक्त उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में दो संतों की हत्या करने का चौंकाने वाला मामला सामने आया है. इसी घटना को लेकर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मंगलवार को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से फोन पर बात की और कड़ा एक्शन लेने की अपील की.बता दें कि इससे पहले महाराष्ट्र के पालघर में जब दो साधुओं समेत तीन लोगों की हत्या हुई थी, तब योगी आदित्यनाथ ने उद्धव ठाकरे को फोन कर घटना पर चिंता व्यक्त की थी और दोषियों के खिलाफ कड़े एक्शन की अपील की थी.

Uddhav Thackeray Calling Yogi On Killing Of Sadhus In Bulandshahr Said Take Tough Action Like Us :

मंगलवार को उद्धव ठाकरे ने जब योगी आदित्यनाथ को फोन किया, तब उन्होंने अपील करते हुए कहा कि हमें साथ मिलकर ऐसे मामलों में कड़ा एक्शन लेना चाहिए और राजनीति को इससे दूर रखना चाहिए. उद्धव की ओर से कहा गया कि जिस तरह हमने पालघर मामले के बाद कड़ा एक्शन लिया, आप भी उसी तरह कड़ा एक्शन लें.उद्धव ठाकरे के अलावा शिवसेना सांसद संजय राउत ने मांग करते हुए कहा कि बुलंदशहर में साधुओं की हत्या के मामले को धार्मिक रंग नहीं देना चाहिए.

बुलंदशहर में हुई दो साधुओं की हत्या
आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में अनूपशहर इलाके के एक गांव में मंदिर में सो रहे दो साधुओं की हत्या कर दी गई. शिव मंदिर में यहां 55 साल के साधु जगनदास, 35 साल के साधु सेवादास रहते थे, जिन्हें सोमवार की देर रात को धारधार हथियार से मौत के घाट उतार दिया गया.गांव के लोगों ने आरोपी व्यक्ति को पुलिस के हवाले किया है, शुरुआती जांच में पता चला है कि चिमटा चोरी करने पर साधुओं ने व्यक्ति को काफी डांटा था जिसका बदला लेने के लिए उसने उनकी हत्या कर दी.

पालघर के बाद बुलंदशहर पर राजनीति गर्म
महाराष्ट्र के पालघर में भी बीते दिनों दो साधुओं और उनके ड्राइवर की भीड़ ने हत्या कर दी थी. उसमें भी चोरी से जुड़ी एक अफवाह ने काम बिगाड़ दिया था, जिसके बाद काफी बवाल हुआ. महाराष्ट्र पुलिस ने अभी तक उस मामले में 100 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया है.वहीं, अब बुलंदशहर मामले को लेकर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी सख्ती बरती है और अधिकारियों से तुरंत पूरे मामले को निपटाने के लिए कहा है. दूसरी ओर कांग्रेस समेत अन्य विपक्षी पार्टियों की ओर से उत्तर प्रदेश में लगातार सामने आ रहे हत्या के मामलों को लेकर सरकार से जवाब मांगा है.

मुंबई: देश जिस वक्त कोरोना वायरस महामारी के संकट से जूझ रहा है, उस वक्त उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में दो संतों की हत्या करने का चौंकाने वाला मामला सामने आया है. इसी घटना को लेकर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मंगलवार को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से फोन पर बात की और कड़ा एक्शन लेने की अपील की.बता दें कि इससे पहले महाराष्ट्र के पालघर में जब दो साधुओं समेत तीन लोगों की हत्या हुई थी, तब योगी आदित्यनाथ ने उद्धव ठाकरे को फोन कर घटना पर चिंता व्यक्त की थी और दोषियों के खिलाफ कड़े एक्शन की अपील की थी. मंगलवार को उद्धव ठाकरे ने जब योगी आदित्यनाथ को फोन किया, तब उन्होंने अपील करते हुए कहा कि हमें साथ मिलकर ऐसे मामलों में कड़ा एक्शन लेना चाहिए और राजनीति को इससे दूर रखना चाहिए. उद्धव की ओर से कहा गया कि जिस तरह हमने पालघर मामले के बाद कड़ा एक्शन लिया, आप भी उसी तरह कड़ा एक्शन लें.उद्धव ठाकरे के अलावा शिवसेना सांसद संजय राउत ने मांग करते हुए कहा कि बुलंदशहर में साधुओं की हत्या के मामले को धार्मिक रंग नहीं देना चाहिए. बुलंदशहर में हुई दो साधुओं की हत्या आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में अनूपशहर इलाके के एक गांव में मंदिर में सो रहे दो साधुओं की हत्या कर दी गई. शिव मंदिर में यहां 55 साल के साधु जगनदास, 35 साल के साधु सेवादास रहते थे, जिन्हें सोमवार की देर रात को धारधार हथियार से मौत के घाट उतार दिया गया.गांव के लोगों ने आरोपी व्यक्ति को पुलिस के हवाले किया है, शुरुआती जांच में पता चला है कि चिमटा चोरी करने पर साधुओं ने व्यक्ति को काफी डांटा था जिसका बदला लेने के लिए उसने उनकी हत्या कर दी. पालघर के बाद बुलंदशहर पर राजनीति गर्म महाराष्ट्र के पालघर में भी बीते दिनों दो साधुओं और उनके ड्राइवर की भीड़ ने हत्या कर दी थी. उसमें भी चोरी से जुड़ी एक अफवाह ने काम बिगाड़ दिया था, जिसके बाद काफी बवाल हुआ. महाराष्ट्र पुलिस ने अभी तक उस मामले में 100 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया है.वहीं, अब बुलंदशहर मामले को लेकर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी सख्ती बरती है और अधिकारियों से तुरंत पूरे मामले को निपटाने के लिए कहा है. दूसरी ओर कांग्रेस समेत अन्य विपक्षी पार्टियों की ओर से उत्तर प्रदेश में लगातार सामने आ रहे हत्या के मामलों को लेकर सरकार से जवाब मांगा है.