एक बार फिर शुरू हुआ राजधानी का सबसे पुराना थियेटर उमराव

umrao
एक बार फिर शुरू हुआ राजधानी का सबसे पुराना थियेटर उमराव

लखनऊ। राजधानी के निशातगंज इलाके में स्थित उमराव मल्टीप्लेक्स का रविवार को शुभारंभ किया गया। सोमवार से दर्शकों के लिए यह मल्टीप्लेक्स शुरू हो गया है। राजधानी का यह तीसरा सिंगल सिनेमा है जो मल्टीप्लेक्स में तब्दील हुआ है। इस दौरान कैबिनेट मंत्री आशुतोष टंडन व मेयर संयुक्ता भाटिया मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित रहे।

Umrao The Oldest Theater In The Capital Once Again Started :

दरअसल, रविवार को केवल मेहमानों के लिए थियेटर शुरू किया गया, जिसमें जॉन अब्राहम अभिनीत फिल्म बाटला हाउस व अक्षय कुमार की मिशन मंगल दिखाई गई। उमराव के मालिक आशीष अग्रवाल ने बताया कि पिछले एक वर्ष से मल्टीप्लेक्स का काम चल रहा था, जिसके चलते इसे इतनी जल्दी शुरू किया जा सका। उन्होंने कहा कि 19 अगस्त 1976 में उमराव सिंगल सिनेमा की शुरुआत हुई थी, इसलिए 19 अगस्त को दोबारा इसे शुरू किया जा रहा है।

बता दें, इस उद्घाटन समारोह में गायिका अंकिता कपूर व कुलतार सिंह ने अपनी आवाज का जादू बिखेरा। अंकिता ने आओ हुजूर तुमको सितारों पर ले चलूं, कैसी पहेली है, जुगनी-जुगनी जैसे गीत गाकर समां बांधा। वहीं कुलतार ने बार बार देखो, गुलाबी आंखें जो तेरी देखीं, समां है सुहाना जैसे गीत पेश किए। अरशद खान ने कार्यक्रम के संचालन के साथ अपनी कॉमेडी से सभी को हंसने पर मजबूर कर दिया।

लखनऊ। राजधानी के निशातगंज इलाके में स्थित उमराव मल्टीप्लेक्स का रविवार को शुभारंभ किया गया। सोमवार से दर्शकों के लिए यह मल्टीप्लेक्स शुरू हो गया है। राजधानी का यह तीसरा सिंगल सिनेमा है जो मल्टीप्लेक्स में तब्दील हुआ है। इस दौरान कैबिनेट मंत्री आशुतोष टंडन व मेयर संयुक्ता भाटिया मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित रहे। दरअसल, रविवार को केवल मेहमानों के लिए थियेटर शुरू किया गया, जिसमें जॉन अब्राहम अभिनीत फिल्म बाटला हाउस व अक्षय कुमार की मिशन मंगल दिखाई गई। उमराव के मालिक आशीष अग्रवाल ने बताया कि पिछले एक वर्ष से मल्टीप्लेक्स का काम चल रहा था, जिसके चलते इसे इतनी जल्दी शुरू किया जा सका। उन्होंने कहा कि 19 अगस्त 1976 में उमराव सिंगल सिनेमा की शुरुआत हुई थी, इसलिए 19 अगस्त को दोबारा इसे शुरू किया जा रहा है। बता दें, इस उद्घाटन समारोह में गायिका अंकिता कपूर व कुलतार सिंह ने अपनी आवाज का जादू बिखेरा। अंकिता ने आओ हुजूर तुमको सितारों पर ले चलूं, कैसी पहेली है, जुगनी-जुगनी जैसे गीत गाकर समां बांधा। वहीं कुलतार ने बार बार देखो, गुलाबी आंखें जो तेरी देखीं, समां है सुहाना जैसे गीत पेश किए। अरशद खान ने कार्यक्रम के संचालन के साथ अपनी कॉमेडी से सभी को हंसने पर मजबूर कर दिया।